शामली

1857 की क्रान्ति में दलित वीरांगना रणबीरी वाल्मीकि का योगदान

भारत देश के नागरिकों को अपने वीर सपूतों पर गर्व है, जिन्हों2ने देश की मर्यादा की रक्षा करते हुए अपना सर्वस्व लूटा दिया। इतिहास में ऐसे कई लाल हुए हैं, जिन्होंने अपनी जान से



शामली गुड़ मंडी में दिसावरी मांग शुरू, रक्षाबंधन पर रहेगी बंद

12:33 HRS IST शामली, 23 अगस्त (भाषा) उत्तर भारत की प्रमुख गुड़ मंडी शामली से गुड़, शक्कर की दिसावरी मांग शुरू हो गई है। हालांकि अभी शीतगृह के स्टॉक की बिक्री चल रही है। शामली मंडी में रक्षाबंधन के दिन अवकाश रहेगा। उसके बाद जन्माष्टमी पर भी दो और तीन सितंबर का अवकाश होगा। उल्लेखनीय है कि देश में रक्



शामली मंडी में आज के बंद भाव

12:24 HRS IST शामली, 23 अगस्त (भाषा) शामली मंडी में आज शीतगृह के भाव (रुपये प्रति 40 किलोग्राम) इस प्रकार रहे: गुड़ खुरपापाड़: 1250 से 1270 रुपये पेड़ी: 1300 से 1350 रुपये रसकट: 1,050 रुपये शक्कर सुनहरी: 1400 से 1,450 रुपये बूरा चीनी 3,500 रुपये प्रति क्विंटल।



शामली मंडी में आज के बंद भाव

13:32 HRS IST शामली, 21 अगस्त (भाषा) शामली मंडी में आज शीतगृह के भाव (रुपये प्रति 40 किलोग्राम) इस प्रकार रहे: गुड़ खुरपापाड़: 1250 से 1275 रुपये पेड़ी: 1350 से 1400 रुपये रसकट: 1000 रुपये शक्कर सुनहरी: 1500 से 1520 रुपये प्रति क्विंटल बूरा चीनी 3400 रुपये।



शामली मंडी में आज के बंद भाव

16:10 HRS IST शामली, 16 अगस्त (भाषा) शामली मंडी में आज शीतगृह के भाव (रुपये प्रति 40 किलोग्राम) इस प्रकार रहे: गुड़ खुरपापाड़: 1250 से 1270 रुपये पेड़ी: 1360 से 1460 रुपये रसकट: 950 रुपये शक्कर सुनहरी: 1450 से 1500 रुपये शीतगृह की दिसावरी मांग शुरू हो गई।



शामली मंडी में आज के बंद भाव

15:50 HRS IST शामली, 20 जुलाई (भाषा) शामली मंडी में आज के बंद भाव (रुपये प्रति 40 किलोग्राम) इस प्रकार रहे: गुड़ खुरपापाड़: 1250 से 1300 रुपये पेड़ी: 1300 से 1350 रुपये रसकट: 950 रुपये शक्कर सुनहरी: 1350 से 1400 रुपये बूरा चीनी (प्रति क्विंटल): 3600 रुपये



सैल्यूट टू शामली एस.पी.डॉ.अजयपाल शर्मा

शामली जिला अपराधियों से भरपूर क्षेत्र ,कोई भी अधिकारी पुलिस का ज्यादा समय नहीं टिक पाता और इन्हीं अपराधियों की भरमार ने जन्म दिया ''कैराना पलायन प्रकरण '' को .जब दिनदहाड़े अपराधी वारदात को अंजाम देने लगें ,दुकान पर बैठे व्यापार ी को गोली मार मौत के घाट उतारने लग



ऐसा साधु देखा कभी

बड़े बड़े शहरों में ,महानगरों में जाम की समस्या से सामना होता ही रहता है और इसे बड़े शहरों के लिए एक वरदान के रूप में स्वीकार भी लिया जाता है किन्तु छोटे कस्बे और गावों के लिए जाम को स्वीकार नहीं किया जा सकता इनमे ज़िंदगी आसान ही इसीलिए होती है क्योंकि इनमे किसी भी जगह ज



शामली में गैस रिसाव से ३०० बच्चे बीमार और चेतन भगत

दिल्ली -एनसीआर में ३१ अक्टूबर तक सुप्रीम कोर्ट ने पटाखों की बिक्री पर रोक लगाई ही थी कि लेखक चेतन भगत उसकी भर्तसना भी करने लग गए यह कहते हुए कि ,''यह हमारी परंपरा का हिस्सा है बिना पटाखों के बच्चों की कैसी दिवाली ? उनकी इस ट्वीट की देखा देखी ठाकरे भी बोले तो क्या व्





1
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x