दीपवाली से पहले पटाखे चलवाये रोहित शर्मा ने

लखनऊ का नया नवेला इकाना क्रिकेट स्टेडियम. माफ कीजिए, अटल बिहारी वाजपेयी इंटरनेशनल क्रिकेट स्टेडियम. यहां पहला इंटरनेशनल मैच हुआ और इसे रोहित शर्मा ने यादगार बना दिया. भारतीय कप्तान रोहित शर्मा ने जो धांसू पारी खेली, लखनऊ समेत पूरे देश की दिवाली एक दिन पहले ही मन गई. रोहित ने 58 गेंदों पर 100 रन तान



क्या आप जानते हैं आज वेस्टइंडीज ने कम रन क्यों बनाये?

केरल के तिरूवनंतपुरम में खेले गए इस मैच में ओपनर रोहित शर्मा के साथ एक मजेदार वाकया हुआ. पारी के आठवें ओवर की आखिरी गेंद पर रोहित ने बल्ला अड़ाया और गेंद विकेटकीपर के हाथ में समा गई. रोहित ने एक सेकंड भी नहीं गंवाई और वो बल्ला लेकर वापस जाने लगे. उधर पीछे अंपायर अनिल चौधरी ने नो बॉल का इशारा नहीं कि



रोहित ने ऐसा क्या कहा जो उनके समर्थक आश्चर्यचकित रह गए?

किसी भी खिलाड़ी के लिए सबसे खास पल वह होता है जब वह अपने देश की जर्सी पहनकर दर्शकों के बीच उतरता है। भारतीय क्रिकेटर रोहित शर्मा ने यह साबित भी कर दिया कि देश उनके नाम से कहीं ऊपर है। रोहित जब मुंबई के ब्रेबोर्न स्टेडियम में वेस्ट इंडीज के खिलाफ सीरीज के चौथे वनडे में फील्डिंग कर रहे थे, तब ही कुछ ऐ



क्या आपको लगता है साध्वी प्रज्ञा गुनहगार हैं?

2008 मालेगांव ब्लास्ट मामले में कर्नल पुरोहित और साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर समेत सभी 7 आरोपियों पर राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) कोर्ट द्वारा आतंकी साजिश और हत्या के आरोप तय किए गए हैं। मामले की अगली सुनवाई 2 नवंबर को होगी। इससे पहले सोमवार को बॉम्बे हाई कोर्ट ने विस्फ



क्या आप जानते हैं शर्मा जी के लड़के ने फिर से कमाल कर दिया???

रोहित शर्मा ने वेस्टइंडीज के खिलाफ चौथे वनडे में करियर में सातवीं बार 150 रन से ज्यादा का स्कोर किया। ऐसा करने वाले वे दुनिया के पहले क्रिकेटर हैं। वे एक ही सीरीज में दो बार 150+ रन का स्कोर करने वाले दुनिया के दूसरे क्रिकेटर हैं। वनडे में एक ही सीरीज में दो बार 150 र



हमारे अपने सफाई कर्मचारी

हमारे अपने सफाई कर्मचारी डॉ शोभा भारद्वाज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने स्वच्छता अभियान से जोड़नेके लिए जाने माने महानुभावों ,समाज के विभिन्न वर्गों के करीब 2000 लोगों को पत्र लिख कर सफाई अभियान का हिस्सा बनने के लिए आमंत्रित किया है इनमें पूर्व न्यायाधीश, अवकाश प्राप्त अधिकारी, वीरता पुरस्कार क



‘‘सरकारें ’’ देशहित में ‘‘जुमलों’’ से कब बाहर आयेगीं?

यद्यपि हम विश्व का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश होने का दावा करते हैं, और हैं भी। तथापि जनता लोकशाही से, लोकतांत्रिक तरीके से लोकतांत्रिक मूल्यो के आधार पर देश चलाने की अपेक्षा करती है। लेकिन पिछले कई दशकांे से हमारे देश में लोकतंत्र के नाम पर ‘‘जुमले बाजी’’ ही चल रही है। एक ‘जुमले’ मात्र से कई बार सरका



“कुंडलिया” मोहित कर लेता कमल, जल के ऊपर फूल।

“कुंडलिया” मोहित कर लेता कमल, जल के ऊपर फूल। भीतर डूबी नाल है, हरा पान अनुकूल॥ हरा पान अनुकूल, मूल कीचड़ सुख लेता। खिल जाता दु:ख भूल, तूल कब रंग चहेता॥ कह गौतम कविराय, दंभ मत करना रोहित। हँसता खिलकर खूब, कमल करता मन मोहित॥महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी



एशियाई खेल 2018 : दुष्यंत चौहान ने नौकायन में जीता कांस्य

शुक्रवार को रोइंग के खेल से अच्छी खबर आई क्योंकि भारत के दुष्यंत चौहान ने जकार्ता में नौकायन में पुरुषों की



इंटरनेट पे लोगो ने अनुष्का और रितिका का धन्यवाद किया

रोहित शर्मा के 18 वे शतक और विराट कोहली के 50 रन की पारी के बाद ट्विटर पे अधिक संख्या में लोगो ने अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त की |कुछ लोगो ने तो अनुष्का शर्मा और रितिका साजदेह का भी शुक्रिया अदा किया क्योकि ये दोनों मैच के दौरान ग्राउंड पे मौजूद थी | अतीत



