कवींन बी मेरी माँ

क्वीन बी मेरी माँ ( आज मेरी माँ का जन्म दिन है वह कितने वर्ष की हो गयी हैं हम जानना नहीं चाहते ) डॉ शोभा भारद्वाज मेरी माँ के पिता अर्थात मेरे जागीरदार नाना कालेज मेंप्रिंसिपल और जाने माने अंकगणित के माहिर थे . मेरी नानी अंग्रेजों के समय में विदेशीवस्तुओं का बहिष्कार ( पिकेटिंग



बेटे के जन्मदिन पर कविता

एक छोटा सा सपना पूरा हुआ जब मेरा बेटा आर्यन आया तोतली सी बोली से जब तुमने मुझे पापा बुलाया दिल के सारे दर्द दूर हुए जब नन्हा चेहरा मुस्कुराया तू मेरा लाडला राजकुमार मेरा ही दर्पण कहलाया नटखट भोली सी शैतानी तेरी ,सबके मन को भाए दादा दादी देख देखकर मंद मंद मुस्काए मम्मी तेरी नजर उतारे वारी वारी जाये



जीने की चाहत

जीने की चाहत<!--/data/user/0/com.samsung.android.app.notes/files/clipdata/clipdata_200815_041714_693.sdoc-->लॉकडाऊन लगा कर, जान बचा लिया तुमने।जीते जी बाहर निकाल प्रवासियों को, मार दिया तुमने।घर कैद कर लोगो की, जीने की चाहत बढ़ा दिया तुमने।अपने परायों के प्यार की, औकाद दिखा दिया तुमने।शहर में प्रवासि



5 अगस्त 2019 संसद द्वारा पारित कानून द्वारा धारा 370 ,35 a की समाप्ति

5 अगस्त 2019 संसद द्वारा पारित कानून द्वारा धारा 370 ,35 a की समाप्ति ,पार्ट -2 डॉ शोभा भारद्वाज कश्मीर भारत का अभिन्न अंग भारत का भाल है |भारतवासी अपने इस भूभाग के लिए बहुत सम्वेदनशील शील रहे है| कश्मीर का बहुत बड़ा बजट है | कश्मीर की रक्षा और पाक समर्थित आतंकवादियों से बचाने के लिए के लिये सैनि



संसद के दोनों सदनों द्वारा पारित कानून द्वारा तलाक -ऐ बिद्द्त असंवैधानिक करार किया गया था

संसद के दोनों सदनों द्वारा पारित कानून द्वारा तलाक -ऐ -बिद्द्त असंवैधानिक करार डॉ शोभा भारद्वाज30 जुलाई 2019 ऐतिहासिक दिन राज्यसभा में तीन तलाक गैर कानूनी करार किया गया | राष्ट्रपति महोदय की मंजूरी से विधेयक कानून बन गया |तीन तलाक की कुप्रथा से पीड़ित मुस्लिम महिलाओं को न्याय मिला | प्रधानमंत्री न



चीन मोदी के संकेतों को समझ जाये तो ठीक!

चीन मोदी के संकेतों को समझ जाये तो ठीक!यह मानना बेमानी होगी कि चीन के रवैये में कोई बदलाव होगा. यह बात उसी समय साबित हो चुकी थी जब चीन के उस समय के राष्ट्राध्यक्ष ने भारत आकर हिन्दी-चीनी भाई भाई का नारा दिया था तथा चीन लौटने के तुरन्त बाद भारत पर हमला कर दिया था. चीन की मक्कारी ही उसकी कूटनीती है जो



फ़ंडा 'हैप्पी बर्थ डे' का - दिनेश डाक्टर

फेस बुक की मेहरबानी से दो रोज़ पहले मेरा बर्थ डे न चाहते हुए भी जैसे तैसे मन ही गया । न चाहते हुए इसलिए क्योंकि बचपन में ही मेरे दिंवगत दादा जी ने 'जन्मदिन मसले' पर ऐसा फ़लसफ़े से लबरेज़ भाषण दिया कि ताउम्र के लिए मुझे जन्मदिन मनाने से गुरेज हो गया । हुआ यूँ गाँव में एक पंजाबी शरणार्थी परिवार आकर बसा औ



28 जून 2020 को नये कपड़े खरीदने के फायदे

🌹आज नए कपड़े खरीदकर पहनना धन देने वाला होगा! जी हाँ आज दिनांक 28 जून 2020 दिन रविवार आषाढ़ मास शुक्ल पक्ष अष्टमी तिथि को नये कपड़े खरीदकर पहनने से आमदनी में बढ़ोत्तरी होगी, यदि रोग ग्रसित हैं तो रोगों से छुटकारा मिलेगा शिक्षा, नौकरी, व्यापार आदि में लाभ की स्थिति बनेगी, कुल मिलाकर देखा जाए तो सफल



विश्व में ‘‘लाॅकडाउन की नीति’’ कहीं ‘गलत’ व ‘‘असफल’’ तो सिध्द नहीं हो रही है?

‘‘कोरोनावायरस’’ ‘‘(कोविड़-19)’’ के संक्रमण को रोकने के लिये कमोवेश पूरे विश्व में लाॅकडाउन की नीति अपनाई, जिसके परिणाम स्वरूप आज विश्व के लगभग 200 देशों की आधी से ज्यादा आबादी घर में कैद है, और आर्थिक रथ का चक्का जाम हो गया हैं। इसके बावजूद कमोवेश कुछ को छोड़कर प्रायः हर देश में संक्रमित मरीजों की संख



कोरोना का कहर

मनुष्य पर छाई है छिपी अंधेरा, रूप धारण कर वाईरस कोरोना ।इसका अर्थ है मनुष्य पर भारी , क्योंकि है ये महामारी ।अब मानव की दशा क्या होगी ?क्या कोरोना की विदाई होगी ?देख दृश्य मन विचलित हो उठता, क्या यही है सभ्य की कृपा ।क्या यह , मानव जीवन सिहर उठेगा ?या संसार पुनः हिलस उठेगा ?



