जरूर



सीएम योगी बोले- हम आते रहेगे घोषणाएं होती रहेगी

🔵 संजय चाणक्य कुशीनगर। सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कुशीनगर एयरपोर्ट को लेकर यहा के जनप्रतिनिधियो से हमेशा चर्चाएं होती है। सरकार की ओर से धन आवंटित कर दिये गये हैं एयरपोर्ट के बाउंड्री बाल का थोडा- बहुत कार्य शेष है, एयर ट्रैफिक कंटोल का काम तेजी से चल रहा है



हरिजन विद्यालयो मे फर्जी नियुक्ति का मामला..... बैक डेट मे की गई है शिक्षको की नियुक्ति

🔵 संजय चाणक्यकुशीनगर। समाज कल्याण विभाग द्वारा हरिजन प्राथमिक विद्यालयो मे शिक्षकों की नियुक्ति मे व्यापक स्तर पर फर्जीवाड़ा किए जाने का मामला प्रकाश प्रकाश मे आया है। चर्चा-ए-सरेआम है कि टीईटी से बचने के लिए समाज कल्याण विभाग के तत्कालीन विभाग - ए-शहंशाह द्वारा मोटी रकम लेकर बैक डेट मे शिक्षको की



मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना मे घोटाला..... कन्याओं को नही मिला 35 हजार की धनराशि

🔴 संजय चाणक्यकुशीनगर। मुख्यमंत्री सामुहिक विवाह योजना के तहत सात फेरे लेने वाली कन्याओं के खाते मे भेजी जाने वाली करोड़ो रुपये जिला पंचायत द्वारा डकार लिए जाने का मामला प्रकाश मे आया है। । इतना ही नही जिला मुख्यालय पर संपन्न करायी गयी सामुहिक विवाह कार्यक्रम का ई-टेण्डरि



.... जरा याद करो कुर्बानी

🔴 संजय चाणक्य '' ऐ मेरे वतन के लोगो जरा आंख में भर लो पानी !!जो शहीद हुए है उनकी जरा याद करो कुर्बानी !!''जश्न-ए-आजादी की 70 वी वर्षगाठ़ पर अपने प्राणों की आहुति देकर मां भारती को मुक्त कराकर इबादत लिखने वाले अमर शहीदों को सलाम! इन योद्वाओं को जन्म देने वाली जगत जनन



कोतवाली मे तिरंगे का अपमान

🔴 संजय चाणक्य कुशीनगर। 71 वे गणतंत्र दिवस के महापर्व पर जनपद के पडरौना कोतवाली परिसर में कानून के रक्षकों द्वारा सरेआम राष्ट्र की आन-बान और शान के प्रतीक कहे जाने वाले राष्ट्रीय ध्वज का अपमान किया गया। हुआ यह कि गणतंत्र दिवस के राष्ट्रीय महापर्व पर कोतवाली मे उल्टा राष्



ये ही है मेरा हिन्दुस्तान

🔴 संजय चाणक्य कुशीनगर। " हिन्दू-मुस्लिम सिख-इसाई के आखों का तारा है। अपने वतन का जर्रा-जर्रा हमको जान से प्यारा है।। रंग-बिरंगे फूलो जैसे हर मजहब के लोग यहां। सबकी अपनी अपनी बोली सबकी अपनी अलख जुबां।। गंगा-यमुना से मिलकर अमृत के धारा बहते



पंचतत्व मे विलीन हो गया " माँ भारती का लाल"

🔴 संजय चाणक्य कुशीनगर। जम्मू कश्मीर मे सरहद की निगेहबानी के दौरान आए बर्फीले तूफान मे शहीद हुए माँ भारती के लाल चन्द्रभान शुक्रवार को देर रात पंचतत्व मे विलीन हो गए। पैतृक गांव के देवांमनि ताल के बगल के भूमि पर सजायी गयी " भारत माँ के सपूत" के चिता को बडे भाई उदयभान ने मुखाग्नि दी। हजारो नम आँखों न



सरहद पर शहीद हुआ माँ भारती का लाल

🔴 पिता के बूढापे की लाठी टूट गई, माँ की आंचल सूनी हो गयी, मासूम बच्चों के सिर से पिता का साया उठ गया तो पत्नी की मांग सूनी कर सरहद की निगेहबानी करते हुए दुनिया को अलविदा कह गये चन्द्रभान🔴 संजय चाणक्यकुशीनगर। जम्मू कश्मीर के कुपवाड़ा जिले मे सरहद की निगेहबानी करते हुए माँ भारती का लाल चन्द्रभान चौर



शिक्षक के फर्जी नियुक्ति के मामले डीआईओएस ने शासन को भेजी रिपोर्ट

🔴 तिलमिलाए शिक्षक ने दी डीआईओएस को जान से मारने की धमकी, मुकदमा दर्ज🔴 अपनी नौकरी हाथ से जाते देख शिक्षक अपने पुत्र के साथ डीआईओएस कार्यालय पहुंचकर किया हंगामा, दी धमकी🔴 डीएम से मिलकर डीआईओएस ने शिकायत, डीएस के निर्देश पर डीआईओएस ने शिक्षक और पुत्र पर कराया मुकदमा दर्ज🔵 संजय चाणक्य कुशीनगर। जिले



