दिल



स्वर्गीय बाला साहब का नारा मराठा मानुष ,से सत्ता की चाह तक उद्धव ठाकरे

स्वर्गीय बाला साहब का नारा ‘मराठा मानुष’ से सत्ता की चाह तक उद्धव ठाकरे डॉ शोभा भारद्वाज एक मई 1960 बाम्बे प्रेसिडेंसी टूटने के बाद दो नये राज्यों का निर्माण हुआमहाराष्ट्र एवं गुजरात बाला साहब ठाकरे कोमहाराष्ट्र के राजनीतिक धरातल का भरपूर ज्ञान था | वह ‘मराठी मानुष के गौरव’ के ना



टूटता दिल

इश्क हुआ हमको क्यूँ ना उनको हुआ, बहुत जाना तो आलिम बस इतना जाना, टूटता जो दिल उनका तो ख़ुदा भी रोता, टुटा हमारा तो ना ये रोया ना वो रोया. (आलिम)



दर्दे-दिल

दर्दे-दिल गर किसी ने समझा होता, ज़नाज़े को कांधा तो दिया होता. ना जलाता मज़ार पर शमा, दिल के किसी कोने में जगह तो दिया होता.रूठ कर जाना ही था तो चले जाते पर इस दिल को तो ना दुखाया होता, मर कर भी मानाने आता जो किसी ने हमको सपुर्



प्याज

ख्याल होगा। प्याज के दाम दोबारा बढ़े थे। पांच रुपए में एक प्याज लेने पर आंखों से आंसू झरे थे। तभी निम्न लिखित रचना कल्पना में आयी थी। पढ़ें।एक कवि नेसम्पादक को अकेला पायाइधर-उधर देखाकिसी को ईर्द-गिर्द न पाझट कक्ष मेें घुस आयासम्पादक ने सर उठायाअवांछित तत्व को सामने देखबुरा सा मुंह बनायाकंधे से लटके



टेंशन

लघुकथा ..................टेंशन अवकाशप्राप्ति बड़ी इज्जत से हुई . सभी ने उनके पूरे कार्यकाल की बड़ी तारीफ़ की . उनकी ईमानदारी और कर्मठता को हरेक ने सराहा . उपहारों का सिलसिला तो अगले दिन तक भी चलता रहा . कुछ ने कहा , " ऐसे समर्पित अधिकारी बहुत कम होते हैं और यदि आपके अनुभव का लाभ , विभ



दिल जिंदा रहा तो...!!

क्यों बढ़ रही दिलों में दूरियां,क्या हो गई ऐसी मजबूरियां ।क्यों दिलों की बात कोई सुनता नहीं,क्यों स्वार्थ बन रहा कमजोरियां।भावनाओं को यूं दिल में दफन न करो,दिल की आवाज यूं अनसुनी न करो।यूं अकेले सफर कट सकता नहीं,अकेले रहने का यूं दिखावा न करो।दिल मुरझा गया तो कैसे जी पाओगे,जिंदगी का बोझ न इसतरह ढो प



करीना कपूर को कुछ नहीं कहा बैकलेस होने पर और जब मैं योगा करते वक्त बैकलेस हुई तो मुझे उसी के लिए ट्रोल किया गया:अबिगेल पांडे | आई डब्लयू एम बज

सुंदर और टैलेंटेड टीवी अभिनेत्री अबिगेल पांडे, जिन्हें आखरी बार कलर्स के शो शक्ति अस्तित्व के एहसास की में कैमियो किरदार में देखा गया था उन्हें योगा में काफी रुचि है।“मैं पिछले चार वर्षों से व्यायाम के इस पारंपरिक भारतीय रूप का अनुसरण कर रही हूं। मैंने पहली बार वजन कम करन



बूढ़ी औरत

वो बूढ़ी औरत बड़ी देर से व्याकुल सी स्टेशन पर किसी को ढूंढ रही थी। मालती बड़ी देर से उसे देख रही थी ,उसकी ट्रेन एक घंटा लेट थी । उसने महसूस किया कि वृद्धा का मानसिक संतुलन भी ठीक नहीं था ।दुबली-पतली, झुर्रियों से भरा चेहरा,उलझे हुए से बाल ,अजीब सी चोगे जैसी पोशाक पहने ,हाथ में एक पोटली थामे जमीन पर



गुप्तरत्न भावनायों के समन्दर में

कुत्ता भी वफ़ा का सबक दे गया



तारक मेहता का उल्टा चश्मा SPOILER ALERT: लड़ाई के बाद नट्टू काका और बाघा का घर का बंटवारा | आई डब्लयू एम बज

तारक मेहता का उल्टा चश्मा, नीला टेलीफिल्म्स द्वारा निर्मित लोकप्रिय सब टीवी शो में, नट्टू काका और बाघा के बीच भारी लड़ाई देखी गई है जो जेठालाल (दिलीप जोशी) की दुकान पर शुरू हुई थी। नट्टू काका (घनश्याम नायक) के अनुसार, बाघा (तन्मय वेकारिया) बावरी से बात करने और दुकान में क



समीरा रेड्डी एक नन्ही परी की माँ बनी | आई डब्लयू एम बज

समीरा रेड्डी इंडियन अभिनेत्री जिन्हें पहले हिंदी फिल्मों में देखा गया। उन्हें कई तेलुगु, तमिल और मलयालम फिल्मों में भी देखा गया है।समीरा रेड्डी ने अपना फिल्म डेब्यू 2002 में फिल्म मैंने दिल तुझको दिया से किया था। वह अपनी फिल्मे डरना मना है (2003), मुसाफिर (2004), जय चिरंज



