1


कुपंथी औलाद

कुपंथी औलादआज के दौर में पुत्र माता पिता को, सदा दे रहे गालियां घात की।वो नहीं जानते नाज से थे पले, मन्नतों से हुए गर्भ से मातु की।ढा रहे वो सितम और करते जुलममारते मातु को और धिक्कारते।डांट फटकार कर एक हैवान बनवृद्ध माँ बाप को घर से निकालते।नौ महीने तुझे गर्भ में माँ रखी, उंगली उसकी पकड़ तू चला हाँथ



!!! श्राद्ध खाने नहीं आऊंगा, कौआ बनकर !!!

(आँखो में आंसू ला दिये इस कहानी ने .......) "अरे ! भाई बुढापे का कोई ईलाज नहींहोता । अस्सी पार चुके हैं, अब बस सेवा कीजिये ।" डाक्टर पिताजी कोदेखते हुए बोला ।"डाक्टर साहब ! कोई तो तरीका होगा, साइंस नेबहुत तरक्की कर ली है ।""शंकर बाबू ! मैं अपनी तरफ से दुआ ही करसकता हू



कैसे मनाये नाराज़ बच्चों को. | Indian Women Life

आज बहुत बड़ी संख्या में छोटे बच्चे psychologist के पास जा रहे हैं. आज कम उम्र ही जब हम जानते भी नहीं थे की स्ट्रेस क्या है छोटे बच्चे जरा-जरा सी बात पर स्ट्रेस की स्थिति में आए जाते हैं.आखिर teenage की समझ को कैसे समझा जाये. कैसे छोटी उम्र के बच्चों को नाराज़ होने से बचाया



KBC 10: ठेला चलाकर बेटी को बनाया टीचर, अमिताभ ने पिता को किया सलाम

पटना: कौन बनेगा करोड़पति के 10वें सीजन की शुरुआत 3 स‍ितंबर से हो चुकी है. हर बार की तरह इस बार भी शो में नए प्रत‍ियोगी द‍िलचस्प कहान‍ियां और प्रेरणा देने वाले किस्सों के साथ मौजूद हैं. शो में तीसरे द‍िन (5 सि‍तंबर) हॉट सीट पर एक ऐसी कंटेस्टेंट बैठेगी, ज‍िसके संघर्ष की कहा



बाप-बेटे पर मज़ेदार हिंदी जोक्स - Father Son Jokes in Hindi

बेटा – मुझे शादी नहीं करनी!! मुझे सभी औरतों से डर लगता है!पिता- कर ले बेटा! फिर एक ही औरत से डर लगेगा, बाकी सब अच्छी लगेंगी।पिता बेटे पर गुस्सा करते हुए – एक काम ढंग से नहीं होता तुझसे , तुम्हें पुदीना लाने के लिए कहा था और तुम ये धनिया ले आए , तुझ जैसे बेवकूफ को तो घर से निकाल देना चाहिए बेटा: पापा



भोले मुसाफिर इतना तो जान (Bhole Musafir Itna To Jaan )- माँ बाप

भोल मुसाफिर इटना टू बाण से जय गीत: इस गीत को सुनें जो झोराबाई अंबलवाली की शानदार आवाज़ में है। इस गीत का संगीत एला राखा और भोल मुसाफिर इटना टू जान गीत द्वारा रचित है, जिसे रूबानी ने लिखा है।माँ बाप (Maa Baap )भोले मुसाफिर इतना तो जान (Bhole Musafir Itna To Jaan ) की लिरिक्स (Lyrics Of Bhole Musafi



माँ बाप (Maa Baap )

'मा बाप' 1 9 44 की हिंदी फिल्म है जिसमें नाज़िर, वीना और याकूब प्रमुख भूमिका निभाते हैं। हमारे पास मा बाप के एक गीत गीत हैं। आला राखा ने अपना संगीत बना लिया है। झोराबाई अंबलवाली ने इन गीतों को गाया है जबकि रूबानी ने अपने गीत लिखे हैं।



हाँ पहली बार हुआ है - बाप नंबरी बेटा दस नंबरी

Haan Pehli Baar Hua Hai song belongs to the Aziz Sejawal's film Baap Numbari Beta Dus Numbari starring Jackie Shroff, Farha, Kader Khan and Sabeeha. Haan Pehli Baar Hua Hai Lyrics are penned by Sameer while this track is sung by Anuradha Paudwal and Mohammad Aziz.बाप नंबरी बेटा दस नंबरी (Baap Numbar



बाप नंबरी बेटा दस नंबरी (Baap Numbari Beta Dus Numbari )

"Baap Numbari Beta Dus Numbari" is a 1990 hindi film which has Jackie Shroff, Farha, Kader Khan, Sabeeha, Shakti Kapoor, Aditya Pancholi, Asrani and Gulshan Grover in lead roles. We have and one song lyrics of Baap Numbari Beta Dus Numbari. Nadeem and Shravan have composed its music. Anuradha Paud



“मुक्तक”सौंप दिया माँ-बाप ने गुरु को अपना लाल।

माँ शारदे को नमन करते हुए समस्त मंच के गुणीजनों को मेरा वंदन अभिनंदन। आप सभी को गुरु पूर्णिमा की हार्दिक बधाई। “मुक्तक”सौंप दिया माँ-बाप ने गुरु को अपना लाल। विनय शारदा मातु से साधक शिक्षक भाल। शब्द-शब्द अक्षर प्रखर ज्ञानी गुरु महान- नमन शिष्य गौतम करे चरण कमलवत नाल॥-१ज्ञ



पितृ दिवस

#बाप_दिवस- __________ पितृ/ बाप दिवस प्रसिद्धि फादर्स डे के रूप में पाया है, बाप -वाह वाह ऐसा शब्द जो कोई बोलकर अपना सीना 95 सेंटीमीटर फूला महसूस करने लगता है , ★रिश्ते में तो हम तुम्हारे बाप लगते हैं (सब सुने होंगे) लेकिन इस शब्द के गर्त में कितने त्याग,कर्तव्य,दायित्व छिपे हैं वह सिर्फ बाप समझता



3 - Click करके कैसे आप या आपके बच्चे FREE Trial Classes ले सकते हैं - TutStu पे

FREE Online Tutoring Sessions, also called Trial Classes, is just what it literally means. A New student on TutStu, who is looking for tutors, can take a trial class with any tutor of their choice.Almost every Tutor offer Trial Classes. It’s an opportunity for new student



माँ-बाप के पैर छुए हुआ एक जमाना

कवि: शिवदत्त श्रोत्रियछोड़ा घर सोच कर, किस्मत आजमाना पर क्यों ना लौट मैं, कोई करके बहाना जन्नत ढूंढता था, जन्नत से दूर होकर माँ-बाप के पैर छुए हुआ एक जमाना ॥





1
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x