गिरा

1


क्या परिपक्व होते लोकतंत्र में ‘‘सरकारे’’ ‘‘गिराई’’ जाती है? अथवा ‘‘बनाई’’ जाती है?

राजस्थान में राज्य सभा के हो रहे चुनाव के संदर्भ में कांग्रेस का यह बयान आया है कि, राजस्थान में भी भाजपा ने मध्य प्रदेश के समान ही‘ ऑपरेशन कमल‘ पर अमल करना शुरू कर दिया है। भाजपा खरीद फरोख्त के द्वारा लोकतांत्रिक रूप से चुनी गई सरकार को गिराने का प्रयास कर रही है। विधायक दल के सचेतक द्वारा इसकी भ्



झुमके का रहस्य

बरेली ही क्या दुनिया भर के लोगों को यह सवाल परेशान करता रहा है कि आखिर, झुमका गिरा तो गिरा कहां? कई मौकों पर लोगों का बरेली आना-जाना लगा रहता है। ऐसे तमाम लोगों का यही सवाल रहता है कि झुमका गिरा कहां था? सवाल सुनकर बरेली वालों की जुबान पर खामोशी के अलावा कुछ नहीं होता है। सही बात तो यह है कि उनको ही



सोच लो ....



कृष्ण: योगी भी भोगी भी:अजय अमिताभ सुमन

मेरे एक मित्र ने कृष्ण जन्माष्टमी के अवसर पर सोशल मीडिया पे वायरल हो रहे एक मैसेज दिखाया। इसमें भगवान श्रीकृष्ण को काफी नकारात्मक रूप से दर्



अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपये में आई गिरावट

मंगलवार को शुरुआती कारोबार में अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रूपए की कीमत 70 रुपये पहुँच गयी जो अब तक के सबसे निचले स्तर पर है | सोमवार को अमेरिकी मुद्रा के मुकाबले रुपए में 1.08 रुपये या 1.57 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई, जो अमेरिकी मुद्रा के मुकाबले 69.9 1 पहुँच गया था |



रिकॉर्ड गिरावट, एक लाख रियाल अब एक डॉलर के बराबर

शिया बहुल ईरान को अलग-थलग करने के साथ ही उसकी अर्थव्यवस्था पर चोट करने के लिए अमेरिका द्वारा लगाये गये भारी-भरकम प्रतिबंधों का असर दिखने लगा है|अंगरेजी अखबार के मुताबिक आर्थिक संकट से जूझ रहे ईरान की करंसी ल



;जोगिरा , लाल गुलाबी नीली पीली श्याम रंग तस्वीर

"जोगिरा"लाल गुलाबी नीली पीली श्याम रंग तस्वीरमलमल रंग लगा दो सईयाँ नैन हुए अधीर..... जोगिरा सर र र र र ररंग बाल्टी भरी हुई है भौजी के घर अँगनाबुरा न मानों इस होली में हिला रहीं हैं कँगना..... जोगिरा सर र र र र रकहत फिरत जोगिर चलें ढ़ोलक तासा तालनवकी भौजी ताव मेंरसगुल्ला जस



“गज़ल” न रखती गिला मन न करनी गिरानी॥

बह्र- १२२ १२२ १२२ १२२ काफ़िया-अनी रदीफ़ – आनी “गज़ल” बताओ सनम आप अपनी जुबानीसुनाओ धरूँ ध्यान कथनी कहानीपहल चित अभी जान पाई नहीं हूँखड़ी हूँ भरम भान अवनी विरानी॥कहीं भी कभी भी मिले हम नहीं हैं घिरी हूँ नयन नक्श सपनी सयानी॥ उड़े हैं अनेकों उमड़ घुमड़ बादल न करती किफायत सुनयनी जवा



“गीतिका” नए घाटों किनारों पर गिरा परदा नहा आयी॥

छंद - विधाता (मापनी युक्त ) मापनी- १२२२ १२२२ १२२२ १२२२“गीतिका”उषा की लाल लाली रे बता किरनें कहाँ छायीदिशाओं में अंधेरा ले खता कहने कहाँ आयीपरख ले खुद प्रभा है तूँ तुझे किसकी जरूरत हैनिगाहों से लुटेरा बन वफ़ा पहने कहाँ धायी॥मुझे अब भी वही फरियाद है नाशाद करती जो किसी का दिल





1
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x