1


मानवता

मानवता ही नैतिकता का आधार है । सभी नैतिक मूल्य सत्य अहिंसाप्रेम सेवा शांति करुणा इत्यादि गुणों का मूल “मानवता” ही है । ‘मानवता’ हीनैतिकता का आधार है, जैसे कोई निर्धन, असहाय, बीमार व्यक्ति भूखा है; वहां दया सेपूरित होकर कोई सेवा करता है, भूखे को भोजन कराता है; तो



आज फिर तुमपे प्यार आया है - दयावान

Aaj Phir Tumpe Pyar Aaya Hai Lyrics from Dayavan is sung by Pankaj Udhas and Anuradha Paudwal and written by Aziz Qaisi. Music of Aaj Phir Tumpe Pyar Aaya Hai is composed by Laxmikant and Pyarelal.दयावान (Dayavan )आज फिर तुमपे प्यार आया है की लिरिक्स (Lyrics Of Aaj Phir Tumpe Pyar Aaya Hai )आज फि



चाहे मेरी जान तू ले ले - दयावान

Chahe Meri Jaan Tu Le Le Lyrics from the movie Dayavan is sung by Jolly Mukherjee and Sapna Mukherjee. You can also get other songs & lyrics from Dayavan.दयावान (Dayavan )चाहे मेरी जान तू ले ले की लिरिक्स (Lyrics Of Chahe Meri Jaan Tu Le Le )हैया हो हैया क्ष (४)हम्म चाहे मेरी जान तू ले लेचाहे ईमा



दिल तेरा किसने तोडा - दयावान

दयावन से दिल तेरा किसान टोडा गीत मोहम्मद अज़ीज़ द्वारा गाया जाता है और इंडिवार द्वारा लिखा जाता है। इस गीत का संगीत लक्ष्मीकांत और प्यारेलाल द्वारा रचित है।दयावान (Dayavan )दिल तेरा किसने तोडा की लिरिक्स (Lyrics Of Dil Tera Kisne Toda )दिल तेरा किसने तोडायूँ तनहा किसने छोड़ादिल तेरा किसने तोडायूँ



कहे सइयां तेरी मेरी बात बने नहीं - दयावान

Kahe Saiyan Teri Meri Baat Bane Nahi Lyrics from Dayavan is sung by Alka Yagnik and Kavita Krishnamurthy and written by Aziz Qaisi. Music of Kahe Saiyan Teri Meri Baat Bane Nahi is composed by Laxmikant and Pyarelal.दयावान (Dayavan )कहे सइयां तेरी मेरी बात बने नहीं की लिरिक्स (Lyrics Of Kahe Saiya



दयावान (Dayavan )

'दयावन' 1 9 88 की हिंदी फिल्म है जिसमें विनोद खन्ना, फिरोज खान, माधुरी दीक्षित, अमला अकिकिननी, अमृष पुरी और अनुपम खेर प्रमुख भूमिका निभाते हैं। हमारे पास 4 गाने के गीत और दयावन के 4 वीडियो गाने हैं। लक्ष्मीकांत और प्यारेलाल ने अपना संगीत बना लिया है अल्का याज्ञिक, कविता कृष्णमूर्ति, मोहम्मद अज़ीज़,



राम , श्री विष्‍णु दयाल - लोकसभा सदस्य

निर्वाचन क्षेत्र -पलामू (SC) (झारखंड)दल का नाम -भारतीय जनता पार्टी ( भा.ज.पा.)ईमेल -vishnudayal[DOT]ram[AT]sansad[DOT]nic[DOT]in vishnudayalram[DOT]mp[AT]gmail[DOT]comजन्म की तारीख -23/07/1951उच्चतम योग्यता -स्नातकशैक्षिक और व्यावसायिक योग्यता -बी.ए. (ऑनर्स) पटना काॅलेज, विश्‍वविद्यालय (बिहार)



पसुनूरी, श्री दयाकर - लोकसभा सदस्य

निर्वाचन क्षेत्र -वारंगल (SC) (तेलंगाना)दल का नाम -तेलंगाना राष्ट्र समिति (ते.रा.स.)ईमेल -pasunooridayakar[AT]gmail[DOT]comwglmpdayakar[AT]gmail[DOT]comजन्म की तारीख -02/08/1967उच्चतम योग्यता -शैक्षिक और व्यावसायिक योग्यता -बैचलर ऑफ फाइन आर्ट्स (बी.एफ.ए.) जवाहरलाल नेहरु प्रौद्योगिकी संरथ्‍ाान (ज



2017 में यह बड़ी हस्तियाँ गिरी मुँह के बल

आज बात करते है उन बड़ी हस्तियां की जिनके लिए रहा यह साल रहा बेहद खराबसाल 2017 को खत्म हुए कुछ दिन हो गए हैं, यह साल किसी के लिए अच्छा था तो किसी के लिए बुरा। बहुत लोग इस साल ज़मीन से उठ कर आसमान पर जा बैठे, वहीं कुछ हस्तियां एसी भी हैं जो



वर्तमान परिप्रेक्ष्य में पं० दीनदयाल उपाध्याय का अंत्योदय दर्शन

यह लेख 20 अगस्त 2017 को युगभारती, कानपुर द्वारा आयोजित व्याख्यान में मुख्य वक्ता डॉ. सुधांशु त्रिवेदी जी के पूर्व विषय-प्रवर्तन करते हुए दिये गये मेरे भाषण का लिखित रूप है.भारतीय जनता पार्टी केराष्ट्रीय प्रवक्ता और आज के व्याख्यान के मुख्य वक्ता माननीय डॉ. सुधांश



शत शत नमन इस विभूति को

आज जन्मदिन है देश के नौवें राष्ट्रपति डाक्टर शंकर दयाल शर्मा जी का और वे सदैव मेरे लिए श्रद्धा के पात्र रहेंगे क्योंकि उनके बारे में जो सबसे महत्वपूर्ण है वह ये कि मुझे अच्छी तरह से याद है कि देश के प्रथम नागरिक के पद से जब उनकी सेवानिवृति का अवसर आया तो उनके चेहरे पर तनिक भी विषाद नहीं था



भूखे बच्चों को रोटी खिलाने के लिए तंगहाली में कुली बन गया देश का यह नेशनल हॉकी खिलाड़ी

हॉकी के मैदान पर गोल दागने वाले नेशनल खिलाड़ी तारा सिंह का नया पता है अंबाला रेलवे स्टेशन। रेलवे में खेल कोटे से उन्हें मुलाजिम होना था पर वे कुली बनने को मजबूर  नई दिल्लीः अंबाला रेलवे स्टेशन पर अगर कोई नौजवान कुली आपसे मिले और पूछे कि बाबूजी कहां सामान ले चलना है तो जरा उसका नाम जरूर पूछ लीजिएगा।



मेला

शहर में मेला लगा हुआ था। पिता ने पुत्र को बताया कि वह छुट्टी के दिन उसे मेला दिखाने ले जाएगा। पुत्र सप्ताह भर अत्यंत उत्साहित रहा तथा उत्सुकता से रविवार का इंतज़ार करता रहा। नियत दिन पिता और पुत्र दोनों मेला देखने गए और पिता उसका हाथ पकड़कर उसे पूरे मेले में घुमाने लगा। वाह, क्या सुंदरता थी! तरह तरह





1
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x