हार्ट अटैक आने के कारण और लक्षण

वैसे तो हमारे नींद से सोने पर पूरी बॉडी आराम करती है लेकिन मस्तिष्क और हृदय दो ऐसे पार्ट्स हैं जो निरंतर काम करते रहते हैं. मानव शरीर में हर पार्टस की अपनी खासियत है और सभी का अपना अहम काम होता है. अगर मैं बात सिर्फ हृदय की करूं जिसे आम भाषा में दिल कहा जाता है उसे हम



रात को बिस्तर से उठ कर पेशाब करने में हो सकता है, हार्ट अटैक, जाने इसके उपाय

Third party image referenceजब बहुत अधिक ठंड हो तो ऐसी ठंड में जिनकी आयु 45 वर्ष से अधिक है, उन्हें रात में 10 बजे सोने के बाद से जब भी बिस्तर से उठे, तब आप एक दम से ना उठे। क्योँकि ठंड के कारण शरीर का खून गाढ़ा हो जाता है । और वह धीरे धीरे कार्य करने के कारण पूरी तरह हृदय में नहीं पहुँच पाता है। इसी



दिल का दौरा: लक्षण,कारण,उपचार, घरेलू नुस्खे | Heart Attack: Symptoms,Causes,Remedies,Home Remedies

भारतीयों का खान-पान तय नहीं होता है। वह कभी देर रात में खाते हैं और सोते है। फिजिकल एक्सरसाइज करने में भी परहेज करते है।इन्हीं कारणों से पिछले कुछ साल से युवाओं में हार्ट अटैक के मामले बढ़ रहे हैं। जिससे दिल की बीमारी भारत में तेजी के स



Love Shayari in hindi for Boyfriend : लव शायरी हिंदी में बॉयफ्रेंड के लिए

Love Shayari in hindi for Boyfriend : प्यार इस दुनिया मे भगवान द्वारा बनाई गयी सबसे खूबसूरत चीज़ है। प्यार का रिश्ता हर रिश्ते से बढ़कर होता है। यह सिर्फ़ एक एहसास और महसूस किया जाने वाला रिश्ता है।आज हम आपके लिए कुछ ऐसी दिल छूने वाली लव शायरी हिन्दी में गर्लफ्रेंड और बॉ



एक नज़र इधर भी

एक नज़र इधर भी आँख से नींद बनी,पेट से खेत बना,बच्चे से प्यार बना। जीवन साथी से जीना। क्या रखा हैं इस धनदौलत मे?ये तो हैं मानव के मन को गुमराह करने का बहाना।पूज लो माँ-बाप को जीससे बनी ये काया।क्यों फिरता हैं जग मे, बंदा तू मारा-मारा?दिल, दिमाग, मन चंचल, इससे सब कोई हारा।



"गज़ल" छोड़कर जा रहे दिल लुभाते रहे झूठ के सामने सच छुपाते रहे

वज़्न--212 212 212 212 अर्कान-- फ़ाइलुन फ़ाइलुन फ़ाइलुन फ़ाइलुन, बह्रे- मुतदारिक मुसम्मन सालिम, क़ाफ़िया— लुभाते (आते की बंदिश) रदीफ़ --- रहे"गज़ल"छोड़कर जा रहे दिल लुभाते रहेझूठ के सामने सच छुपाते रहे जान लेते हक़ीकत अगर वक्त कीसच कहुँ रूठ जाते ऋतु रिझाते रहे।।ये सहज तो न था खेलना आग सेप्यास को आब जी भर प



"गीतिका" साथ मन का मिला दिल रिझाएँ चलो वक्त का वक्त है पल निभाएँ चलो

मापनी--212 212 212 212, समान्त— बसाएँ (आएँ स्वर) पदांत --- चलो "गीतिका" साथ मन का मिला दिल रिझाएँ चलोवक्त का वक्त है पल निभाएँ चलोक्या पता आप को आदमी कब मिलेलो मिला आन दिन खिलखिलाएँ चलो।।जा रहे आज चौकठ औ घर छोड़ क्योंखोल खिड़की परत गुनगुनाएँ चलो।।शख्स वो मुड़ रहा देखता द्वार कोगाँव छूटा कहाँ पुर बसाएँ



निदा फ़ाज़ली -दिल में ना हो ज़ुर्रत तो मोहब्बत नहीं मिलती In Hindi

Hindi poem -Nida Fazliदिल में ना हो ज़ुर्रत तो मोहब्बत नहीं मिलतीदिल में ना हो ज़ुर्रत तो मोहब्बत नहीं मिलतीख़ैरात में इतनी बड़ी दौलत नहीं मिलतीकुछ लोग यूँ ही शहर में हमसे भी ख़फा हैंहर एक से अपनी भी तबीयत नहीं मिलतीदेखा था जिसे मैंने कोई और था शायदवो कौन है जिससे तेरी सूरत नहीं मिलतीहँसते हुए चेहरो



फैज़ अहमद फैज़ की दिल-छूती 15 शायरियां - 15 Best soulful Shayri of Faiz Ahmed Faiz in Hindi

फैज़ अहमद फैज़ (Faiz Ahmed Faiz) की शायरी ने उन्हें हमेशा के लिए अमर कर दिया | आज उनकी मौत को तीन दशक से अधिक हो चूका है पर लोगों के दिल में वो ज़िन्दा है | "बोल, कि लब आजाद हैं तेरे बोल, जबां अब तक है तेरी" - फैज़ के कलम से निकली ऐसी ना जाने कितनी ही शायरी लोगों को जीवन



आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x