चंद

1


हॉकी का जादूगर राष्ट्रप्रेम से राष्ट्रीयखेल तक ! भारत रत्न एक विश्लेषण एक खोज ?

कोई विशिष्ट स्थान अथवा व्यक्ति से संबंध नहीं आप कई प्रकार की लाभान्वित व्यक्तित्व की श्रेणियों से इसे प्रायोजित कर सकते हैं,उदाहरण के लिए कोई राजनीतिक संगठन के श्रीमान जो हर आयोजन को निज-स्वार्थ प्रयोजन में परिवर्तित कर कुछ जड़शब्दों को चेतन भाव के अभाव में प्राकृतिक पुष्पांजलि अर्पित कर जनता समूह क



खतरों के खिलाड़ी 10: कंटेस्टेंट करण पटेल, अदा खान, तेजस्वी प्रकाश, करिश्मा तन्ना और अन्य शूटिंग के लिए बुल्गारिया रवाना | आई डब्लयू एम बज

कलर्स खतरों के खिलाडी का एक और शानदार सीजन शुरू करने के लिए तैयार है। रोमांच, साहस, मनोरंजन और बहुत सारे डर का एक मिश्रण, स्टंट-असाधारण शो के 10 वें सीज़न, खतरों के खिलाड़ी में करण पटेल, अदा खान, करिश्मा तन्ना, धर्मेश यलैंडे, रानी चटर्जी, अ



देखिए इस प्यार को क्या नाम दूं प्रसिद्ध एक्टर बरून सोबती की उनकी बेटी सिफत के साथ पहली तस्वीर | आई डब्लयू एम बज

बरून सोबती जो स्टार प्लस के शो इस प्यार को क्या नाम दूं में अर्णव ये किरदार से प्रसिद्ध हुए है, ने कपल के पहले बच्चे की आने की खबर मीडिया को मई में दी थीं। आई डब्लू एम बज्ज.कॉम ने सबसे पहले अापको ये खबर दी थी कि बरून सोबती और पश्मीन मनचंदा अपने पहले बच्चे को जन्म देने वाल



राहुल मनचंदा और श्रुति कंवर &टीवी के शो "मेरी हानिकारक बीवी" में प्रवेश करने वाले है | आई डब्लयू एम बज

आई डब्लू एम बज्ज़ विशेष रूप से &टीवी के “मेरी हानिकारक बीवी” के विकास और शो से जुड़ी जानकारी के बारे में रिपोर्ट कर रहा है।पहले हमने शो के 3 महीने के लीप लेने के बारे में बताया था जो शो में एक नया मोड़ लाएगा। हमने सुमन राणा के बारे में भी जानकारी दी, जिन्होंने ज़ी टीवी क



मुंशी प्रेमचंद

हर आवाज के पीछे एक आवाज होती है, सुन सके जो वो ही सच्चा इंसान होता है. झूठ दुनियां में है इतने हर कोई सच समझ बैठा है, ख़ुद को ख़ुदा और सब को गुलाम समझ बैठा है.तोड़ जिसने दी है ज़ंज़ीर गुलामी की,उसको ही मुल्क का गद्दार कहता है. बिग



मुंशी प्रेमचंद की सर्वश्रेष्ट11 कहानियां

धनपत राय श्रीवास्तव, जिन्हें प्रेमचंद (३१ जुलाई १८८० – ८ अक्टूबर १९३६) के नाम से जाना जाता है हिन्दी और उर्दू के सर्वश्रेष्ट हिंदी लेखकों में से एक हैं। मुंशी प्रेमचंद ने बनारसीदास चतुर्वेदी को दिए अपने एक साक्षात्कार में अपनी पसंदीदा 11 गल्पों के बारे में बताया था, जो इस प्रकार है : बड़े घर की बेट



एशियाई गेम्स : पिंकी बलहर ने रजत और मलप्रभा जाधव ने कुरैश में कांस्य पदक जीता

भारत ने आजकुरैश में दोपदक जीते, केंद्रीय एशिया के लिए स्वदेशी कुश्ती का एक रूप, पिंकी बलहर और मलाप्रभा यल्लप



