हिन्दीकविता

1


अपना ख्याल रखना

अपना ख्याल रखना कि तुम्हे पता भी नहीकितने बेपरवाह हो तुमदिन को रात ,रात को दिन बना रखते हो दुर हु तुमसे... पर फिर भी मेरी बात का मान ऱखना ....मेरी खुशी के लिए...अपना ख्याल रखना... माना कि अब मे पास नही तुम्हे डाटँने का बहाना भी कुछ खास नही मेरी हर झल्लाहट का एहसास रखना अपनी मसरुफ जिंदगी को थोड



अरमान

बिखरे अरमानो को छोड, देना सही हैं क्या ??एक बार हारे हैं बस. दुसरा मौका नही हैं क्या ?? क्यो बोझ ढो रहे हो असफलता का . मन में हौसलो की कमी हैं क्या ?? ठान लो तो जीत हैं .. मान लो तो हार... जिंदगी का सफर ही हैं रुमानी तुम्हारे लिए जीतने से ज्यादा सीखना नही हैं क्या ? ? ?



रोज़ डे पर अपने साथी को तोहफे में भेजें ये बेहतरीन कविता होगी कबूल

रोज़ डे पर हम अपने पार्टनर को गुलाब देकर अपने रिश्तों में ताज़गी भरते हैं और अपने प्यार का इज़हार करते हैं। लेकिन एक कशमकश ये ज़रूर रहती है कि हम अपने पार्टनर को गिफ्ट में क्या दें जिससे वो ख़ुश हो जाए। वैसे तो आजकल कई तरह के तोहफे चलन मेें है लेकिन अगर आप कोई ख़ूबसूरत संदेश भेजते या सुनाते हैं तो य



हिन्दी कविता- हिन्दी प्रसिद्ध कविताएं

हिन्दी साहित्य में कई ऐसे लेखक हुए हैं जिन्होंने वक़्त, जिंदगी , इश्क़ और न जाने कितनों विषयों को अपनी कलम से परिभाषित किया है। इन लेखकों की सोच प्रकाश गति से भी तेज है । आज हम ऐसे ही लेखकों की प्रसिद्ध कविताएं आपके लिए लाए है



मैं

क्या है, नहीं जो मेरे पास, कुछ तो है, जिसकी मुझे है आस, पा कर सब कुछ भी, क्यों है खाली मेरे हाथ, होते हुये भी सब के, क्यों हूँ, अकेली मैं आज,



कविता - आ लिपट गले

चप्पा चप्पा हर सडक सडककरता मेरा दिल धडक धडकतुझसे मिलने की चाहत मेंन रहता दिल मेरा राहत मेंहै तू गई कहाँ मेरी बंजारनआ लिपट गले जा मनहारन. तेरी झीनी उस खुशबू मेंखोता रहता क्यों मजनू मैंलाली गुलाब सी होंठ खूबनरमाई जैसे हो घास दूबअब लौट के आजा मनभावनआ गले लिपट जा मनहारन. उन सख्त गर्म दोपहरी मेंउन नर्म अ





1
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x