आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x

मनोरंजन

मनोरंजन से सम्बंधित लेख निम्नलिखित है :-

व्हाट्सएप के ये 10 स्क्रीनशॉट घुमाकर रख देंगे आपका दिमाग

आपके साथ ऐसा जरूर हुआ होगा।अक्सर ये सोचने में आता है कि व्हाट्सएप ने हमारी जिंदगी को आसान किया है या फिर और भी ज्यादा मुश्किल बना दिया है। कारण कि एक तरफ तो व्हाट्सएप पर बॉयफ्रेंड और गर्लफ्रेंड बिजी नजर आते हैं तो दूसरी ही तरफ उनके पैरेन्ट्स भी इसका इस्तेमाल करते हुए उनकी डीपी और स्टेटस पर 24 घंटे न



पाकिस्तानी न्यूज़ चैनल ने दिखाई ओम पुरी की भटकती आत्मा का ये वीडियो

एक पाकिस्तानी टीवी न्यूज चैनल ने दावा किया है कि ओम पुरी की आत्मा कई दिनों से मुंबई की सड़कों पर भटक रही है।पाकिस्तानी पत्रकार आमिर लियाकत का कहना है कि ओमपुरी की आत्मा कई दिनों से मुंबई की सड़को पर भटक रही है। ओम पुरी की आत्मा को पिछले कई दिनों से उस सोसायटी में द



नेमतें बाहम रहें...

ऐसी कोई ख्वाहिश न थी,न ही इम्कां रखते थे कोई,कि वो समझेंगे जो कहेंगे हम।मुख्तसर सी ये गुजारिश कि,बैठें, रूबरू रहें, संग चलें,कि हमसायगी की कोई शक्ल बने।आसनाई मंसूब हो, फिर ये होगा,दरमियां कुछ सुर साझा हो चलेंगे,राग मुक्तिलिफ होंगे, लुत्फ का एका होगा।फर्क है भी नहीं



एक्सीडेंट से पहले ली गई ये तस्वीरें देख कर, हँसी नहीं रोक पाएंगे आप

आइये थोड़ा हँस लिया जाए।SPONSOREDएक बार की बात है, मैं और मेरी दोस्त कॉलेज जा रहे थे। मैंने उससे कहा कि पीछे बैठ जाइये, जैसे ही वो बैठने लगी मैंने गाड़ी आगे बढ़ा दी, और वो बेचारी मेरी दोस्त सीधे ज़मीन पर जा गिरी। खैर हँसी नहीं आई ना, कोई बात नहीं, अब हर चीज़ हँसाने के लिए होती भी नहीं। हा हा हा हा...अरे



लगी शर्त! इन न्यूज़ हेडलाइंस को पढ़कर आप अपनी हँसी नहीं रोक पाएँगे

न्यूज़ हेडलाइंस लिखने में हुई गलतियाँ जो बनी मज़ाक की वजह। समाचार पत्र या न्यूज़पेपर्स सिर्फ़ इसलिए जाने जाते हैं क्योंकि न केवल ये हम तक दुनियाँ में हो रही घटनाओं की खबरें पहुँचाते हैं बल्कि हमारे नॉलेज को बढ़ाने का भी काम करते हैं। लेकिन आजकल नम्बर 1 बनने की होड़ और टीआरपी बढ़ाने के चक्कर में न्यूज़पेपर्स



आख़िरकार ऊपर वाले ने हमारी सुन ली! अब टेलीविज़न पर नहीं दिखाई देगा ‘पहरेदार पिया की’

अपने अजीबो-गरीब कांसेप्ट के साथ दिन-रात पॉपुलर हो रहे शो 'पहरेदार पिया की' को ले कर पिछले कुछ दिनों से आवाज़ उठ रही है. लोगों का कहना है कि इस शो से बच्चों के दिमाग पर गलत असर पड़ रहा है. इस शो को बंद करने को ले कर लोगों ने 10 अगस्त को एक ऑनलाइन Petition डाली.इस Petition में कहा गया कि एक 10 साल का बच



16 ऐसे विचार जिन्हें पढ़कर आपको लगेगा जैसे किसी ने लिख दी हो आपके मन की बात

कुछ बातें जो आपके दिल को छू जाएगी।कभी-कभी कुछ बातें इतनी अच्छी लिखी होती है कि उन्हें पढ़ने के बाद लगता है कि बस थम जाओ। कुछ ऐसी बात जो हमारे भीतर तो बहुत समय से रहती है, लेकिन उसे बयां करने के लिए सही शब्द नहीं मिल पाते। आज हम आपको कुछ ऐसे ही कोट्स बताने वाले हैं, जिन्हें पढ़कर आपको लगेगा कि "हाँ, ये



कपड़े उतारना नहीं है आसां बस इतना समझ लीजे, एक सोशल मीडिया का दरिया है और वायरल होते जाना है…

वायरल होकर फेमस हो जाना एक नशा है, सेलिब्रेटी हो या आम इंसान… इस नशे की जद में हर कोई जकड़ा हुआ है। फटा-फट फेमस होने के एक सूत्रीय कार्यक्रम में लोग अजीबो-गरीब हरकतें करते हैं। कोई अपने कपड़े फाड़ रहा है तो कोई दूसरों के। सोशल मीडिया पर वेल्लेपंती की इतनी अति है कि लोग दू



लव मैरिज करना चाहिए या अरेंज मैरिज? आप जानना चाहेंगे इसका जवाब

प्यार की अपनी अलग खूबसूरती और चार्म होता है। फिर चाहे वो शादी के बाद हो या शादी के पहले। आज कल की जनरेशन में सबसे कॉमन बहस, प्यार को लेकर ही की जाती है। बस इस बहस का नाम बदल दिया गया है। इस बहस को अब हम लव मैरिज या अरेंज मैरिज का चश्मा लगाकर देखते हैं।खैर, स्कूल या कॉलेज



देखें वीडियो - बच्चों ने कर दी ऐसी शरारत, शर्म से लाल हो गए मास्साब!

