भारतीय कौन ?

भारतीय शब्द का आधार भारत है व भारत का आधार हमारी सनातन पुरातन वैदिक सभ्यता व संस्कृति.हिंदू शब्द का प्रचलन यहाँ के मूल निवासियों के लिए प्रोयोगित किया जाता है जो यहाँ हज़ारों वर्षों से अलग अलग अलग पंथो को स्वीकारकर अंगिगत करते चले आ रहे है।अंतर दोनो में कुछ नहीं है बस कोई इतिहास में इस्लामिक आक्रांत



कौन हैं भारत के नये चीफ जस्टिस? गोगई के इस्तिफा देते ही इन्होंने ली शपथ

भारत का सबसे पुराना और चर्चित अयोध्या मामला 9 नवंबर को खत्म कर दिया गया। 1 अक्टूबर से 16 अक्टूबर तक लगातार ओवर शिफ्ट में काम करके चीफ जस्टिस सीजेआई रंजन गोगाई ने पूरी सुनवाई खत्म की और 8 नवंबर तक फैसले के सभी दस्तावेज तैयार कर लिया। ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि 17 नवंबर को गोगई रिटायर्ड होने वाले थे और इस



ये पाकिस्तानी हसीना इस तरह निकलवाती थी भारतीय सैनिकों से जरूरी जानकारी

भारतीय सैनिकों की वाहवाही हमेशा से देशवासी करते आए हैं क्योंकि ये सरहद पर हम सबकी रक्षा करते हैंं। वे वहां पर जगते हैं तभी हम अपने-अपने घरों में चैन से सो पाते हैं और ये एक सच में बहुत बहदुरी का काम है। मगर सरहद पर रहने वाले जवान भी तो आपकी और हमारी तरह इंसान हैं और उनका मन भी किसी ना किसी के प्रति



गीता - कर्म की तीन संज्ञाएँ

गीता - कर्मयोग – कर्म की तीन संज्ञाएँगीता के जीवन-दर्शन के अनुसार मनुष्य बहुत महान है और असीमशक्ति का भण्डार है |वास्तव में गीता एक ऐसा पवित्र ग्रंथ है जो मनुष्य को सदैव आगे बढ़ने की प्रेरणादेता है | मृत्यु के संभावित भय कोदूर कर हमें कर्तव्यपरायण होने की शिक्षा देता है | मनुष्य को बताता है कि बिना



Guru Purnima 2019 -गुरु मंत्र की महिमा

हर परम्परा का अपना एक गुरु मंत्र होता है और किसी भी मंत्र को गुप्त रूप से और मौखिक रूप से एक गुरु द्वारा संप्रेषित किया जाता है जो उस व्यक्ति के लिए एक गुरु-मंत्र बन जाता है, जिसके लिए इसका संचार किया जाता है



तो इस मामले में बहनें है मराठी और हिंदी

<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedC



कौन थी वो लड़की जो गांधी जी की मौत के समय उनके साथ थी?

भारत के राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने देश की आजादी में जो योगदान दिया है उसे देश कभी भूल नहीं सकता है। हमेशा देश के बारे में सोचने के बाद भी उन्हें एक ऐसी मौत मिली थी जो शायद हम कभी दुश्मनों की भी नहीं चाहेंगे। देश में आज कुछ लोग गांधी जी के आदर्शों को गलत बताते हैं तो कोई उनके बहुत बड़े समर्थक हैं।



5 फ्री वेब होस्टिंग प्रोवाइडर | जो आपको मुफ्त में वेबसाइट बनाने का मौका देते है

अगर हम इडिया की बात की बात करे तो बहुत से लोग ऐशे भी जप अपनी वेबसाइट बनाकर पैसा कमाना चाहते है या फिर वेबसाइट बनान सिखाना चाहते है लेकिन बहुत से लोग ऐसा नही कर पते है क्युकी एक वेबसाइट बनाने के लिए डोमेन और होस्टिंग की जरुरत पड़ती है अगर दोनों को एक एक साल के लिए हम खर



यहां के मेडिकल स्टूडेंट्स कटोरा लेकर मांग रहे हैं भीख, वजह आपको गुस्से से भर सकता है

शिक्षा वो शस्त्र है जिसे प्राप्त करके हम दुनिया की हर लड़ाई जीत सकते हैं लेकिन जब इस शस्त्र को पाने के लिए हमें मेहनत और तपस्या के अलावा पैसे भी खर्च करने पड़े तो इसे कैसे पाया जा सकता है? ये सोचने वाली बात है क्योंकि आज के दौर में शिक्षा एक कारोबार बन गया है और लोग शिक्षा जरूरी है इसका फायदा उठाकर



NDTV और Scroll ने किया बाबरी मस्जिद के वकील की करतूत को छिपाने की कोशिश!

सुप्रीम कोर्ट में राम मंदिर मामले की अंतिम दिन की सुनवाई 16 अक्टूबर को पूरी हो गई। इस दिन राजीव धवन ने हिंदू महासभा द्वारा पेश किए गए नक्शे को फाड़ दिया। सुन्नी वक़्फ़ बोर्ड के वकील धवन काफी गुस्सा हो गए और उन्होने कागज को कई बार फाड़ा और इस हरकत को सभी लोग देख रहे थे। इसके बाद न्यायधीश ने वकील को फ



जिन्होंने भारत को कलाम जैसा बेटा दिया, क्या आप जानते हैं वे खुद कैसी होंगी?