एशियाई गेम्स : मनजीत ने स्वर्ण और जॉनसन ने रजत जीता

एशियाई गेम्स 2018 मेंपुरुषों के 800 मीटर फाइनलमें मनजीत सिंहने स्वर्ण जीताजबकि जिनसन जॉनने रजत जीतलिया है | मनजीत सिंह ने1:46:15 मिनट में यह रेसपूरी की जबकि जिनसन जॉनसन ने 1:46:35 मिनट का समय लिया



एशियाई गेम्स 2018 : फाइनल में हारीं सिंधु, जीता सिल्वर

पीवी सिंधु ने मंगलवार को विश्व नंबर 1 ताई त्सू यिंग से हारने के बाद एशियाई खेलों में ऐतिहासिक व्यक्तिगत रजत पदक जीत लिया है | ताई त्ज़ू यिंग ने सिंधु को 13-21, 16-21से हराया। 23 वर्षीय सिंधु से पहले एशियाई खेलों में कोई भी भारतीय एकल स



सायना नेहवाल और पी वी सिंधु की ऐतिहासिक जीत

भारतीय धवाको मोहम्मद अनास,हिमा दास और दुती चंद नेरविवार को 18 वें एशियाईखेलों में अपनेसंबंधित कार्यक्रमों में रजतपदक जीते। अनास और हिमा ने क



राष्ट्रीय खेल दिवस से जुड़ी बातें

हॉकी लेजेंड ध्यान चंद का जन्म 9 अगस्त 1905 को इलाहाबाद में हुआ था। ध्यानचंद को व्यापकरूप से सबसेअच्छा हॉकी खिलाड़ीमाना जाता है।उनकी गोल स्कोरिंगक्षमता असाधारण थी | ध्यान चंद ने 1928, 1932 और 1936 में लगा



फुर्सत के चंद लम्हे -"एक मुलाकात खुद से "

फुर्सत के चंद लम्हे जो मैं खुद के साथ बिता रही हूँ। घर से दूर,काम -धंधे,दोस्त - रिस्तेदार से दूर,अकेली सिर्फ और सिर्फ मैं। हां,आस बहरी दुनिया है कुछ लड़के - लड़किया जो मस्ती में डूबे है,कुछ बुजुर्ग जो अपने पोते - पोतियो के साथ खेल रहे है,कुछ और लोग है जो शायद मेरी तरह ब



सडक और हम

सुरक्षा नियमों का करना हैं सम्मान.धुँआ छोडती कोलाहल करती,एक-दो,तीन,चारपहिया दौड़ती, लाल सिंग्नल देख यातायात थमता, जन उत्सुकतावश शीशे से झांकता. +++++बीच सडक चौतरफा रास्ता,तपती दुपहरी में छाता तानता,जल्दी निकलने को हॉर्न बजाता,वाहनों के बीच फोन पर बतियाता.



“राष्ट्रीय खेल दिवस” ( 29 अगस्त )

हमारे देश भारत में ‘राष्ट्रीय खेल दिवस’ 29 अगस्त को हॉकी के महान खिलाड़ी मेजर ध्यानचंद के प्रति सम्मान प्रकट करने के लिए उनकी जन्म-जयंती के अवसर पर मनाया जाता है । दुनिया भर में ' हॉकी के जादूगर ' के नाम



प्रेमचन्द के उपन्यासों में बाल मनोविज्ञान

          प्रेमचन्द हिन्दी के प्रथम मौलिक उपन्यासकार हैं। उन्होंने एक क्रमबद्ध एवं संगठित कथा देने का महत्त्वपूर्ण प्रयास किया है। उन्होंने हिन्दी के पाठकों की अभिरुचि को तिलिस्मी उपन्यासों की गर्त से निकालकर शुद्ध साहित्यिक नींव पर स्थिर किया। उनकी कला, उनका आदर्शवाद, उनकी कल्पना और सौन्दर्यानुभूति



कहानी : पंच परमेश्वर / प्रेमचंद

जुम्मनशेख अलगू चौधरी में गाढ़ी मित्रता थी। साझे में खेती होती थी। कुछ लेन-देन में भीसाझा था। एक को दूसरे पर अटल विश्वास था। जुम्मन जब हज करने गये थे, तब अपना घर अलगू को सौंप गये थे, और अलगू जब कभी बाहर जाते, तो जुम्मन पर अपना घर छोड़ देते थे। उनमें न खाना-पाना काव्यवहार था, न धर्म का नाता; केवल विचा





1
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x