दूर

दुनिया में आए अकेले हैं। दुनिया से जाना अकेले हैं। दर्द भी सहना पड़ता अकेले हैं। लोग मतलब निकलते ही छोड़ देते अकेला है। तो फिर काहे की दुनियादारी, लोगों से दूर रहने में ही ठीक है। दर्द जब हद से गुजरता है तो गा लेते हैं। जिंदगी इम्तिहान लेती है। कभी इस पग में कभी उस पग में घुंघरू की तरह बजते ही रहें



कोरोना नही, महामारी है।

काटे नहीं कटते ये दिन ये रातकह दी है जो घर मे रहने की बातलो आज मैं कहता हूँकोरोना नही यह तो महामारी है।कोई नहीं है बस कोरोना कोरोना कहनी थी तुमसे जो दिल की बातजब तक रहे कोरोना घर मे ही रहना है,कोरोना एक महामारी बन गई है।कैसी हवा है, जहरीली जहरीलीआज सारे जहाँ, में कोरोना कोरोनासारा नज़ारा, नया नयादिल



है,जहाँ जीना कठिन, मरना जहाँ आसान है! क्या .... यही हिंदोस्तान है ?

है,जहाँ जीना कठिन, मरना जहाँ आसान है! क्या .... यही हिंदोस्तान है ? पकड़ो, पकड़ो , .... मारो ,मारो , की आवाज़ों से वहकांप रहा था । एकाएक आवाज़ें नजदीक आने लगी । उसे कुछ समझ नहीं आ रहाथा। वह जड़ खड़ा था, तभीकिसी ने झपट कर उसे खींच लिया और छिपा लिया अपने आँचल में.....थोड़ी दूर का मंजर देखकर वह छटपटाने ल



ऐ हमदम...

ऐ हमदम...✒️मन के मनके, मन के सारे, राज गगन सा खोल रहे हैंअंधकार के आच्छादन में, छिप जाने से क्या हमदम..?शोणित रवि की प्रखर लालिमानभ-वलयों पर तैर रही है,प्रातःकालिक छवि दुर्लभ हैशकल चाँद की, गैर नहीं है।किंतु, चंद ये अर्थ चंद को, स्वतः निरूपित करने होंगेश्रुतियों के अभिव्यंजन की अब, प्रथा नहीं है ऐ ह



बीत रहा दशक

एक दशक बीतने वाला है, बहुत कुछ बदल गया है, बदल रहा है। अगले दशक में जाने से पहले एक नजर देख ले। ये दशक बेटियों की दहशत और आदमी की वहशीपन की आबादगी का रहा। 16की निर्भया और दुधमुंही बच्चियों के जिस्म को नोचने का रहा। नोटों से गांधी गायब नहीं हुआ, बस ये शुक्र रहा। नोट गायब करने की साजिशों का रहा। कितन



पञ्चमं स्कन्दमातेति

पंचमा स्कन्दमाता नवदुर्गा – पञ्चम नवरात्र – देवीके स्कन्दमाता रूप की उपासना सौम्या सौम्यतराशेष सौम्येभ्यस्त्वतिसुन्दरी, परापराणां परमा त्वमेव परमेश्वरी |पञ्चमस्कन्दमातेति – देवी का पञ्चम स्वरूप स्कन्दमाता के रूप में जाना जाता है औरनवरात्र के पाँचवें दिन माँ दुर्गा के इसी स्वरूप की उपासना की जाती है।



कार्तिक कला केंद्र की कथक प्रस्तुति ....

https://duniaabhiabhi.com/kathak-presentation-by-karthik-kala-academy/



चंद्रयान 2

भारत का चंद्रयान 2 मिशन फेल रहा परन्तु यदि यह सफल होता तो इससे आम आदमी को क्या लाभ होता।क्या वह चांद पर जाकर रह सकता था ?क्या वह चांद पर घर खरीद सकता था ?या फिर यह सब झूठी शान दिखाने या नेताओं और पूंजीपतियों द्वारा गरीबों के पैसे पर चांद पर अयाशी करने का माध्यम बनता औ



चाँद की धरती पर इंसान का पहला कदम...

20जुलाई से ठीक 50 साल पहले नील आर्मस्ट्रांग,माइकल कालिंस और एडविन एल्ड्रिन, एक रोमांचकयात्रा पर गए । उस वक्त किसी ने सोचा भी नहीं था कि जिस काम के लिए वे दोनों चाँद परजा रहे थे, उसमें सफल होंगे भी या नहीं । लेकिन आंखों मेंढेरों सपने लिए



बदमिज़ाजी

बदमिज़ाजी पे हमारी क्यूँ इस क़दर गुस्सा, तेरी बदमिज़ाजी का तो हम ज़िक्र भी नहीं करते.( आलिम)



दमा (अस्थमा) को जड़ से खत्म करने के 10 आयुर्वेदिक उपाय

सलमान खान और गोविंदा के बेहतरीन अभिनय से सजी फिल्म पार्टनर में आपने एक एक बात नोटिस की? फिल्म में गोविंदा बात-बात पर एक इनहेलर से सांस लेते हैं. वो एक अस्थमा इनहेलर था जो अ



