छंदमुक्त

छंदमुक्त काव्य

"विधा-छंदमुक्त" रूठकर चाँदनी कुछ स्याह सी लगीबादल श्वेत से श्याम हो चला हैक्या पता बरसेगा या सुखा देगाहै सिकुड़े हुए धान के पत्तों सी जिंदगीउम्मीद और आशा से हो रही है वन्दगीआज की मुलाकात फलाहार सी लगीरूठकर चाँदनी कुछ स्याह सी लगी।।वादे पर वादे सफेद झूठ की फलीक्वार के धूप में श्याम हुई सुंदरीअरमानों क



छंदमुक्त काव्य

"छंद मुक्त काव्य" अनवरत जलती है समय बेसमय जलती हैआँधी व तूफान से लड़ती घनघोर अंधेरों से भिड़ती हैदिन दोपहर आते जाते हैप्रतिदिन शाम घिर आती हैझिलमिलाती है टिमटिमाती हैबैठ जाती है दरवाजे पर एक दीया लेकरप्रकाश को जगाने के लिएपरंपरा को निभाने के लिए।।जलते जलते काली हो गई हैमानो झुर्रियाँ लटक गई हैबाती और



छंदमुक्त काव्य

रंगोत्सव पर प्रस्तुत छंदमुक्त काव्य...... ॐ जय माँ शारदा......!"छंदमुक्त काव्य"मेरे आँगन की चहकती बुलबुलमेरे बैठक की महकती खुश्बूमेरे ड्योढ़ी की खनकती झूमरआ तनिक नजदीक तो बैठदेख! तेरे गजरे के फूल पर चाँदनी छायी हैपुनः इस द्वार के मलीन झालर पर खुशियाँ आयी है।।उठा अब घूँघट, दिखा दे कजरारे नैनआजाद करा



फागुनी बहार, छंद मुक्त काव्य

फागुनी बहार"छंदमुक्त काव्य"मटर की फली सीचने की लदी डली सीकोमल मुलायम पंखुड़ी लिएतू रंग लगाती हुई चुलबुली हैफागुन के अबीर सी भली है।।होली की धूल सीगुलाब के फूल सीनयनों में कजरौटा लिएक्या तू ही गाँव की गली हैफागुन के अबीर सी भली है।।चौताल के राग सीजवानी के फाग सीहाथों में रंग पिचकारी लिएहोठों पर मुस्का



छंद मुक्त काव्य

महिला दिवस को समर्पित"छंद मुक्त काव्य"महिला का मनसुंदर मधुवनतिरछी चितवननख-सिख कोमलता फूलों सीसर्वस्व त्याग करने वालीकाँटों के बिच रह मुसुकाएमानो मधुमास फाग गाए।।महिला सप्तरंगी वर्णी हैप्रति रंग खिलाती तरुणी हैगृहस्त नाव वैतरणी हैकल-कल बहती है नदियों सीहर बूँद जतन करने वालीनैनों से सागर छलकाएबिनु पान



छंदमुक्त काव्य

"छंद मुक्त काव्य" मेरे सावन की शीलनमन की कुढ़न गर्मी की तपनमेरे शिशिर की छुवनमधुमास की बहार हो तुम।।जब से सजा है चेहरे पर शेहरातुम ही बहार हो तुम ही संसार होकहो तो हटा दूँ इन फूलों की लड़ियों कोदिखा दूँ वह ढ़का हुआ चाँदमेर जीवन में खिली चाँदनी हो तुम।।मेरी शहनाई की रागिनी होमेरे हवा की आँधी होमेरे सूरज



@छंदमुक्त काव्य"

..!छंदमुक्त काव्य, बदलता मौसम तुम ही हो मेरे बदलते मौसम के गवाहमेरे सावन की सीलनमेरे मन की कुढ़न मेरी गर्मी की तपनमेरे शिशिर की छुवनमधुमास की बहार हो तुम।।तुम ही होे मेरे उम्र की पहचानमेरे चेहरे पर सेहरे की शानतुम ही बहार हो तुम ही संसार होकहो तो हटा दूँ इन फूलों की लड़ियों कोदिखा दूँ वह ढ़का हुआ चाँदम



"छंदमुक्त काव्य" कूप में धूप मौसम का रूप

"छंदमुक्त काव्य"कूप में धूपमौसम का रूप चिलमिलाती सुबहठिठुरती शाम है सिकुड़ते खेत, भटकती नौकरीकर्ज, कुर्सी, माफ़ी एक नया सरजाम हैसिर चढ़े पानी का यह कैसा पैगाम है।।तलाश है बाली कीझुके धान डाली कीसूखता किसान रोजगुजरती हुई शाम है कुर्सी के इर्द गिर्द छाया किसान हैखेत खाद बीज का भ्रामक अंजाम हैसिर चढ़े पानी





1
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x