उत्तराखंड



यहां के मेडिकल स्टूडेंट्स कटोरा लेकर मांग रहे हैं भीख, वजह आपको गुस्से से भर सकता है

शिक्षा वो शस्त्र है जिसे प्राप्त करके हम दुनिया की हर लड़ाई जीत सकते हैं लेकिन जब इस शस्त्र को पाने के लिए हमें मेहनत और तपस्या के अलावा पैसे भी खर्च करने पड़े तो इसे कैसे पाया जा सकता है? ये सोचने वाली बात है क्योंकि आज के दौर में शिक्षा एक कारोबार बन गया है और लोग शिक्षा जरूरी है इसका फायदा उठाकर



चमोली जिले की DM ने गांव के बच्चों के लिए किया ऐसा काम, आप भी करेंगे इनपर नाज़

इस दुनिया में अच्छे और बुरे दोनों तरह के लोग होते हैं और कलयुग में हर किसी के साथ बुरा होता है। मगर अच्छे लोग भी इस दुनिया में हैं जो खुद से ज्यादा दूसरों के बारे में सोचते हैं। ऐसा ही एक काम उत्तराखंड के चमोली जिले की डीएम ने किया है। इन्होने गांव के बच्चों की सुविधा के लिए एक ऐसा काम किया है जिसे



डेंगू का डंक और अजय की जंग

कौन कहता है, डेंगू मरता नहीं है. बस एक कोशिश ईमानदारी से होनी चाहिए. इन दिनों डेंगू, मलेरिया और वायरल पीड़ित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है। सरकारी एवं निजी नर्सिंग होम मरीजों से अटे पड़े है। नर्सिंग होम वाले मरीजों से इलाज के नाम पर मनमाने रकम वसू



आखिर क्यों ना हो पलायन?

मेरे गांव के इस रास्ते से जो कदम शहर की ओर निकले वो लौटकर वापस नहीं आए, जो आए भी तो कुछ इस तरह आए, कि जिनको आने से ज्यादा वापस लौटने का जुनून था. वहां जहां मेहनत तो थी लेकिन बच्चों की परवरिश के लिए पर्याप्त साधन मौजूद थे. तब ऐसे में दूर स्थित इस पहाड़ी गांव में क्या रखा था जहां ना पीने को पानी, ना ब



उत्तराखंड के इस शहर में हनुमान चालिसा पढ़ने पर पुलिस ने की हाथापाई, जानिए इसकी पूरी सच्चाई

हनुमान चालिसा हिंदू धर्म में बहुत ही फेमस है, अक्सर लोगों को जब डर लगता है तो वे हनुमान चालिसा पढ़कर अपने आपको तसल्ली देते हैं कि बजरंगबली हमारे साथ हैं। उनके होने का एहसास ही हमारे डर को भगा देता है और हम चैन से रहने लगते हैं। इसे हम किसी भी जगह पर कर सकते हैं और इसमें कोई डर की बात भी नहीं है और इ



केदारनाथ : "शिव का धाम"

उत्तराखंड, जिसेदेवभामी(देवताओंकीभूमि)केनामसेजानाजाताहै,वास्तवमेंपृथ्वीकेसबसेस्वर्गीयहिस्सोंमेंसेएकहै।उत्तराखंडकेरुद्रप्रयागजिलेमेंसोनप्रयागसेकरीब21 किमी कीदूरीपरस्थितकेदारनाथभारतके12 ज्योतिर्लिंग मंदिरोंमेंसबसेऊंचाईपरस्थितशिवमंदिरहै।यहमंदाकिनीनदीकेस्रोतकेपासऔर3584 मीट



संजय दत्त होंगे उत्तराखंड में एंटी ड्रग कंपेन के ब्रांड अंबेसडर

शनिवार को मुख्यमंत्रीत्रिवेन्द्र सिंह रावतने कहा किअभिनेता संजय दत्तउत्तराखं



हरिद्वार: "शक्ति की भूमि - मायापुरी"

उत्तराखंड मेंस्थितयहशहरभारतकेलोकप्रियतीर्थस्थलोंमेंसेएकहै।वैदिकइतिहासहरिद्वारकोमोक्षकीभूमिकेरूपमेंवर्णितकरताहै।यहवहजगहहैजहांगंगामैदानीइलाकों



नैनीताल : लेक डिस्ट्रिक्ट

नैनीताल को आम तौर पर "भारत के लेक डिस्ट्रिक्ट" के रूप में जाना जाता है, नैनीताल उत्तर भारत के सबसे खूबसूरत पहाड़ी स्टेशनों में से एक है। तीन तरफ पहाड़ों से घिरा नैनीताल सुंदर नैनी झील के चारों ओर स्थित है