जाने दमा रोग के लक्षण,कारण,और इलाज के बारें में | Asthma:Symptoms,Causes,Treatment

दमा के रोगियों को सांस लेने में तकलीफ का सामना करना पड़ता है। दमा रोग में श्वास नलिकाओं में सूजन और विकार आ जाता है जिस कारण नलिका सिकुड़ जाती है और इसके वजह से फेफड़ो में सूजन हो जाती है और कफ जम जाता है। दमा का ठीक समय पर इलाज ना करवाने से यह बहुत गंभीर समस्या बन जाती



बेटनेसोल टैबलेट (Betnesol Tablet)

Betnesol Tablet (बेटनेसोल टैबलेट) खुजली या दाने, गतिभंग रक्त वाहिनी विस्तार, त्वचा की सूजन, निरुद्धमणि, प्रत्यूर्जतात्मक अव्यवस्थाएँ, खुजली, दमा, त्वचा संबंधी समस्याएं, व्रणयुक्त बृहदांत्रशोथ, छालरोग और अन्य स्थितियों के उपचार के लिए निर्देशित किया जाता है।Betnesol Tablet (बेटनेसोल टैबलेट) इस दवा गा



प्यार का दंश या फर्ज

प्यार का दंश या फर्ज तुलसीताई के स्वर्गवासी होने की खबर लगते ही,अड़ोसी-पड़ोसी,नाते-रिश्तेदारों का जमघट लग गया,सभी के शोकसंतप्त चेहरे म्रत्युशैय्या पर सोलह श्रंगार किए लाल साड़ी मे लिपटी,चेहरे ढका हुआ था,पास जाकर अंतिम विदाई दे रहे थे.तभी अर्थी को कंधा देने तुलसीताई के पति,गोपीचन्दसेठ का बढ़ा हाथ,उनके बे



23 जनवरी 2019

शांति का जीवन।

हममें से अधिकांश लोग अपने जीवन में शांति और सुगमता चाहते हैं - जीवन तनावपूर्ण, अराजक, भारी, विचलित करने वाला, थकावट भरा हो सकता है।हम उस सब से दूर होना चाहते हैं, पागलपन से बाहर निकलें, और अधिक से अधिक शांति की जगह पर पहुंचें।मैं साझा करने जा रहा हूं कि कैसे एक सरल विधि में शांति का जीवन पाएं। एक मि



फ़िल्मो में कास्टिंग डायरेक्टर की होती है महत्वपूर्ण भूमिका

फ़िल्मो में कास्टिंग डायरेक्टर की होती है महत्वपूर्ण भूमिका आईये समझते है कास्टिंग डायरेक्टर शादमान खान का क्या है एक्स फैक्टर।- संजय अमाननब्बे के दशक से लेकर आज के वर्तमान परिवेश में फिल्मो और सीरियल्स के निर्माण में बहुत ही तेजी के साथ बदलाव देखे गए है और आए दिन नए नए बदलाव देखे जा रहे है , बहुत से



बदहाल अर्थ व्यवस्था में आखिर क्या करे आदमी ....!!

कहां राजपथों पर कुलांचे भरने वाले हाई प्रोफोइल राजनेता और कहां बालविवाह की विभीषिका का शिकार बना बेबस - असहाय मासूम। दूर - दूर तक कोईतुलना ही नहीं। लेकिन यथार्थ की पथरीली जमीन दोनों को एक जगह ला खड़ीकरती है। 80 के दशक तक जबरन बाल विवाह की सूली पर लटका दिए गए नौजवानोंकी हालत बदहाल अर्थ व्यवस्था में



मुक़द्दम

महफूज़ नहीं कोई क्यों तेरे मुक़द्दम से, हर आन पे बन आई हर जान को खतरा है. (आलिम)



बीजेपी के विधायक राम कदम ने अपनी विवादास्पद टिप्पणी के लिए माफ़ी मांगी

भाजपा विधायक राम कदम,उनकी विवादास्पद टिप्पणीके लिए आलोचना कासामना करना पड़रहा है| गुरुवारको राम कदम ने सोशल मीडिया पर अपनी टिप्पणीके लिए माफ़ीमांगी |"राजनीतिक विरोधियों ने मेरीटिप्पणी को विवादपैदा करने केलिए विकृत करदिया है जिस से माताओंऔर बहनों कीभावनाओं को ठेस



"गज़ल"आदमी भल फरज मापता रह गया

काफ़िया- आ स्वर रदीफ़- रह गया वज्न- २१२ २१२ २१२ २१२ फाइलुन फाइलुन फाइलुन फाइलुन"गज़ल"आदमी भल फरज मापता रह गयाले उधारी करज छाँकता रहा गयाखोद गड्ढा बनी भीत उसकी कभीजिंदगी भर उसे पाटता रह गया।।दूर होते गए आ सवालों में सभीहल पजल क्या हुई सोचता रह गया।।उमर भर की जहमद मिली मुफ्त



आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x