दिनचर्या और जीवन शैली

दिनचर्या और जीवनशैली गत सात दिसम्बर को WOW India की ओर से Lifestyle diseases यानी एक अननुशासित दिनचर्या के कारण होने वाली बीमारियों पर चर्चा के लिएएक वर्कशॉप का आयोजन किया गया | आयोजन सफल रहा | लेकिन उसके बाद जब हमने रिपोर्टपोस्ट की तो कुछ लोगों ने बात की कि आज के समय में जो लोग Working हैं, यानी क



अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस भारत में भी मनाया जाने लगा है है

अंतर्राष्ट्रीय पुरुष दिवस भारत में भी मनाया जाने लगा हैडॉ शोभा भारद्वाजभारतीय समाजिक व्यवस्था में कन्या को देवी का दर्जा देकर पूजा जाता है लेकिन समाज पुरुष प्रधान माना जाता है लड़का , आज भी गाँव में किसी के घर से थाली पीटने की आवाज आती है आस पड़ोस समझ जाता है उनके घर में पुत्र रत्न ने जन्म लिया है |पह



मुर्गा बांग क्यों देता है?

अगर भोर में जगाने के लिए तो दिन में क्यो?



आप किस दिन पैदा हुए है, इससे जानिए अपने व्यक्तित्व

आपके व्यक्तित्व पर होता है आपके जन्म दिन का प्रभावजिस दिन आपका जन्म हुआ, वह दिन काफी दिलचस्प है। शायद ही आप जानते हों कि आपके जन्म तारीख की ही तरह आपके पैदा होने के दिन (सोमवार से रविवार) से आपके बारे में कई सारी जानकारियां सामने आती हैं। यहां हम बात कर रहे हैं सप्ताह के



ये उन दिनों की बात है: समीर और नैना की बेटी के नाम का हुआ खुलासा | आई डब्लयू एम बज

सोनी टीवी के पॉपुलर शो ये उन दिनों की बात है में शशि सुमीत प्रोडक्शन ने अपनी मनोरंजक कहानी के साथ दर्शकों का मनोरंजन करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। हाई वोल्टेज ड्रामा दर्शकों को चल रहे एपिसोड से रूबरू करा रहा है। हमने पहले समीर और नैना के बारे में सूचना दी थी कि वे अपने जी



ये उन दिनों की बात है : समीर और नैना एक बच्ची के माता पिता बने | आई डब्लयू एम बज

सोनी टीवी के पॉपुलर शो ये उन दिनों की बात है शशि सुमीत प्रोडक्शन ने दर्शकों को दिलचस्प ड्रामा के साथ टीवी स्क्रीन पर बांधे रखा है।कहानी के अनुसार, समीर और नैना को रणदीप राय और आशी सिंह द्वारा निभाया जा रहा है, आखिरकार अपना खुद का घर खरीदेंगे और एक नई यात्रा शुरू करेंगे। इ



ये उन दिनों की बात है: समीर और नैना ने मुंबई में अपना खुद का घर खरीदा | आई डब्लयू एम बज

सोनी टीवी का प्रसिद्ध शो ये उन दिनों की बात है शशि सुमीत प्रोडक्शन द्वारा प्रोड्यूस अपने दिलचस्प ड्रामे और ट्विस्ट टर्न्स से दर्शकों को काफी प्रभावित करता है।कहानी के अनुसार, तन्वी आदित्य के साथ भाग जाती है और कोर्ट में शादी कर लेती हैं। समीर और नैना को तन्वी और आदित्य के



ये उन दीनों की बात है: समीर ने नैना को मामा के फाइनेंशियल दिक्कत ये बारे में खबर दी | आई डब्लयू एम बज

सोनी टीवी के लोकप्रिय शो ये उन दिनो की बात है, शशि सुमीत प्रोडक्शन ने दर्शकों को लुभावने नाटक से प्रभावित करने की कोशिश की है। कथानक के अनुसार, तन्वी आदित्य के साथ भाग जाती है और अदालत में उससे शादी कर लेती है। समीर और नैना ने तन्वी और आदित



ये उन दिनों की बात है: समीर और नैना ने अपनी नई उपलब्धि के लिए जश्न मनाया | आई डब्लयू एम बज

सोनी टीवी के पॉपुलर शो ये उन दिनों की बात है में शशि सुमीत प्रोडक्शन ने अपने हालिया एपिसोड में ड्रामा और सस्पेंस का सही मिश्रण पेश किया है। कथानक के अनुसार, समीर और नैना ने अद्भुत अभिनेत्री अरुणा ईरानी से मुलाकात की, जिन्होंने उन्हें प्रोत्साहित दिया और उन्हें खुद की स्क्



ये उन दिनों की बात है: नैना समीर के साथ अहमदाबाद वापस लौटने का फैसला करती है | आई डब्लयू एम बज

सोनी टीवी के लोकप्रिय शो ” ये उन दिनों की बात है ” प्रोडक्शन शशि सुमीत ने हाल ही के एपिसोड में ड्रामा और सस्पेंस का सही मिश्रण पेश किया है।कथानक के अनुसार, समीर और नैना ने अद्भुत अभिनेत्री अरुणा ईरानी से मुलाकात की, जिन्होंने उन्हें प्रोत्साहित किया और उन्हें खुद की स्क्र



आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x