आजतक देश में बहुत से ऐसे लोग आए जिन्होंने अपनी हर सांस देश के नाम कर दी। किसी एक का नाम लेना सही नहीं होगा लेकिन यहां पर डॉ. अवुल पाकिर जैनुल्लाब्दीन अब्दुल कलाम की बात करना सही होगा क्योंकि इन्होने भारत को अलग ही मुकाम पर पहुंचाया था। अब्दुल कलाम साहब जितने बड़े पद पर थे उनका व्यक्तित्व जमीन से जुड



महिला मताधिकार की जनक : कामिनी रॉय (बांग्ला : য়ামিন রায়)

जी हां, कामिनी रॉय जिन्होंने महिलाओं के अधिकारों के लिए अपना पूरा जीवन ही समर्पित कर दिया था । आज 12 अक्टूबर को उनकी 155वीं जयंती है । कामिनी पहली ऐसी महिला हैं जिन्होंने ब्रिटिश इंडिया में ऑनर्स में ग्रेजुएशन की थी । कामिनी एक एक्टिविष्ट, शिक्षाविद् होने के साथ ही एक



5 अक्टूबर से चलने वाली 'वंदे भारत एक्सप्रेस' है माता के भक्तों के लिए खास, जानिए 10 खूबियां

आधुनिक भारत में बहुत सारी चीजें बदल रही हैं, चीजें डिजिटल हो रही हैं। हर जगह आधुनिकता ही काम हो रहे हैं, रेलवे हो या सिनेमाहॉल जगह डिजिटल भारत अपना परचम लहरा रहा है। अब तक लोगों को जानकारी थी कि अगर लंबी दूरियां तय करनी है तो फ्लाइट का सहारा लिया जाता है लेकिन अगर दिल्ली से वैष्णों देवी जाना है तो



स्वच्छ भारत

स्वच्छ भारत सोच रही हूँ मैं सुबह से, स्वच्छ भारत पर क्या लिखूँ🤔 ये अरमान है प्रधानमंत्री का, या फर्ज है हम सब का🤔 अपना घर साफ करते हम, कूड़ा उठाकर बाहर डाल देते हम🤦🏻‍♀ जैसे अपना घर ही अपना है😇 बाकी का भारत बस पी एम का सपना है.. 🤷🏻‍♀ नगरपालिका आएगी तो ये करेगी😛, नगरपालिका आयेगी तो वो करेगी,🧐



October 2019- List of Hindu Festivals and Holidays in October Month

इस बार अक्टूबर का पूरा महीना व्रत-त्यौहार के नाम है. हिन्दू पंचांग के अनुसार इस महीने में बड़े-बड़े त्यौहार और व्रत मनाये जायेगे. इस महीने में बड़े पर्व में नवरात्रि, दशहरा, दीपावली जैसे त्यौहार है. महीने के शुरुआती दिनों में ही माँ दुर्गा के नवरात्री उत्सव मना रहे है. नवरात



जयंती विशेष: ईश्वर चंद्र विद्यासागर के निधन पर रविंद्रनाथ टैगोर द्वारा कही यह बात आज भी महत्वपूर्ण

आज भारत के महान समाज सुधारक ईश्वर चंद्र विद्यासागर को उनकी 200वीं जयंती पर याद किया जा रहा है। विद्यासागर 19 वीं सदी के एसे महान भारतीय व्यक्ति थे जो आज भी समाज सुधारक, स्वतंत्रता सेनानी, प्रसिद्ध दार्शनिक, शिक्षाविद के रूप में याद किये जाते हैं। प्रोफेसर ईश्वर चंद्र विद्



गुस्सा, आशिकी और सादगी.....जीवन के हर रंग को जीते थे जवाहरलाल नेहरू

200 साल गुलामी झेलने के बाद जब भारत ने आजादी हासिल की थी। ये पूरे देश के लिए बहुत खुशी का पल था और उन आत्मा को शांति भी प्राप्ति हुई होगी जिन्होंने अपने जन्म से हर सांस आजादी के लिए लगा दी। बहुत से क्रांतिकारियों ने अपने प्राण गवां दिये क्योंकि भारत को आजाद करना था। फ



'भारत रत्न' लाल बहादुर शास्त्री की मौत का रहस्य आज भी है क्यों कायम? जानिए इनका जीवन-परिचय

भारत देश यूही महान नहीं माना जाता, यहां पर कई वीर ऐसे हुए हैं जिन्होंने अपनी जिंदगी की हर सांस देश के नाम कर दी थी। आजादी से पहले, आजादी के बाद या फिर आजादी के समय बहुत से ऐसे स्वंतत्रता सेनानी रहे हैं जिन्होंने देश के लिए अपना सबकुछ कुर्बान कर दिया और आज उनका इतिहास में नाम है। उन्हीं स्वतंत्रता से



अटल पेंशन योजना

अटल पेंशन योजना (या एपीवाई, जिसे पहले स्वावलंबन योजना के रूप में जाना जाता था) भारत सरकार समर्थित एक पेंशन योजना है, जो मुख्य रूप से असंगठित क्षेत्र में काम कर रहे लोगों को ध्यान में रख कर निर्धारित किया गया है। जिसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 9 मई को कोलकाता में लॉन्च



जीवनी : देश के बंटवारे के समय महात्मा गांधी का हुआ था कुछ ऐसा हाल

Mahatma Gandhi Biography- भारत के राष्ट्रपिता के रूप में पहचाने जाने वाले महात्मा गांधी का दर्जा आज भी बहुत ऊंचा है। भारतीय मुद्रा हो या फिर कोई सड़क का नाम हर जगह महात्मा गांधी को आज भी सम्मान दिया जाता है। उनकी तस्वीरें सरकारी भवनों में नजर आती हैं और इसके अलावा 15



आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x