अरमान

1


अरमान

बिखरे अरमानो को छोड, देना सही हैं क्या ??एक बार हारे हैं बस. दुसरा मौका नही हैं क्या ?? क्यो बोझ ढो रहे हो असफलता का . मन में हौसलो की कमी हैं क्या ?? ठान लो तो जीत हैं .. मान लो तो हार... जिंदगी का सफर ही हैं रुमानी तुम्हारे लिए जीतने से ज्यादा सीखना नही हैं क्या ? ? ?



क़ुरबानी तो लगती है रोज़ अरमानो की,...

क़ुरबानी तो लगती है रोज़ अरमानो की,...क़ुरबानी तो लगती है रोज़ अरमानो की,सफ़र का क़ाफ़िला, कम या ज़्यादा,एहसासों का भी होता है बलिदान,सब काल्पनिक, रहती नहीं कोई मर्यादा,उसी दौर से, गुज़र रहें हैं सब हम,गुनाहों का कारवाँ, होता है मुकर्रम,रंग भी यहाँ, बेरंग भी यहाँ,चुनना है हमें, किसे भरें हम, कब और क



शाहरुख़ आज के बादशाह नहीं होते अगर ....

शाहरुखखान को बॉलीवुड का किंग कहा जाता है। उनकी कहानी तमाम लोगों के जीवन की प्रेरणाबनी हुई है। जिस स्टारडम की लोग कल्पना भी नहीं कर पाते शाहरुख ने उस मुकाम कोहासिल किया हुआ है। शाहरुख के शीर्ष तक पहुंचने में उनकी मेहनत की अहम भूमिका हैलेकिन ये भी एक सच है कि कुछ लोगों के बिना वो इतने बड़े स्टार नहीं



मेरी ज़िन्दगी में आये हो - अरमान

Meri Zindagi Mein Aaye Ho song belongs to the Honey Irani's film Armaan starring Amitabh Bachchan, Anil Kapoor, Preity Zinta and Gracy Singh. Meri Zindagi Mein Aaye Ho Lyrics are penned by Javed Akhtar while this track is sung by Sunidhi Chauhan and Sonu Nigam.अरमान (Armaan )मेरी ज़िन्दगी में आये हो



तू ही बता ज़िन्दगी जो भी हुआ क्यों हुआ - अरमान

Tu Hi Bata Zindagi Jo Bhi Hua Kyon Hua song belongs to the Honey Irani's film Armaan starring Amitabh Bachchan, Anil Kapoor, Preity Zinta and Gracy Singh. Tu Hi Bata Zindagi Jo Bhi Hua Kyon Hua Lyrics are penned by Javed Akhtar while this track is sung by Roop Kumar Rathod and Shreya Ghoshal.अरमान (



अरमान (Armaan )

'अरमान' 2003 की एक हिंदी फिल्म है जिसमें अमिताभ बच्चन, अनिल कपूर, प्रीति जिंटा, ग्रेसी सिंह, रणधीर कपूर, पृथ्वी जुत्शी और आमिर बशीर प्रमुख भूमिका निभाते हैं। हमारे पास अरमान के 2 गीत गीत हैं। शंकर एहसान लॉय ने अपना संगीत बना लिया है। रूप कुमार राठोड, श्रेया घोषाल, सुनिधि चौहान और सोनू निगम ने इन गीत



“गीतिका” उड़ता ही रहा ऊपर सदा अरमान देखे हैं

गीतिका, समांत- आन पदांत- देखे है, मात्रा भार- २६“गीतिका”उड़ता ही रहा ऊपर सदा अरमान देखे हैं बहता रहा पानी झुका आसमान देखे हैं मिले पाँव कीचड़ तो बचा करके निकल जाते उड़ छींटे भी रुक जाते मजहब मान देखे हैं॥घिरती रही आ मैल जमी फूल की क्यारी छवियाँ बिना दरपन बहुत छविमान देखे हैं



आईने पे धुंध सी है ज़िन्दगी!!

साफ़ कर अपनी नज़र,अपना गिरेवाँ देखते हैं , और  कितने लोग हैं ,जो अपना ईमां देखते हैं ।ऐव अक्सर ढूँढना ,दस्तूर है अहले ज़माने का , खुदगर्ज हैं रिश्ते यहां सब अपना अरमाँ देखते हैं काश मिल जाये शकूंने दिल जूनून-ऐ-दौर में ,इसलिए हम दर-बदर अपना नशेमां देखते हैं|  ख्वाब है या कोई हकीक़त कुछ समझ आता नहीं, अपन





1
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x