भारतवासियों को संविधान दिवस (26 नवम्बर) की हार्दिक बधाई ।

सभी भारतवासियों को संविधान दिवस (26 नवम्बर) की हार्दिक बधाई । भारत गणराज्य का संविधान 26 नवम्बर 1949 को बनकर तैयार हुआ था। संविधान सभा के निर्मात्री समिति के अध्यक्ष डॉ॰ भीमराव आंबेडकर जी ने भारत के महान संविधान को 2 वर्ष 11 माह 18 दिन में 26 नवम्बर 1949 को पूरा कर राष्ट्र को समर्पित किया। गणतंत्र



संभवना

इससे फर्क नहीं पड़ता,तुम कितना खाते हो?फर्क इससे भी नहीं पड़ता,कि कितना कमाते हो?फर्क इससे भी नहीं पड़ता, कि कितना कमाया है?फर्क इससे भी नहीं पड़ता,कि क्या क्या गंवाया है?दबाया है कितनों को,कुछ पाने के लिए.जलाया है कितनों को,पहचान बनाने के लिए.फर्क इससे नहीं पड़ता,कि दूजों को



समर्थवान कौन ?? --- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सनातन काल से यदि भारतीय इतिहास दिव्य रहा है तो इसका का कारण है भारतीय साहित्य | हमारे ऋषि मुनियों ने ऐसे - ऐसे साहित्य लिखें जो आम जनमानस के लिए पथ प्रदर्शक की भूमिका निभाते रहे हैं | हमारे सनातन साहित्य मनुष्य को जीवन जीने की दिशा प्रदान करते हुए दिखाई पड़ते हैं | कविकुल शिरोमणि परमपूज्यपाद गोस्वा



जीवन में नैतिकता :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस धराधाम पर जीवन जीने के लिए हमारे महापुरुषों ने मनुष्य के लिए कुछ नियम निर्धारित किए हैं | इन नियमों के बिना कोई भी मनुष्य परिवार , समाज व राष्ट्र का सहभागी नहीं कहा जा सकता | जीवन में नियमों का होना बहुत ही आवश्यक है क्योंकि बिना नियम के कोई भी परिवार , समाज , संस्था , या देश को नहीं चलाया जा सक



कुत्ते और इन्सान: अजय अमिताभ सुमन

मैंने ये कविता आदमी और कुत्तों के व्यवहार को ध्यान में रखते हुए लिखी है. मैंने देखा कि ईश्वर कुत्ते को स्वतन्त्र निर्णय लेने की शक्ति से वंचित रखा हुआ है. जबकि आदमी के पास स्वतंत्र निर्णय लेने की क्षमता ह



विश्वास एवं विश्वासघात :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सृष्टि के अखिलनियंता देवों के देव महादेव को शिव कहा जाता है | शिव का अर्थ होता है कल्याणकारी | मानव जीवन में सबकुछ कल्याणमय हो इसके लिए शिवतत्व का होना परम आवश्यक है | शिवतत्व के बिना जीवन एक क्षण भी नहीं चल सकता | शिव क्या हैं ?? मानस में पूज्यपाद गोस्वामी तुलसीदास जी ने भगवान शिव को विश्वास का स्



कृष्ण: योगी भी भोगी भी:अजय अमिताभ सुमन

मेरे एक मित्र ने कृष्ण जन्माष्टमी के अवसर पर सोशल मीडिया पे वायरल हो रहे एक मैसेज दिखाया। इसमें भगवान श्रीकृष्ण को काफी नकारात्मक रूप से दर्



सनातन धर्म का दर्शन :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सनातन धर्म के आर्षग्रंथों (गीतादि) में मनुष्य के कल्याण के लिए तीन प्रकार के योगों का वर्णन मिलता है :- ज्ञानयोग , कर्मयोग एवं भक्तियोग | मनुष्य के लिए कल्याणकारक इन तीनों के अतिरिक्त चौथा कोई मार्ग ही नहीं है | प्रत्येक मनुष्य को अपने कल्याण के लिए इन्हीं तीनों में से किसी एक को चुनना ही पड़ेगा |



मनुष्य एवं सूर्य :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*परमात्मा की बनाई हुई इस सृष्टि को सुचारु रूप से संचालित करने में पंचतत्व एवं सूर्य , चन्द्र का प्रमुख योगदान है | जीवों को ऊर्जा सूर्य के माध्यम से प्राप्त होती है | सूर्य की गति के अनुसार ही सुबह , दोपहर एवं संध्या होती है | सनातन धर्म में इन तीनों समय (प्रात:काल , मध्यान्हकाल एवं संध्याकाल ) का व



दूरदर्शन भवन के एसी प्लान्ट में लगी आग

बुधवार को दोपहर दिल्ली में राष्ट्रीय प्रसारक दूरदर्शन के कार्यालय में आग लग गई। दमकलकर्मियों ने मात्र 10 मिनट में ही आग पर नियंत्रण पा लिया | किसी के भी घायल होने की कोई खबर नहीं है। दिल्ली फायर सर्विस को करीब12:50 बजे कॉल आया और पांच फायर इंजनों को मौके पर भेजा गया | मध्य दिल्ली केमंडी हाउस क्षेत