स्कूल और कॉलेज में लगभग हर किसी ने मास्टर जी के साथ शरारत की होगी। कभी उलटे सीधे प्रश्न पूछकर तो कभी क्लास में पीछे से गाना गाकर। क्लास में सबसे पहली रो वाली बेंच पर बैठने वाले बच्चे पढ़ाकू होते हैं। लेकिन बैक बेंचर्स क्लास में पढ़ते कम मौज मस्ती ज्यादा करते हैं। उन्हीं कुछ बैक बेंचर्स में से इन स्ट



बिना निष्कर्ष की कहानी....

<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedContent> <w:AlwaysShowPlaceh



एशा गुप्ता की वायरल तस्वीर के स्वास्थ्य वर्धक किस्से

एशा गुप्ता तो गदर काटे हैं गुरू. उनकी तस्वीरें तापमान बढ़ाए पड़ी हैं. एशा गुप्ता की फिल्मों से ज्यादा उनका इंस्टाग्राम एकाउंट गूगल सर्च हो रहा है. काहे न हो, उनके फोटो देखने से कई आंखों की बुझती हुई ज्योति वापस आ गई है. इतना हंगामा बरपा है कि राम से काम. खैर हमको अपने काम



भूलकर भी इन 10 शब्दों को गूगल पर ना करें सर्च, तस्वीरें देखकर चकरा जाएगा आपका दिमाग

'गूगल' एक ऐसा टूल है जो सिर्फ सर्च इंजन नहीं है, बल्कि भगवान हो गया है। दिमाग में कोई भी सवाल आए तो झट से गूगल कर लो। कोई ना कोई जवाब तो मिल ही जाएगा। आप भी अक्सर कई सवालों के जवाब गूगल पर ढूंढते होंगे। आपने गूगल पर कई तरह की तस्वीरें भी ढूंढी होगी। अक्सर ही ऐसा भी होता ह



दुख जैसा है, तभी अपना है

तेरा मिलना बहुत अच्च्छा लगे है, कि तू मुझको मेरे दुख जैसा लगे है...ये चर्चा, किसी के हुस्न की नही है। ना ये बयान है किसी के संग आसनाई के लुत्फ की। सीधे-सहज-सरल लफ्जों में यह तरजुमा है एक सत्य का। सच्चाई यह कि अपनापन और सोहबत की हदे-तकमील क्या है।अपना क्या है? कौन है?... वही जो अपने दुख जैसा है! मतलब



आवारगी भी कभी सोशलिस्ट हुआ करती थी...

चेतनाएं आवारा हो चली हैं,शब्द तो कंगाल हुए जाते हैं...लम्हों को इश्के-आफताब नसीब नहीं,खुशबु-ए-बज्म में वो जायका भी नहीं,मंटो मर गया तो तांगेवाला उदास हुआ,शहरों में अब ऐसे कोई वजहात् नहीं...!तकल्लुफ तलाक पा चुकी अख़लाक से,बेपर्दा तहजीब को यारों की कमी भी नहीं...।आवारगी भी कभी सोशलिस्ट हुआ करती थी,मनच



गुफतगूं ठुमरी सा बयां चाहती हैं...

<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedContent> <w:AlwaysShowPlaceh



चुप न रहो, कहते रहो...

मुझसे कहता है वो,क्या कहा, फिर से कहो,हम नहीं सुनते तेरी...चुप न रहो, कहते रहो,सुकूं है, अच्छा लगता है,पर जिद न करो सुनाने की...तुम्हारे साथ भी तन्हा हूं,तुम तो न समझोगे मगर,साथ रहो, चुप न रहो, कहते रहो...कठिन तो है यह राहगुजर,शजर का कोई साया भी नहीं,थोड़ी दूर मगर साथ चलो...भीड़ बहुत है, लोग कातिल हैं



दस्ते दुआ

गली में कुत्ते बहुत भोंकते हैं,बाजार में कोई हाथी भी नहीं...शोर का कुलजमा मसला क्या है,कुछ मुकम्मल पता भी नहीं...चीखना भी शायद कोई मर्ज हो,चारागर को इसकी इत्तला भी नहीं...मता-ए-कूचा कब का लुट चुका है,शहर के लुच्चों को भरोसा ही नहीं...दो घड़ी बैठ कर रास्ता कोई निकले,मर्दानगी को ये हुनर आता ही नहीं...य



कि गुलशन का करोबार चले...

कुछ पता न चलेपर कारोबार चले,भरोसा न भी चले,जिंदगी चलती चले,चलन है, तो चले,रुकने से बेहतर, चले,न चले तो क्या चले,यूं ही बेइख्तियार चले,सांसें, पैर, अरमान चले,फिर, क्यूं न व्यापार चले,सामां है तो हर दुकां चले,हर जिद, अपनी चाल चले,अपनों से, गैर से, रार चले,इश्क है, न ह



बाहुबली को बहू चाहिए!

Source- hdwallpapersभल्लाल की भले कहानियों में बाहुबली से न पटती हो. लेकिन सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर भाई का बड़ा ख्याल रखा जा रहा है. राणा डग्गुबाती जो फिल्म में भल्लाल बने थे. ट्विटर पर प्रभास के लिए बहू खोजते नजर आए. उनने ट्वीट कर शादी का पूरा विज्ञापन छाप डाला.View image on Twitter FollowRana Dagg



आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x