सुबह जल्द ही मुस्कुराहट भरी होगी !

इस रात की सुबह जल्द ही मुस्कुराहटभरी होगी ! आज फिर ,उम्मीद को ओढ़े, सुबह बालकनी में बैठ गई ,पिछले कुछ दिनों की तरह, आज भी तो थी ... हर तरफ़ वही ख़ामोशी !बचपन भी तो सहम गया था ...इक्का- दुक्का लोग ही बाहर थे, टहलते हुए,रुक- रुक कर आती पक्षियों कीचहचहाहट प्रदूषण रहित, साफ़ हवा मगर मीठी- सी हलचल के बिना ..



अल्लाह ओ अकबर

रोज रोज अल्लाह हु अकबर सुनते सुनते परेशान हो गया हूं ये साला अकबर के इतिहास को जानना जरुरी है अकबर के समय के इतिहास लेखक अहमद यादगार ने लिखा-“बैरम खाँ ने निहत्थे और बुरी तरह घायल हिन्दू राजा हेमू के हाथ पैर बाँध दिये और उसे नौजवान शहजादे के पास ले गया और बोला, आप अपने पवित्र हाथों से इस काफिर का कत्



एक आधुनिक पौराणिक कहानी

एक “आधुनिक” पौराणिक कहानीआप सभी नेपौराणिक कहानियों मेंपढ़ा हीहोगा किदेवताओं औरदानवों काबार बारयुद्ध होताथा, औरबार बारदेवता हारतेहुए, भगवान् (अर्थात भगवान् विष्णु ) के दरबारमें गुहारलगते थे–त्राहि माम,त्राहि माम.भगवान् फिरकिसी नएदेवी यादेवता कीरचना करकेदेवताओं कोशक्ति प्रदानकरते थे.देवता विजयीहोते थेऔ



kundali online

Do you want your Free Kundali Online? Well, Future Point is the only name that you should be concerned with when it comes to genuine astrological revelations and remedies for negating the problems slated to appear ahead in time! So don't wait and start your journey of knowing what the stars & planet



ईश्वरीय अनुदान को समझें :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस संसार का सृजन करने वाले परमपिता परमात्मा ने मनुष्य को सब कुछ दिया है , ईश्वर समदर्शी है उसने न किसी को कम दिया है और न किसी को ज्यादा | इस सृष्टि में मनुष्य के पास जो भी है ईश्वर का ही प्रदान किया हुआ है , भले ही लोग यह कहते हो कि हमारे पास जो संपत्ति है उसका हमने अपने श्रम और बुद्धि से प्राप्त



Hindi poetry on life - मैं कुछ भूलता नहीं ; अर्चना की रचना

जीवन पर आधारित हिंदी कविता मैं कुछ भूलता नहीं मैं कुछ भूलता नहीं ,मुझे सब याद रहता है अजी, अपनों से मिला गम, कहाँ भरता हैसुना है, वख्त हर ज़ख़्म का इलाज है पर कभी-२ कम्बख्त वख्त भी कहाँ गुज़रता है मैं अब बेख़ौफ़ गैरों पे भरोसा कर लेता हूँ जिसने सहा हो अपनों का वार सीने पे , वो



विजेथुआ धाम

Vijethuwa dhamजय श्री बजरंग बली, हनुमानजी🙏🙏_बिजेथुआ_धाम_🙏🙏 सुलतानपुर जिले की कादीपुर तहसील में सूरापुर बाजार के दक्षिण लगभग 2 किलोमीटर की दूरी पर बिजेथुआ नामक स्थान पर स्थित हनुमान जी का वह मंदिर, जिसके बारे में कहा जाता है कि यहीं महाबीर बजरंगबली श्री हनुमानजी ने कालनेमि का वध किया था।



है, जहाँ जीना कठिन, मरना जहाँ आसान है=, ..... क्या , यही हिंदोस्तान है ?

है, जहाँ जीना कठिन, मरना जहाँ आसान है .....क्या .... यही हिंदोस्तान है ? पकड़ो, पकड़ो , .... मारो ,मारो , की आवाज़ों से वहकांप रहा था । एकाएक आवाज़ें नजदीक आने लगी । उसे कुछ समझ नहीं आ रहाथा। वह जड़ खड़ा था, तभीकिसी ने झपट कर उसे खींच लिया और छिपा लिया अपने आँचल में.....थोड़ी दूर का मंजर देखकर वह छटपट



Free Astrology Consultation on Phone

Looking for Astrologers near me? Now get Free Astrology Consultation on Phone with the option of talking to an astrologer within the comforts of your home. Get a Kundli Reading done today from an experienced Astrologer, one of the leading in India, Absolutely Free of cost.



