आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x

राजनीति

राजनीति से सम्बंधित लेख निम्नलिखित है :-

प्रधानमंत्री से लेकर बॉलीवुड के बादशाह तक, कोई नहीं बचा है तिरंगे की कॉन्ट्रोवर्सी से

बॉलीवुड एक्‍ट्रेस प्रियंका चोपड़ा एक बार फिर अपने पहनावे को लेकर सोशल मीडिया पर ट्रोल हो गई हैं. जिस वक़्त पूरा हिंदुस्तान आज़ादी की 70वीं सालगिरह मना रहा था, उस समय कुछ लोग ऐसे भी थे जो प्रियंका के कपड़ों को लेकर सोशल मीडिया पर उन्हें भला-बुरा कहने में जुटे थे. दरअसल, स्वतंत्रता दिवस के मौके पर प्र



नेहरू की बहन ने किया था एक मुसलमान से इश्क, जो गांधी को गवारा न हुआ?

आज जवाहरलाल नेहरू की बहन विजयलक्ष्मी पंडित का जन्मदिन है. और भारत के इतिहास में भाई-बहन की इतनी ताकतवर जोड़ी हुई नहीं है. फिर नेहरू की तरह विजया का जीवन भी कई तरह के विवादों में रहा.भारत की पहली औरत, जो मंत्री बनी‘गांधी परिवार’ की औरतों ने राजनीति में अपनी धमक हमेशा बनाई रखी है. इंदिरा गांधी और सोनिय



सब गुजरात में लगे रहे, अमित शाह यूपी में खेल कर गए

सपा और बीएसपी नेताओं ने जनता का ढेर सारा पैसा बचा दिया है. यह पैसा यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उनके चार मंत्रियों को सदन का सदस्य बनाने के लिए होने वाले विधानसभा चुनाव में खर्च होना था. हालांकि अब ऐसी नौबत नहीं आने वाली है. ऐसा इसलिए, क्योंकि सपा नेता अशोक वाजपे



क्यों हम बेटियों को बचाएँ

“मुझे मत पढ़ाओ , मुझे मत बचाओ,, मेरी इज्जत अगर नहीं कर सकते ,तो मुझे इस दुनिया में ही मत लाओमत पूजो मुझे देवी बनाकर तुम,मत कन्या रूप में मुझे 'माँ' का वरदान कहोअपने अंदर के राक्षस का पहले तुम खुद ही संहार करो।“ एक बेटी का दर्द चंडीगढ़ की स



नेता तो अब देश में नीलकंठ पक्षी हो गये हैं ....

आज – कल एक शब्द जो सबसे ज्यादा चर्चा और प्रयोग में रहता है वो नेता है. वो भी गलत कारणों से. समाचार पत्रों,व्यंग चित्रों,मंचीय कवियों की कविता ओं में और आम जनता की जुबान पर गाली की तरह अक्सर प्रयोग होते रहता है.नेता शब्द अब आम जन जीवन में नकारात्मकता के परिपेक्ष्य म



कि गुलशन का करोबार चले...

कुछ पता न चलेपर कारोबार चले,भरोसा न भी चले,जिंदगी चलती चले,चलन है, तो चले,रुकने से बेहतर, चले,न चले तो क्या चले,यूं ही बेइख्तियार चले,सांसें, पैर, अरमान चले,फिर, क्यूं न व्यापार चले,सामां है तो हर दुकां चले,हर जिद, अपनी चाल चले,अपनों से, गैर से, रार चले,इश्क है, न ह



राज्यसभा में बीजेपी बनी सबसे बड़ी पार्टी, कांग्रेस को छोड़ा पीछे

नई दिल्लीभारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) राज्यसभा में कांग्रेस को सीटों को मामले में पीछे छोड़ते हुए उच्च सदन की सबसे बड़ी पार्टी बन गयी। उच्च सदन में अब बीजेपी के 58 सदस्य हैं जबकि मुख्य विपक्षी दल के पास सिर्फ 57 सांसद हैं।मध्यप्रदेश में हुये उपचुनाव के बाद राज्यसभा में निर



भाजपा का ये नेता अमित शाह को सस्पेंड करवा सकता है

बहुत अच्छा लगता है, जब कोई सिविक सेंस को समझने वाला बंदा दिखाई पड़ता है. ऐसा बंदा जिसे नागरिक अधिकारों का एहसास भी हो और उस पर होने वाले अतिक्रमण की ख़बर भी हो. जिसे पता हो कि पब्लिक में लोगों को कैसे बिहेव करना चाहिए. ऐसे ही एक व्यक्ति से कल पूरा ट्विटर रूबरू हुआ. और यही व्यक्ति बीजेपी अध्यक्ष अमित श



मनोज तिवारी ने 'सांसद की गरिमा' को भाड़ में झोंककर गाना गाया

मनोज तिवारी बीजेपी के सांसद हैं. दिल्ली बीजेपी के अध्यक्ष हैं. भोजपुरी फिल्मों के पूर्व स्टार और पूर्व गायक हैं. पूर्व इसलिए कि उनके एक कार्यक्रम के दौरान दिल्ली में एक स्कूल टीचर ने गाने की रिक्वेस्ट की थी. तब उन्होंने बुरी तरह झिड़क दिया था. उसे हिंदी में समझा दिया था कि सांसद की भी कुछ गरिमा होती



सदन में मुलायम सिंह पर ये क्या बोल गए अखिलेश?

उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनावों के पहले से समाजवादी पार्टी में गृहयुद्ध शुरू हो गया था। पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने पूर्व प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल यादव को पार्टी के और मंत्रिमंडल के पद से हटा दिया था। इसके बाद ही अखिलेश यादव ने राष्ट्रीय अधिवेशन बुलाकर खुद को सपा का र



सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद को लेकर हुआ ‘बड़ा फैसला’!

उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनावों के पहले से समाजवादी पार्टी में गृहयुद्ध शुरू हो गया था। पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने पूर्व प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल यादव को पार्टी के और मंत्रिमंडल के पद से हटा दिया था। इसके बाद ही अखिलेश यादव ने राष्ट्रीय अधिवेशन बुलाकर खुद को सपा का रा



अमित शाह की संपत्ति बढ़ने पर सबसे सही बात इस आदमी ने बोली है!

आज मैं चाय की दुकान पर बैठ कर अख़बार पढ़ रहा था. दरअसल मैं अख़बार नहीं मंगाता. यहीं चाय की दुकान पर ही पढ़ लेता हूं. पैसे भी बच जाते हैं. बस एक दिक्कत होती है यहां, कभी भी पूरा का पूरा अख़बार एक साथ पढ़ने को नहीं मिलता है. एक पेज मेरे हाथ लगता है तो दूसरा पेज कोई और पढ़ रहा होता है. जब तक अगला पढ़ के ख़तम न



अमित शाह ने जमकर की योगी की तारीफ, शिवपाल के बीजेपी में शामिल होने पर दिया ये जवाब

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने सोमवार को उत्तर प्रदेश की जनता को भरोसा दिलाते हुए कहा कि उप्र में कानून का राज स्थापित होगा।भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने सोमवार को उत्तर प्रदेश की जनता को भरोसा दिलाते हुए कहा कि उ



राहुल गांधी के हिन्दू-विरोधी स्वर, विकिलीक्स ने खोली पोल

सत्तर साल पहले जब हमें अंग्रेजों से स्वतन्त्रता मिली थी, तबसे काँग्रेस ने इस देश पर एक अधिकांश समय तक राज किया। और अगर थोड़ी और परतें निकली जाएँ, तो पता चलेगा की अधिकांश समय सिर्फ एक परिवार का ही सिक्का चला। लाल बहादुर शास्त्री के संक्षिप्त शासन और पीवी नरसिम्हा राव के पाँ



यूपी: SP के 3 MLC का इस्तीफा, यशवंत सिंह-मधुकर जेटली ने योगी और दिनेश के लिए छोड़ी सीट!

लखनऊ: बिहार और गुजरात के बाद उत्तर प्रदेश की राजनीति में भी उथल-पुथल मच गई है. प्रदेश में पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी को तीन बड़े झटके लगे हैं. सपा के तीन विधान परिषद सदस्यों ने अपनी सीट से इस्तीफा दे दिया है. आज ही बीजेपी के राष्ट्रीय़ अध्यक्ष



अगर 27 जुलाई को नीतीश कुमार शपथ नही लेते तो हो जाती दिक्कत, इसलिए जानबूझकर…?

याद कीजिये 2015 में हुए बिहार विधानसभा चुनाव के नतीजों को, जिसमें बीजेपी को करारी हार मिली थी, करारी इसलिए क्योंकि जिस वक्त ये चुनाव हुआ उस वक्त माना जा रहा था कि मोदी लहर चल रही है और इस लहर के सहारे बीजेपी बिहार में भी अपनी नैय्या पार लगाना चाह रही थी लेकिन उसके सपन



क्या पीएम मोदी ने नीतीश को 12 घंटे पहले इस्तीफे की बधाई दे दी थी?

26 जुलाई की शाम थी. सवा 6- साढ़े 6 का टाइम हो रहा था. मीडिया दफ्तरों में 10 से 7 की शिफ्ट वाले अपना काम निपटाकर बोरा बिस्तर समेट रहे थे. तभी एक ऐसी खबर आई जिसने सबको वापस अपनी टेबल पर अनिश्चित काल के लिए चिपका दिया. पता चला कि नीतीश कुमार ने बिहार के चीफ मिनिस्टर पद से इस्तीफा दे दिया है. उधर उन्हों



हत्या, आर्म्स एक्ट और 11,412 करोड़ के भ्रष्टाचार के आरोपी हैं नीतीश कुमार

पटना। कल शाम अचानक एक ऐसी खबर आई जिसने देश की राजनीति खासकर बिहार की राजनीति में भूचाल ला दिया। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शाम साढ़े छ: बजे के अचानक राज्यपाल केशरीनाथ त्रिपाठी से मिलकर अपना इस्तीफा सौंप दिया। हालांकि तब तक नहीं पता था कि उनके दिमाग में क्या चल रह



यहां पढ़ें: नीतीश के इस्तीफा देने के बाद अब बिहार में क्या होगा?

इधर नीतीश कुमार इस्तीफा सौंपे हैं उधर पटना में बीजेपी विधायक दल की बैठक सुशील मोदी के घर शुरू हो गयी है. अब जरा दिल्ली पर ध्यान दीजिए. दिल्ली में बीजेपी संसदीय दल की बैठक हो रही है. पीएम नरेंद्र मोदी भी नीतीश कुमार को बधाई दे रहे हैं.नई दिल्ली: बिहार के सियासत में अचानक ही सियासी पारा चढ़ गया है. बि



इस्तीफा देने से पहले ही सिक्योर कर ली है नीतीश ने अपनी कुर्सी?

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव पर लगे करप्शन के आरोपों पर बड़ा फैसला लेते हुए अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. नीतीश के इस इस्तीफे के साथ ही बिहार विधानसभा चुनाव में निर्णायक बहुमत हासिल करने वाले महागठबंधन के ताबूत में भी आखिरी कील ठुक गई है. राजनीतिक हलकों में अब सवाल य



आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x