महक

छुप ने लगे हैं रिश्ते कि चुभने लगें हैं रिश्ते। दर्द गहरा है, आंखों की कोर पर आंसू कोई ठहरा है। शामिल हो चले हैं लोगों के मेले में, खुद को खुद से छुपाने में शामिल होने लगें हैं झमेले में। रोज रोज कहां बहार आती है, बिन चाही बरसात भी आ जाती है। मन की जमीं सुलग रही है शोलो से, बात जुबां पर न आ जाए । चु



रोज़ डे पर अपने साथी को तोहफे में भेजें ये बेहतरीन कविता होगी कबूल

रोज़ डे पर हम अपने पार्टनर को गुलाब देकर अपने रिश्तों में ताज़गी भरते हैं और अपने प्यार का इज़हार करते हैं। लेकिन एक कशमकश ये ज़रूर रहती है कि हम अपने पार्टनर को गिफ्ट में क्या दें जिससे वो ख़ुश हो जाए। वैसे तो आजकल कई तरह के तोहफे चलन मेें है लेकिन अगर आप कोई ख़ूबसूरत संदेश भेजते या सुनाते हैं तो य



धीमी धीमी - गुलाब गैंग

ढीमी ढीमी गीत माधुरी दीक्षित की सबसे प्रतीक्षित फिल्म गुलाब गिरोह से है। धमेमी ढीमी गीत सुमिक सेन द्वारा रचित है। जूही चावला इस महिला उन्मुख फिल्म में नकारात्मक भूमिका निभा रही हैं।गुलाब गैंग (Gulaab Gang )धीमी धीमी की लिरिक्स (Lyrics Of Dheemi Dheemi )धीमी धीमी सी आवाज़ में बोलेज्वालामुखी में आग



गुलाबी गैंग - गुलाब गैंग टाइटल सांग

गुलाब गिरोह फिल्म गुलाब गैंग से गीत माधुरी दीक्षित और जूही चावला की विशेषता है। मलाबिका ब्रह्मा और शिल्पा राव ने इसे गाया है जबकि सौमिक सेन ने अपना संगीत बना लिया है। इसके गीत नेहा सराफ द्वारा लिखे गए हैं।गुलाब गैंग (Gulaab Gang )गुलाबी गैंग टाइटल सांगकी लिरिक्स (Lyrics Of Gulabi Gang )गैन गगन ग



शर्म लाज - गुलाब गैंग सांग

शर्म लाज गीत फिल्म गुलाब गिरोह से संबंधित है जो श्रेया नारायण द्वारा लिखी गई है। गीत शिल्पा राव और मलाबीका ब्रह्मा द्वारा गाया जाता है जबकि संगीत सुमिक सेन द्वारा किया जाता है।गुलाब गैंग (Gulaab Gang )शर्म लाज सांगकी लिरिक्स (Lyrics Of Sharm Laaj )शर्म लाज मोह मार करहटा दे पल्लू झाड़ कर [स२]समय ह



आंखियां - गुलाब गैंग सांग

गुलाब गिरोह से आंखिया गीत कौशिकी चक्रवर्ती द्वारा सौमिक सेन द्वारा अच्छी तरह से तैयार संगीत के साथ एक बहुत अच्छा गाया गया गीत है। आंखिया के गीत नेहा सराफ द्वारा लिखे गए हैं।गुलाब गैंग (Gulaab Gang )आंखियां सांगकी लिरिक्स (Lyrics Of Aankhiyaan )आंखियां… ो रे अँखियाँआंखियां ो रे अँखियाँपानी की जैस



रंग से हुई रँगीली - गुलाब गैंग

रंग से हुई रेंजेली गीत गुलाब गिरोह फिल्म से संबंधित है। सौमिक सेन ने अपना संगीत बना लिया है और कौशिकी चक्रवर्ती ने इसे गाया है। नेहा सराफ ने अपने सुंदर गीत लिखे हैं।गुलाब गैंग (Gulaab Gang )रंग से हुई रँगीली की लिरिक्स (Lyrics Of Rang Se Hui Rangeeli )रंग से हुई रंगीली रे चिड़ियारंग से हुई रँगीली



रंगी साड़ी गुलाबी - गुलाब गैंग

रंगी साड़ी गुलाबी माधुरी दीक्षित, जूही चावला, महिी गिल, शिल्पा शुक्ला और तनिष्ठ चटर्जी अभिनीत गुलाब गिरोह का एक पारंपरिक गीत है। यह ट्रैक माधुरी दीक्षित, अनुपमा राग और स्नेहालाथा दीक्षित द्वारा शानदार रूप से गाया जाता है।गुलाब गैंग (Gulaab Gang )रंगी साड़ी गुलाबी की लिरिक्स (Lyrics Of Rangi Saari



मौज की मल्हारें - गुलाब गैंग

गुलाब गिरोह से मौज की मल्हारेन गीत साधु सुशील तिवारी, सुपरवॉमन और चाइताली श्रीवास्तव द्वारा एक अच्छा गाया गया गीत है। मौज की मल्हारेन के गीत रोहित शर्मा द्वारा खूबसूरती से लिखा गया है।गुलाब गैंग (Gulaab Gang )मौज की मल्हारें की लिरिक्स (Lyrics Of Mauj Ki Malharein )ता.. न न नवीमेन हिम् हे वार्ममद



गुलाब गैंग (Gulaab Gang )

'गुलाब गैंग' एक 2014 हिंदी फिल्म है जिसमें माधुरी दीक्षित, जूही चावला, महिी गिल, शिल्पा शुक्ला और तनिष्ठ चटर्जी प्रमुख भूमिका निभाते हैं। हमारे पास 8 गाने के गीत, 8 वीडियो गाने और गुलाब गिरोह का एक ट्रेलर है। सौमिक सेन ने अपना संगीत बना लिया है। माधुरी दीक्षित, अनुपमा राग, स्नेहलाथा दीक्षित, सौमिक स



क्या है वो 4 चीज़े जो आजकल क्रिकेट में देखने को नही मिलती

बदलाव , यह कितना दर्दनाक या खुशी दे सकता है| यह जीवन में हमारी प्रगति का एक प्रतिबिंब है। खेल, और विशेष रूप से क्रिकेट उपरोक्त तथ्य के लिए कोई अपवाद नहीं है। क्रिकेट पिछले १०० सालों के दौरान एक लंबा सफर तय क



;जोगिरा , लाल गुलाबी नीली पीली श्याम रंग तस्वीर

"जोगिरा"लाल गुलाबी नीली पीली श्याम रंग तस्वीरमलमल रंग लगा दो सईयाँ नैन हुए अधीर..... जोगिरा सर र र र र ररंग बाल्टी भरी हुई है भौजी के घर अँगनाबुरा न मानों इस होली में हिला रहीं हैं कँगना..... जोगिरा सर र र र र रकहत फिरत जोगिर चलें ढ़ोलक तासा तालनवकी भौजी ताव मेंरसगुल्ला जस



गुलाबी फ्रॉक

मुन्नी ख़ुशी से उछल रही थी। माँ  ने आखिर आज उसकी गुलाबी फ्रॉक जो बना दी थी। बस इस्त्री होते ही पहन कर सारी सहेलियों को दिखा कर आएगी। पुरानी, पैबंद लगी फ्रॉक के लिए सब मज़ाक उड़ाते थे। अब कोई नहीं उड़ाएगा।  फ्रॉक इस्त्री हो गयी और मुन्नी उसको पहनकर इठलाती हुयी खेलने चली गयी। अगले दिन सुबह कचरे वाला गुलाब





1
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x