उत्तर प्रदेश बोर्ड परीक्षा में उत्तीर्ण सभी छात्रों को मैं बधाई

उत्तर प्रदेश बोर्ड परीक्षा में उत्तीर्ण सभी छात्रों को मैं बधाई एवं शुभकामनाएं देता हूँ। आप सभी छात्र-छात्राओं को भारत का भविष्य निर्धारित करना है। आशा है आप अपने आगामी जीवन की सभी परीक्षाओं में अपना इसी प्रकार श्रेष्ठतम प्रदर्शन देगें। ‬‪जो छात्र इस वर्ष किसी कारणवश



महामारी के बाद के विश्व में भारतीय विदेश नीति

कोरोना वायरस के प्रकोप से विश्व व्यवस्था व्यापक परिवर्तन के दौर से गुज़र रही है। इन परिवर्तनों की व्यापकता सामाजिक, आर्थिक, राजनैतिक, सांस्कृतिक क्षेत्रों के साथ ही मानव के



क्या ‘‘कोरोना’’ ने ‘‘नौकरशाही’’ को कुंठित तो नहीं कर दिया है?

लॉकडाउन-4 समाप्त! लॉकडाउन-5 प्रारंभ नहीं। बल्कि इसकी जगह देश अनलॉक-1 (नॉकडाउन-1) के नये दौर में देश प्रवेश कर रहा हैं। यह नया दौर कैसा होगा, यह तो भविष्य ही बतलायेगा। आइये, तब तक नौकरशाही द्वारा जारी अपरिपक्व आधे-अधूरे आदेशों निर्देशों के संबंध में गुजरे लॉकडाउन का थोड़ा अवलोकन कर लें। ‘देश’ व ‘जीवन



06 मई 2020

समीक्षा: उरी: द सर्जिकल स्ट्राइक पूरी फिल्म

18 सितंबर 2016 को वह दिन था जब आतंकवादी समूह भारतीय सैनिकों पर हमला कर रहे थे जब वे बस से जा रहे थे। यह भारतीय सेना पर बड़े आतंकवादी हमलों में से एक था। इस हमले में 19 बहादुर सैनिक मारे गए थे।भारतीय सरकार के समर्थन के साथ भारतीय सेना ने आतंकवादी शिविरों को नष्ट करने के बदला पर इस बहादुर ऑपरेशन को अं



Hindi poetry on patriotism and love - शूरवीर ; अर्चना की रचना

देशभक्ति प्रेम पर हिंदी कविता शूरवीर आज फिर गूँज उठा कश्मीर सुन कर ये खबरदिल सहम गया और घबरा कर हाथ रिमोट पर गया खबर ऐसी थी की दिल गया चीर हैडलाइन थी आज फिर गूँज उठा कश्मीर फ़ोन उठा कर देखा तो उनको भेजा आखिरी मेसेज अब तक unread था न ही पहले के मेसेज पर blue tick था ऑनला



सोंच समझकर करें कार्य :-- आचार्य अजुन तिवारी

*इस संसार में मनुष्य को सर्वश्रेष्ठ प्राणी कहा जाता है क्योंकि सभी प्राणियों की अपेक्षा ईश्वर ने मनुष्य को बुद्धि - विवेकरूपी अमूल्य निधि प्रदान की है | मनुष्य अपने बुद्धि - विवेक का सकारात्मक प्रयोग करके स्वयं तो सफल हुआ ही साथ ही सम्पूर्ण मानव समाज के लिए नित्य नवीन ज्ञान प्रस्तुत करके संसार के वि



हसन मियाँ कुछ कीजिये

रामनाथ जी और हसन मियाँ , सदियों से साथ रह रहे हैं. एक ही धरती और एक ही देश में, बस चेहरा और जगह बदल जाया करती है. लेकिन किसी घटना को ले के दोनों के रवैये में बड़ा ही अंतर है.