रोहित के टन, विराट पचास के बाद 'अनुष्का, रितिका' नेटिजन धन्यवाद

रोहित शर्मा ने अपनी 18 वीं शताब्दी में लाया क्योंकि विराट कोहली ने एक महत्वपूर्ण 50 रन बनाये और ट्विटर बेतरतीब हो गया। कुछ जमीन पर मौजूद होने के लिए अनुष्का शर्मा और रितिका साजदेह का भी शुक्रिया अदा करने की सीमा तक जा रहे हैं। अतीत में, क्रिकेटरों के एक ही पत्नी को प्रशंसकों से फ्लाक का सामना करना प



भारतीय क्रिकेट टीम के स्टाइलिश खिलाडी

भारतीय क्रिकेट र्स स्टाइलिश अवतारआज हम आपको बतायेंगे उन भारतीय क्रिकेटर्स खिलाडियों के बारे में जो रियल लाइफ में हैं बेहद स्टाइलिश है आइये देखते है अपने फेवरिट खिलाडियों का स्टाइलिश अवतार विराट कोहली एम.एस धोनी युवराज सिंहरोहित शर्माके.एल राहुलहार्दिक पांड्यासुरेश



नवव्याहिता

रिवाजों में घिरी, नव व्याहिता की बेसब्र सी वो घड़ी! उत्सुकता भड़ी, चहलकदमी करती बेसब्र सी वो परी! नव ड्योड़ी पर, उत्सुक सा वो हृदय!मानो ढूंढ़ती हो आँखें, जीवन का कोई आशय! प्रश्न कई अनुत्तरित, मन में कितने ही संशय! थोड़ी सी घबड़ाहट, थोड़ा सा भय! दुविधा भड़ी, नजरों से कुछ टटोलती बेसब्र सी वो घड़ी!कैसी है ये



गुनगुनाते हुए यादों के पुल पार कर लूँ?

यूँ ही बचपन की कुछ धुन, गाने, बातें याद आ गई और कुछ सेकण्ड्स के लिए गुनगुना लिया. शायद आप लोगो की कुछ यादें ताज़ा हो जाएँ....1) - 90s Doodh Advertisement Jingle (32 Seconds)2) - Bollywood Music Just Kidding (54 Seconds) 3) - Dimaag ki Faltu Lyrics (40 Seconds)



बेटा जब बड़े हो जाओगे...(कद्र काव्य कॉमिक से)

Intro Poem Kadr Kavya Comicबेटा जब बड़े हो जाओगे….बेटा जब बड़े हो जाओगे ना……और कभी अपना प्रयास निरर्थक लगें, तो मुरझाये पत्तो की रेखाओं से चटख रंग का महत्त्व मांग लेना। जब जीवन कुछ सरल लगे,तो बरसात की तैयारी में मगन कीड़ो से चिंता जान लेना।बेटा जब बड़े हो जाओगे ना……और कभी दुख का पहाड़ टूट पड़े,तो कड़ी धूप



अपना उधार ले जाना! (नज़्म) #मोहितपन

अपना उधार ले जाना!तेरी औकात पूछने वालो का जहां, सीरत पर ज़ीनत रखने वाले रहते जहाँ, अव्वल खूबसूरत होना तेरा गुनाह, उसपर पंखो को फड़फड़ाना क्यों चुना?अबकी आकर अपना उधार ले जाना!पत्थर को पिघलाती ज़ख्मी आहें,आँचल में बच्चो को सहलाती बाहें,तेरे दामन के दाग का हिसाब माँगती वो चलती-फिरती लाशें। किस हक़ से देखा



आंसू

आंसूआपने रोहित वेमुला की माँ की आँखों में आंसू देखे थे ?आपने नजीब की माँ की आँखों में भी आंसू देखे थे ?पर आपको वह नजर नहीं आये ...वह नेता नहीं थेवह नेताओं के पुत्र-पौत्र नहीं थे...आपने उस उना काण्ड में मार खाने वालों के भी आंसू देखे थेआपको उस वक्त क्या लगा था ?आपने जब वह फैसला आया जब देश में आप जो र



पत्रिका - अनिक प्लैनेट का पहला अंक

कॉमिक्स पत्रिका अनिक प्लैनेट के पहले अंक की कवर स्टोरी लिखी, साथ ही पत्रिका टीम(कॉमिक्स आवर पेशन) ने मेरे 2 आगामी कॉमिक प्रोजेक्ट्स (कद्र और इंसानी परी) के विज्ञापन पत्रिका में शामिल किये.



सेलेब्रिटी पी.आर. का घपला (लेख) #मोहितपन

पैसा और सफलता अक्सर अपने साथ कुछ बुरी आदते लाते हैं। कुछ लोग इनसे पार पाकर अपने क्षेत्र में और समाज में ज़बरदस्त योगदान देते हैं वहीं कई शुरुआती सफलता के बाद भटक जाते हैं। एक बड़े स्तर पर आने के बाद प्रतिष्ठित व्यक्ति पर इमेज, ब्रांड मैनेजमेंट की ज़िम्मेदारी आ जाती है लोगो पर, अब या तो आप मेहनत और साफ़-



समय का उधार (कहानी) #मोहितपन

पणजी स्थित निजी पर्यटन कंपनी में सेल्स मैनेजर आनंद कुमार एक अरसे बाद कुछ दिनों की छुट्टियों पर अपने घर अलीगढ आया था। पहले कभी कॉलेज हॉस्टल से छुट्टियों में घर लौटकर जो हफ़्तों की बेफिक्री रहती थी वो इस अवकाश में नहीं थी। रास्ते में ही आनंद को काम में कुछ अधूरे प्रोजेक्ट्स की बेचैनी सता रही थी। माँ, प



आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x