आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x

लेख

लेख से सम्बंधित लेख निम्नलिखित है :-

तलाक़ का खामियाज़ा भुगतती हैं महिलाएं, पति से दोबारा शादी के लिए होती हैं अंजान मर्द के साथ हमबिस्तर

पिछले कई दिनों से तीन तलाक़ को लेकर विवाद चल रहा है. महिला संगठनों का कहना है कि दूल्हे के तीन बार तलाक़ कह देने से मुस्लिम शादी ख़त्म हो जाती है, जिससे महिलाओं की ज़िन्दगी बर्बर होती है और उनके अधिकारों का हनन होता है. तीन तलाक़ अकेली ऐसी प्रथा नहीं है, जहां महिलाओं का शोषण होता है, आज हम आपको जिस प्रथा



राष्ट्र का संचालन करने वाले के लिए हर भारतीय ,पुत्र के सामान ,निजी स्वार्थ के लिए समुदाय के बीच पक्षपात करने वाला राष्ट्रप्रेमी नहीं हो सकता

हमारे देश में हिन्दू ,मुश्लिम ,सिख ,इशाई समुदाय के लोग रहते है संविधान की मनसा के अनुशार मनुष्य -मनुष्य में कोई भेद नहीं है जाती ,वंश ,धर्म ,लिंग में भेदभाव नही हो सकतासभी के साथ एक जैसा व्यवहार किया जाना चाइये यही प्रकृति का नियम भी है ! भारत के एक राजनैतिक दल को जनता ने पूर्ण बहुमददिया हर सम



जीत

आज का सुवचन



एक मां ने की अपने ही बेटे की हत्या, लेकिन इसकी वजह जानकर हमारी तरह आप भी कहेंगे, उसने सही किया

अक्सर देखा गया है कि सास-बहू का रिश्ता कड़वाहट भरा ही होता है, फिर चाहे वो असल ज़िन्दगी हो या टीवी सीरियल्स. लेकिन असल ज़िन्दगी में एक सास अगर अपनी बहू को अपने बेटे से ज़्यादा समझे तो आश्चर्य ही होगा. हालांकि, ऐसा नहीं है कि असल ज़िन्दगी में हर सास अपनी बहू पर अत्याचार ही करती है. जी हां, आज जो खबर हम आप



स्थानीय tutors को छोर के Rahul ने कैसे अपने लिए अच्छा tutors ढूंढा

1. Finding a Local Tutor THE CRISIS & THE RESOLUTION W W W . T U T S T U . C O M2. Meet Rahul Rahul, a cheerful boy of 14, who lives in Janakpuri, New Delhi. Rahul’s father is employed and is the only earning member. Rahul's mom has been



क्या Rahul को अच्छा स्थानिय शिक्षक मिल पाया? कैसे उसने नया हल निकाला

The storyof Rahul who struggled to find a local tutor. Who would be competent enough toaid him recovering his old enthusiasm in academics. Belonging to thelower-middle-class family, Rahul's parents couldn't provide him with luxuriesbut still, they left no stone unturned w



’प्यार करना है, तो अपने धर्म में करो’ बोलने वालों को प्यार से जवाब दिया इस हिन्दू-मुस्लिम कपल ने

प्यार न धर्म देखता है, न जात देखता है.बॉलीवुड में इस डायलॉग को बोल कर न जाने कितनी फ़िल्में हिट हुई हैं. बड़ा अच्छा लगता है, जब फ़िल्म में दो अलग धर्मों के प्यार करने वाले आखिकार मिल जाते हैं. लेकिन जब ऐसा ही कुछ असल ज़िन्दगी में सामने आये, तो कुछ ऐसा सुनने को मिलता है, 'उनका और हमारा हिसाब-किताब बिलकुल



समस्‍या दूर करने का सरल मार्ग क्‍या है

समस्‍या दूर करने का सरल मार्ग क्‍या है आज सोमवार है और प्रत्‍येक सोमवार को सकारात्‍मक सोच की चर्चा करते हैं। आज की वीडियो में ऐसी सकारात्‍मक चर्चा करेंगे जिससे आप समस्‍या दूर करने का सरल मार्ग जान सकेंगे। यदि अभी तक आपने हमारे चैनल को सबस्‍क्राईब नहीं किया है तो अवश्‍य क



हम जब घरों में TV के सामने बैठे थे, उसी समय बाढ़ से लड़ रहे असम में कोई मना रहा था स्वतंत्रता दिवस

15 अगस्त के मौके पर जब हम सब अपने टेलीविज़न सेट्स के पास बैठ कर चाय की चुस्कियां लेते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का भाषण सुन रहे थे, उसी समय देश का एक हिस्सा पिछले कई दिनों से बाढ़ जैसी समस्या से लड़ रहा था. पिछले कई हफ़्तों से बाढ़ ने असम में जन-जीवन को अस्त-व्यस्त किया हुआ है. इसके बावजूद ये असम के



स्‍वतन्‍त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं

स्‍वतन्‍त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं आज मंगलवार है और प्रत्‍येक मंगल को सेहत संबंधी चर्चा करते हैं पर आज स्‍वतन्‍त्रता दिवस होने के कारण आज की वीडियो में आप सबको स्‍वतन्‍त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं दे रहे हैं। आप सबको स्‍वतन्‍त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं। यद



बिना निष्कर्ष की कहानी....