देशभक्ति

सेवा ही है धर्म हमारा , मानवता ही हम भारतीयों की पहचान है,देशभक्तों की पावन भूमि है यह ,हर दिल में हिंदुस्तान है ।



देश के दो सबसे बडे गद्दार

Desh ke do sabase bade gaddarप्रिय मित्रों सुबह सुबह का प्यार भरा नमस्कार....आज हम आपके सामने "संजय द्विवेदी", की वाल से एक लेख प्रस्तुत कर रहा हूँ, यह एक ऐसा लेख है कि दिल को छू गया। "देशप्रेम की दिल में जल रही ज्वाला" जो कि हमेंं अपने व्लाग मेंं शामिल करने से रोक नही पायी। भले ही हमें काँपी राइट ऐ



02 मार्च 2020

देशभक्ति की भूख

*देशभक्ति की भूख*प्रिय स्नेही मित्रों जय श्रीकृष्णा *देशभक्ति की भूख* मैंं जाति से ब्राह्मण पं0 रमाकान्त मिश्र हूँँ, लेकिन आज मैं एक ठाकुरवादी (राजपूताना) पोस्ट लिख रहा हूं।राजपूतोंं के बारे में कहा जाता है.. अजी साहब बहुत भेदभाव हुआ दलितों के साथ।उनसे खेतों में काम कराया गया।हरवाह



क्षत्रपति शिवा जी

🌞🌞🌞🌞🌞🌞🌞🌞🌞🌞🌞"बचपन" से हीं जिस वीर शिवा ने सुनेतृत्व निभाया!युद्ध - चक्रव्युह रच मिट्टी -बालू के कीले पर ध्वज फहराया!!🎌🎌🎌🎌🎌🎌🎌१६ साल का तरुण ने, पुणे के तोरण दुर्ग पर परचम् लहराया!बीजापुर के आदिलशाह को लोहे के चने वीर शिवा चबवाया!!⛺🎪⛺🎪⛺🎪⛺🎪⛺प्रपंच से पिता शाह को बंदी कर,शिवा का क्र



शाहीन बाग़ का धरना



यालाच देशप्रेम म्हणतात का?

आज अभिव्यक्ती स्वातंत्र्याच्या नावावर धर्मनिरपेक्ष देशात आपण स्वतःची दयनीय अवस्था करून घेत आहोत व देशाचीही. उच्चशिक्षित तथाकथित भारतीय तरुण( तथाकथित यासाठी म्हणत आहे की त्याच्या कृतीतून विचारातून राष्ट्रभक्ती मुळीच दिसत नाही)कदाचित प्रसिद्धीसाठी काहीही विचार न करता सोशल मीडियावर ट्विट करतो. आपले मत



संदेसे आते हैं हमें तड़पाते हैं

संदेसे आते हैं हमें तड़पाते हैं Ke Ghar Kab Aaoge - Sandese Aate Hain LyricsSndese ate hain hamen tadpaate hainJo chitthhi ati hai wo puchhe jaati haiKe ghar kab aoge likho kab aogeKe tum bin ye ghar suna suna haiKisi dilawaali ne, kisi matawaali neHamen khat likha ha



सृजन.....!

सृजन.....! ज़िंदगी है ,बनती- बिगड़ती हसरतें , जो पूरी न होने पर भी नए सृजन की ओर इशारा करती हैं। सुबह की ओस की वे बूँदें , जो चंचलता से पत्तों पर थिरकती मिट्टी में समां जाती हैं , तो कहीं सूखे पत्तों- सी चरमराती ज़िंदगी, नया बीज पाकर फ़िर सेखिलखिलाती है। बचपन के किस्से ,कहानियों से निकल ,ज़िंदगी जैसे



अभिव्यक्ति की आजादी का अर्थ ये तो नहीं......

<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedC



काली बिल्ली रास्ता काट गयी ( सच्ची लघू कहानी)

काली बिल्ली रास्ता काट गई, (सच्ची लघु कथा)डॉ शोभा भारद्वाजमेरे डाक्टर पति भारत सरकार की तरफ से ईरान भेजे गये थे अत: हम बर्षो परिवार सहित ईरान के खुर्दिस्तान प्रांत में रहे थे उन दिनों ईरान एवं ईराक में युद्ध चल रहा था हम इराक ईरान की सीमा से अधिक दूर नहीं रहते थे लेकिन युद्ध असर यहाँ कम था बमवर्षक व



आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x