उत्तराखंड हाईकोर्ट : बकरीद पर खुली जगह में कुर्बानी देने पर लगाई रोक

उत्तराखंड उच्च न्यायालय ने मंगलवार को राज्य भर में जिला मजिस्ट्रेटों को निर्देश दिया कि वह यह सुनिश्चित करने के लिए कि ईद-उल-अजहा के अवसर पर खुले स्थान पर बकरे की कुर्बानी नहीं दी जाये और कुर्बानी सिर्फ बूचड़खानों में ही दी जानी चाहिए| मुख्य न्यायाधीश राजीव शर्मा और



देहरादून : स्कूलों का शहर

अपने कल के लेख में मैंने आपको देहरादून क प्रमुख पर्यटक स्थलों के बारे में बतया| आज में अपने इस लेख में आपको देहरादून के प्रमुख स्कूल के बारे में बाटने जा रही हूं। इस शहर को



देहरादून : द्रोणनगरी

उत्तराखंड राज्य में दून घाटी के बीच स्थित, देहरादून एक बहुत ही लोकप्रिय पहाड़ी स्टेशन है जो अकेले यात्रियों, परिवारों और जोड़ों को समान रूप से अपनी ओर आकर्षित करता है। उत्तराखंड की राजधानी देहरादून पूर्व में यमुना और पश्चिम में गंगा से घिरा हुआ है। यह समुद्र स्तर से 2100 फीट की ऊंचाई पर स्थित है। गढ



जिम कोर्बेट राष्ट्रीय पार्क

जिम कोर्बेट राष्ट्रीय पार्कउत्तराखंड राज्य के नैनीतालज़िले में रामनगरशहर के निकटबनाया गया है।यह राष्ट्रीय पार्कगढ़वाल और कुमाऊंके बीच 1318 वर्गकिमी में फैलाहै| जिम कॉर्बेटनैशनल पार्क देशका सबसे पुरानाराष्ट्रीय पार्क है देश कीराजधानी दि



फूलों की घाटी

फूलों की घाटी उत्तराखंड के चमोली जिले (बद्रीनाथ के पास) में स्थित है, ऋषिकेश के उत्तर में लगभग 300 किमी दूर। यह एक सुरम्य राष्ट्रीय उद्यान है, जो पश्चिमी हिमालय की सुंदरता को बढ़ाता है। 1931 में फूलों की घाटी की खोज हुई थी| यह एक विश्व धरोहर स्थल है। हिमालयी पर्वत, जां



महिला मदद मांगने आई थी, उत्तराखंड के मुख्यमंत्री ने बदतमीज़ी की हद कर दी !

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत जनता दरबार लगाकर बैठे थे. ताकि जनता अपनी परेशानी लेकर सीधे उनके पास आ सके. एक महिला अध्यापक अपनी अपील लेकर आईं. उनका कहना था कि पिछले 25 सालों से उनका तबादला दुर्गम इलाके में हो रखा है. उनके पति की मौत हो चुकी है. सो बच्चों की



चिपको आंदोलन

वर्तमान समय में विकास के लिए आवश्यक इन्फ्रास्ट्रक्चरबढ़ाने की महत्त्वता को कोई नकार नहीं सकता है । चाहे नई बिल्डिंग बनानी हो या मेट्रोका पुल, आज हर जगह विकास कार्य के लिए सबसे ज्यादा बलि का यदि कोई भोग बनाता है, तो वह है पेड़... । वैसे तो



क्यों डूबना चाहते हो मेरे शहर मेरे गाँव को

क्यों डूबना चाहते हो मेरे शहर मेरे गाँव कोक्यों मिटना चाहते हो सर से पेड़ की छावं को।क्यों अँधेरे में धकेलते हो शहर के उजाले के लिएक्यों माटी से खदेड़ते हो शहर के निवाले के लिए।मेरी पीढ़ियों ने इस पिथौरागढ़ को बनते देखा हैदो देशो की संस्कृति के



अगर परिवार आपके प्यार के हैं खिलाफ तो यहां आकर पाएं अपना प्यार!

दुनियाभर में कई ऐसी जगहों के बारे में तो आपने सुना ही होगा कि जहां जाने से मनचाहा प्यार मिल जाता है। लेकिन प्रेमियों को कहीं बाहर जाने की जरूरत नहीं है क्योंकि हमारे देश में भी ऐसी ही एक जगह है, जो प्यार करने वालों को मिलाती है। अगर आपका परि



आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x