<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedContent> <w:AlwaysShowPlaceh



दुख जैसा है, तभी अपना है

तेरा मिलना बहुत अच्च्छा लगे है, कि तू मुझको मेरे दुख जैसा लगे है...ये चर्चा, किसी के हुस्न की नही है। ना ये बयान है किसी के संग आसनाई के लुत्फ की। सीधे-सहज-सरल लफ्जों में यह तरजुमा है एक सत्य का। सच्चाई यह कि अपनापन और सोहबत की हदे-तकमील क्या है।अपना क्या है? कौन है?... वही जो अपने दुख जैसा है! मतलब



आखिर है क्या ये Sarahah.com, जिसने फेसबुक पर आग लगा रखी है

क्या हो अगर आप किसी से अपने इश्क या नफरत का इजहार नहीं कर पा रहे हों, क्योंकि आपको अगले इंसान को खोने या उससे डांट खाने का डर हो. मगर एक फोन ऐप आपकी समस्या हल कर दे? फिलहाल एंड्रॉइड और आईओएस पर यही हो रहा है. लोग खुलकर दूसरों से दिल की बातें कह रहे हैं, बना पिटे. और ये मुमकिन कर रहा है एक नया ऐप ‘सर



हम बदलेंगे तभी देश बदलेगा।

जय हिंद दोस्तो, अभी हर किसी की नजर न्यूज पर है और हर न्यूज चैनल, न्यूज पेपर और शोशल नेटवर्किग साईट पे एक ही खबर ब्लैक मनी को लेकर तरह – तरह की बयानबाजी। गलत तरीके से पालटिक



किसी हीरो से कम नही यह IPS ऑफिसर, फिटनेस ऐसी जो उड़ा दे होश

वैसे तो आईपीएस अधिकारियों को अपनी फिटनेस का ध्यान रखना होता है लेकिन कई मामलों में कुछ पुलिसवाले ऐसा नहीं कर पाते।पुलिस सेवा में कम ही ऐसे ऑफिसर हैं जो अपनी फिटनेस बनाए रखते हैं, लेकिन हम जिनकी बात करने जा रहे हैं वो फिटनेस ही नहीं बल्कि लुक्स के मामले में भी किसी हीरो से कम नहीं हैं।यह हैं मध्य प्र



जैसी चेतना, वैसा बोधत्व और वैसी ही आपकी नीयति

अपनी ही चेतना के खंडित एवं विकृत बोधत्व के कारण, इंसान की नीयति कभी भी उसको वह मुकाम नहीं हासिल करने देती, जिसका व हकदार भले ही न हो, पर उसमें उसे पाने का माद्दा होता है। इसलिए कि सीमित व अविकसित बोधत्व उसे वह देखने ही नहीं देती, जो वहां होता है। तुर्रा यह कि जो मिट्टी व कौड़ी वह उठा लाता है, उसे बड़े



अपने पुरुष ग्राहकों के बारे में इस वेश्या ने एक खूबसूरत बात बताई है

symbolic image. source: reutersपुरुष अगर इमोशनल हो जाएं, तो लोग उनकी मर्दानगी पर सवाल उठाते हैं. कहते हैं, ‘लड़कियों’ की तरह रोता है. सैकड़ों सालों से हमें पौरुष के पाठ पढ़ाए जा रहे हैं. पुरुष तब भी युद्ध करते थे, आज भी युद्ध लड़ रहे हैं. तब भी उनका काम औरतों की ‘रक्षा’ करना था, आज भी वही है.कहते हैं पु



जीवन को, अपनी चेतना को, टुकड़ों में ना बांटें....

<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <w:ValidateAgainstSchemas></w:ValidateAgainstSchemas> <w:Sav



सनकी तानाशाह वाले इस देश में ये 10 काम करना है Not Allowed

उत्तर कोरिया का नाम लेते ही कैदी टाइप फील होने लगता है। क्यूट चेहरे वाले खूंखार तानाशाह किम जोंग उन के किस्से सुनकर मन गुस्से से तमतमा जाता है। कैसे कोई इंसान एक देश को अपनी जागीर समझ सकता है। एक देश को अपनी बपौती समझने वाले इस शख्स ने उत्तर कोरिया में अजीबो-गरीब नियमों की झड़ी लगा रखी है।कुछ एक तो



कॉन्डम की वजह से पिटती है दिल्ली की हर चौथी औरत

representative image: Reutersदिल्ली शहर में घरेलू हिंसा का एक बड़ा कारण सामने आया है. ज्यादातर मर्द सेफ सेक्स नहीं करना चाहते. बहुत सारे आदमी कॉन्डम इस्तेमाल नहीं करना चाहते. वो अपनी बीवियों को भी गर्भ रोकने की दवाइयां इस्तेमाल नहीं करने देते. इस बात पर अगर पत्नी विरोध करे, तो वो उसको मारते हैं. शारी



आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x