युवा रचनाकार आलोक कौशिक की संक्षिप्त जीवनी

आलोक कौशिक एक युवा रचनाकार एवं पत्रकार हैं। इनका जन्म 20 जून 1989 को एक ब्राह्मण परिवार में हुआ। इनके पिता का नाम पुण्यानंद ठाकुर एवं माता का नाम सुधा देवी है। मूलतः बिहार राज्य अन्तर्गत अररिया जिले के फतेहपुर गांव निवासी आलोक कौशिक ने स्नातकोत्तर (अंग्रेजी साहित्य) तक की पढाई बेगूसराय (बिहार) से की



युवा रचनाकार आलोक कौशिक की संक्षिप्त जीवनी

आलोक कौशिक एक युवा रचनाकार एवं पत्रकार हैं। इनका जन्म 20 जून 1989 को एक ब्राह्मण परिवार में हुआ। इनके पिता का नाम पुण्यानंद ठाकुर एवं माता का नाम सुधा देवी है। मूलतः बिहार राज्य अन्तर्गत अररिया जिले के फतेहपुर गांव निवासी आलोक कौशिक ने स्नातकोत्तर (अंग्रेजी साहित्य) तक की पढाई बेगूसराय (बिहार) से की



मेरे जीवन की दर्दनाक घटना

प्रिय स्नेही मित्रों जय श्रीकृष्णा *14/07/2019 की सुबह06 बजे मैं घर के बाहर गाय का दूध निकाल रहा था। ऊपर से विजली का तार टूटकर मेरे सिर पर गिर गया। सिर से जब मेरी पीठ पर गिरा तो मैं आआआआआ करते हुए पीछे की तरफ गिर गया , जबकि दिमाग काम कर रहा है कि कोई हमे हाथ से न छूए अन्यथा उसे भी खतरा ह



सेक्स के समय दर्द क्यों होता है?

स्त्री और पुरुष के द्वारा शारीरिक संबंध बनाते समय दर्द होने के कारणको चिकित्सकीय और गैर चिकित्सकीय कारणों की श्रेणी में रखा गया है ।चिकित्सकीय कारण वह है,जो चिकित्सक पद्धति के द्वारा ठीक हो सकता है, जैसे महिला की योनि का सूखापन, महिला की योनि के आस-पास खुजली या जलन या किसी प्रकार का इन्फेक्शन होना च



Free Kundli Milan

<!--td {border: 1px solid #ccc;}br {mso-data-placement:same-cell;}-->Is your love story as sweet as a fairytale? Know the exact time period it will last in your life through Free Kundli Milanof you and your partner’s horoscope. Learn the intricacies of your relationship and how to make it last forev



बोलने की कला :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*चौरासी लाख योनियों में मानव जीवन को दुर्लभ कहां गया है क्योंकि यह मानव शरीर अनेक जन्मों तक कठोर तपस्या करने के बाद प्राप्त होता है | इस शरीर को पा करके मनुष्य अपने क्रियाकलाप एवं व्यवहार के द्वारा लोगों में प्रिय तो बनता ही है साथ ही मोक्ष भी प्राप्त कर सकता है | अपने संपूर्ण जीवन काल में प्रत्येक



जीवन का संयोजन :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*मानव जीवन यदि देखा जाय तो बहुत ही सरल एवं कठिन दोनों है | इस जीवन के रहस्य को वही जान पाता है जो जीवन को एक कुशल प्रबंधक की तरह प्रबंधित करता है | मानव जीवन में भूतकाल , वर्तमानकाल एवं भविष्यकाल का बहुत ही महत्व है इन्हीं तीनों कालों पर संपूर्ण मानव जीवन टिका हुआ होता है , जो इनके रहस्यों को जान जा



पैसो की कभी नहीं आएगी तंगी, करे ये छोटा सा उपाय Money Problem Solution

सभी का एक ही सपना होता है है की एक बड़ा सा घर हो, बड़ी सी गाड़ी हो, पैसो की कभी दिक्कत न हों। लेकिन ये सपना सभी का पूरा नहीं होता है। हर व्यक्ति जीवन में पैसे कमाने के लिए मेहनत करता है फिर भी पुरजोर मेहनत करने के बाद भी कुछ ही लोगो को सफलता मिलती है।आज हम आपको वास्तु के कुछ



हे राम तीस जनवरी की शाम बापू के अंतिम शब्द

“हे राम” तीसजनवरी 1948की शाम राष्ट्रपितामहात्मा गांधी के अंतिम शब्द <!--[if !supportLineBreakNewLine]--><!--[endif]-->डॉ शोभाभारद्वाज<!--[if !supportLineBreakNewLine]--><!--[endif]-->संयुक्त भारत दोटुकड़ों में बार चुका था भारत एवं पश्चिमी ,पूर्वी पाकिस्तान (1971 में पाकिस्तानसे अलग बना बंगलादेश ) अफ़स



विचारों की शक्ति असीम है :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*मानव जीवन में विचारों का बड़ा महत्व है | विचारों की शक्ति असीम होती है | यहां व्यक्ति जैसा सोचता है वैसा ही बन जाता है क्योंकि उसके द्वारा हृदय में जैसे विचार किए जाते हैं उसी प्रकार कर्म भी संपादित होने लगते हैं क्योंकि विचार ही कर्म के बीज हैं , व्यवहार के प्रेरक हैं | जब मनुष्य व्यस्त होता है तो



सम्बन्धों को सहेजना भी एक कला है :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है , किसी परिवार में जन्म लेकर मनुष्य समाज में स्थापित होता है | इस जीवन क्रम में परिवार से लेकर समाज तक मनुष्य अनेको संबंध स्थापित करता है इन संबंधों का पालन बहुत ही कुशलता पूर्वक करना चाहिए | जिस प्रकार किसी भी विषय में सफलता के उच्च शिखर को प्राप्त कर लेने की अपेक्षा उस



आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x