सुदर्शन चक्र का रहस्य

कहा जाता है की प्राचीन समय के अंदर जब राक्षसों का अत्याचार दैवताओं पर बहुत अधिक बढ़ गया तो ‌‌‌सारे देवता भगवान विष्णु के पास पहुंचे और राक्षसों से बचाने का आग्रह करने लगे । तब भगवान विष्णु के पास भी ऐसा कोई अस्त्र नहीं था कि वे राक्षसों का वध कर सकें । इस वजह से भगवान विष्णु कैलाश पर्वत पर जाकर 1000



भगत, श्री सुदर्शन - लोकसभा सदस्य

निर्वाचन क्षेत्र -लोहरदगा (ST) (झारखंड)दल का नाम -भारतीय जनता पार्टी ( भा.ज.पा.)ईमेल -s[DOT]bhagat[AT]sansad[DOT]nic[DOT]inजन्म की तारीख -20/10/1969उच्चतम योग्यता -स्नातकशैक्षिक और व्यावसायिक योग्यता -बी.ए. (ऑनर्स) कार्ति‍क उरांव कॉलेज, गुमला, रांची वि‍श्‍ववि‍द्यालय, झारखंड से शि‍क्षा ग्रहण की



जरदोश, श्रीमती दर्शना विक्रम - लोकसभा सदस्य

निर्वाचन क्षेत्र -सूरत (गुजरात)दल का नाम -भारतीय जनता पार्टी ( भा.ज.पा.)ईमेल -darshanajardosh[AT]sansad[DOT]nic[DOT]inmail[AT]darshanajardosh[DOT]inजन्म की तारीख -21/01/1961उच्चतम योग्यता -स्नातकशैक्षिक और व्यावसायिक योग्यता -बी.कॉम (अर्थशास्‍त्र और बैकिंग) के.पी. कॉलेज ऑफ कामर्स, सूरत से



क्या आप जानते है... महान कन्नड़ कवि और लेखक 'कुवेम्पू'

महानहस्तियों को उनके जन्मदिन पर सम्मानित करने की कड़ी में आज दिनांक 29.12.2017 के दिनगूगल ने एक ऐसे शख्स का डूडल बनाया है, जिसने अपने फील्ड में अपनेहुनर का लोहा मनवाया है । जी हाँ, यह सम्मान कन्नड़ कवि और लेख क कुप्पाली वेंकटप्पा



सुरों की मुकम्मलियत...!

हमारे एक चचा जान हमारी रोज बढ़ती औकात से हमेशा दो मुट्ठी ज्यादा ही रहे। इसलिए, भले ही कई मुद्दों पर उनसे हमारी मुखालफत रही पर उनकी बात का वजन हमने हमेशा ही सोलहो आने सच ही रक्खा।वो हमेशा कहते, जो भी करो, सुर में करो, बेसुरापन इंसानियत का सबसे बड़ा गुनाह है। लोग गरीब इसल



निस्पृह भाव व अकाम कर्म प्राप्ति की सबसे बड़ी बाधा ही ईश्वर है...!

<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedContent> <w:AlwaysShowPlaceh



दुख जैसा है, तभी अपना है

तेरा मिलना बहुत अच्च्छा लगे है, कि तू मुझको मेरे दुख जैसा लगे है...ये चर्चा, किसी के हुस्न की नही है। ना ये बयान है किसी के संग आसनाई के लुत्फ की। सीधे-सहज-सरल लफ्जों में यह तरजुमा है एक सत्य का। सच्चाई यह कि अपनापन और सोहबत की हदे-तकमील क्या है।अपना क्या है? कौन है?... वही जो अपने दुख जैसा है! मतलब



तत त्वम् असि

तत त्वं असि रोज की तरह सब काम काज समेट ऑफिस से घर पहुचा कि चलो भाई इस व्यस्त भागदौड़ की जिंदगी का एक और दिन गुजर गया,अब श्रीमती जी के साथ एक कप चाय हो जाये तो जिंदगी और श्रीमती जी दोनों पर एहसान हो जाये।खैर ख्यालों से बाहर भी नही आ पाया था कि श्रीमती जी का मधुर स्वर अचानक



टॉयलेट ब्रेक नहीं मिला तो खिलाडिय़ों ने किया प्रदर्शन

वर्ष के तीसरे ग्रैंड स्लैम विबलडन में उस समय अजीबो-गरीब स्थिति पैदा हो गई जब पुरुष युगल वर्ग के मुकाबले में उरुग्वे के पाब्लो क्यूवास को मैच के बीच में टॉयलेट ब्रेक न मिलने पर उन्होंने कोर्ट पर बैठकर प्रदर्शन शुरू कर दिया। पुरुष युगल के तीसरे दौर में पाब्लो और उनके जोड़ीदार स्पेन के मार्सेल ग्रैनोलर



आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x