PM मोदी ने किया 'भारत रत्न' अटल के प्रतिमा का अनावरण

🔴 पूर्व प्रधानमंत्री अटलजी के 95 वी जयंती पर लोकभवन मे प्रतिमा अनावरण के दौरान मौजूद रहे गृहमंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, राज्यपाल आनंदीबेन, सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ व पूर्व उप प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी🔴 89 लाख रुपये की लागत से निर्मित 5 हजार किलो के वजन से अष्टधातु की बनी स्व



दक्खिन का दर्द

संजय चाणक्य " तेरा मिजाज तो अनपढ़ के हाथों का खत है! नजर तो आता है मतलब कहां निकलता है!!’’ मेरी नानी बचपन में कहती थी कि दक्खिन की ओर मुह करके खाना मत खाओं,दक्खिन की ओर पांव करके मत सोओं। गांव में बड़े-बुजुर्ग कहते थे कि गांव के दक्खिन टोला में मत जाना। हमेशा सोचता था



संसार की सर्वश्रेष्ठ माँ तुम्हें शत शत नमन

"मा मुझे आपकी याद सताती है, मेरे पास आ जाओं ! थक गया हू मुझे अपनें आंचल में छुपा लो !! हाथ अपना फेरकर मेरे बालों में ! एक बार फिर से बचपन की लोरिया सुना दो !!’’ 27 जून बहुतेरो के लिए महज एक तारीख है। तमाम भाई-बन्धुओ के लिए यह तारीख खुशियों से भरा यादगार दिन है, इतिहास रचने वा



श्रीराम के बासी नदी को एक भागीरथ की दरकार

" बचाकर रखना बासी को जरूरत कल भी बहुत होगी।यकीनन आने वाली पीढ़ी इतनी पाक भी नही होगी।।" भगवान राम के इच्छा से नारायणी से निकलकर कुशीनगर जनपद के विभिन्न श्रेत्रो से होकर तकरीबन साठ किलो मीटर की यात्रा तय करने के बाद पुन: नारायणी से समाहित हो जाने वाली "बासी नदी "अपने अस्तित्व बचाने के लिए संघर्षरत है



द्धितीय बाबाधाम के नाम से विख्यात है बाबा महेन्द्रनाथ

यहा आस्था है, विश्वास है। प्रेम है सदभाव है।यहा हर नाउम्मीदो की उम्मीद है। यहा न कोई बडा है न कोई छोटा । न कोई ब्राह्मण है न कोई छुद्र। यहा ‘ ‘ ‘ राजा हो या रंक ‘ सभी एक समान है।क्योंकि यहां साक्षात देवाधिदेव महादेव बास करते है। यहा सच्चे मन से मागी गई हर मुरादे महादेव की कृपा से पूरी होती है। ऐसी



गरीब भारत रिच इण्डिया

"वक्त लिख रहा कहानी इक नए मजमून की !जिसकी सुर्खियों को जरूरत है हमारे खून की !!"अगर हम आपसे कहे कि आजाद हिन्दुस्तान के दो नाम है पहला गरीब भारत और दुसरा रिच इण्डिया तो शायद आप मुझे सिरफिरा कहेगें। या फिर अवसादग्रस्त । हो सकता है आप अपनी जगह पर सही हो। क्याोंकि आप वही



पुरुषों के लिए जबरदस्त बेस्ट हेल्थ टिप्स || Health Tips for Man Body In Hindi

भारतीय समाज में पुरुषों की लाइफस्टाइल ज्यादा भागदौड़ भरी होती है. घर और बार की चीजों को बैलेंसं करना बहुत बड़ा टास्क हो गया है और इसके साथ ही अपनी सेहत का ख्याल रखना उनके लिए मुश्किल हो गया है. इसके अलावा कभी-कभी पुरुषों में कुछ बुरी आदतें भी हो जाती हैं जिसके कारण उन



कलश स्थापना मुहूर्त १०अक्टूबर

http://ptvktiwari.blogspot.com/2018/10/blog-post.html?m=1http://ptvktiwari.blogspot.com/2018/10/blog-post.html?m=1 जानिए : नवदुर्गा में कलश/ धट स्थापना सही समय पर क्यों जरूरी है।



मेहनत का ईनाम

" मेहनत इतनी ख़ामोशी से करो की सफलता शोर मचा दे | " ये लाइन उन पे बहुत सही लगती हैं जो मेहनत करना जानते है ना की उन पे जो मेहनत न करके v सिर्फ बातें बनाना जानते हैं | हमारे घर काकी आती थी खाना



जातिगत आरक्षण

सामान्य वर्ग की व्यथा पर कुछ पंक्तिया . मै भी सामान्य वर्ग का दलित हु साहब मुझे भी आरक्षण चाहिए..1.मेरी माँ का सपना है बेटा सरकारी अफसर बने,पिता दिन-रात मेहनत करके उस सपने को बुने, मेरे मात-पिता के सपनो को यू ना जलाइये, मै भी सामान्य वर्ग का दलित हु साहब मुझे भी आरक्ष



हे प्रभु तुम्हारी मांग है

भावुक हृदय जलमग्न आंखे घोर वेदना के सिंधु में डूबते उतिराते है रोज की रात ऐसी ही होती है की क्रोध से कोपित हृदय है लावा भभकता उठ रहा है इस ज्वालामुखी को विवेक से शांत करते है अनर्थ हो रहा है अधर्म बढ़ रहा है कब तक शांत हो उठो जागो डोर थाम्हो कसो सीधे खींच



आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x