जीने

1


क्रोध को त्यागें क्षमा शील बने

🦚🦚🦚🦚🦚🦚🦚 *श्री राधे कृपा ही सर्वस्वम*🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 *जय श्रीमन्नारायण जय जय श्री सीताराम* 🏵🏵🏵🏵🏵🏵🏵 *सुखी जीवन के लिए क्षमा करना सीखें* सामाजिक जीवन में राग के कारण लोग एवं काम की तथा द्वेष के कारण क्रोध एवं पैर की वृत्तियों का संचार होता है क्रोध के लिए संघर्ष कल



Archana Ki Rachna: Preview "मुझमे भी जीवन है"

हाँ मैं तुम जैसा नहींतो क्या हुआ ?मुझमे भी जीवन हैमुझे क्यों आहत करते हो ?? हमें संज्ञा दे कर पशुओं कीखुद पशुओं से कृत्य करते होकल जब तुम ले जा रहे थेमेरी माँ कोमैं फूट फूट कर रोया थामैं छोटा सा एक बच्चा थामैंने अपनी माँ को खोया थामैं लाचार



तुम याद न आया करो - जीने नहीं दूंगा

Tum Yaad Na Aaya Karo Lyrics of Jeene Nahin Doonga (1984): This is a lovely song from Jeene Nahin Doonga starring Dharmendra, Anita Raaj, Shatrughan Sinha and Raj Babbar. It is sung by Lata Mangeshkar and Shabbir Kumar and composed by Laxmikant and Pyarelal.जीने नहीं दूंगा (Jeene Nahin Doonga )तुम य



जीने नहीं दूंगा (Jeene Nahin Doonga )

'जीन नहिन दोंगा' 1 9 84 की हिंदी फिल्म है जो धर्मेंद्र, अनीता राज, शत्रुघ्न सिन्हा, राज बब्बर, जगदीप, रोशनी, रजा मुराद, निशी, लीना दास, शक्ति कपूर, केदार खान, विनोद मेहरा, नीता मेहता और जगदीश राज हैं। मुख्य भूमिकाएं हमारे पास जीन नहिन दोंगा के एक गीत गीत हैं लक्ष्मीकांत और प्यारेलाल ने अपना संगीत बन



सदा,बिखरी रहे हँसी। ....

हँसमुखी चेहरे पर ये कोलगेट की मुस्कान,बिखरी रहे ये हँसी,दमकता रहे हमेशा चेहरा,दामन तेरा खुशियों से भरा रहे,सपनों की दुनियां आबाद बनी रहे,हँसती हुई आँखें कभी नम न पड़े,कालजयी जमाना कभी आँख मिचौली न खेले,छलाबी दुनियां से ठग मत जाना,खुशियों की यादों के सहारे,दुखों को पार लगा लेना,कभी ऐसा भी पल आये जीवन



जीना इसी का नाम है......

व्यक्ति क्या चाहता है, सिर्फ दो पल की खुशी और दफन होने के लिए दो गज जमीन, बस... इसी के सहारे सारी जिन्दगी कट जाती है। तमन्नाएं तो बहुत होती है, पर इंसान को जीने के लिए कुछ चन्द शुभ चिन्तक की, उनकी दुआओं की जरूरत होती है।आज सभी के पास सब कुछ है मग



एक डगर जीवन की......

टेड़ी मेड़ी मतवाली सी लहर बन अपना मार्ग प्रशस्त करती, पर आज, नीरव निस्तब्धता इसकी खतरे काआगाज़ करती, सरिता नीर से धरती संचित करते करते तटों पर सिमटती सी, जीवन दायिनी की जीवान्तता शनैः शनैः खत्म होती सी, भंवर में फंसी नाव कई-कई उतार चढ़ाव सहती, फ़िसल गया चप्पू, छोड़ गया खिवैया, अनाथ हो गईं नाव, पर, स



दहशत ही जीने का पर्याय है

किसे धिक्कार रहे ?क्या यह पहला हादसा है ?गन्दी-विकृत फिल्मों को कौन बढ़ावा देता है ?कभी सोचा है इसे बनाना और देखना एक विकृति है विकृति के सिवा कुछ भी नहीं … जब बादल जमा होते हैं तो बारिश होती है जब दर्द जमा होता है तो आँसू और जब विकृति जमा होती है तो हादसे !गौर से देखिये ये सारे मानसिक रोगी हमारे आस-



ग़ज़ल गंगा: ( ग़ज़ल ) हर पल याद रहती है निगाहों में बसी सूरत

( ग़ज़ल ) हर पल याद रहती है निगाहों में बसी सूरतसजा  क्या खूब मिलती है किसी   से   दिल  लगाने  की तन्हाई  की  महफ़िल  में  आदत  हो  गयी   गाने  की  हर  पल  याद  रहती  है  निगाहों  में  बसी  सूरत  तमन्ना  अपनी  रहती  है  खुद  को  भूल  जाने  की  उम्मीदों   का  काजल   



जीने की रस्म

जीने की रस्म कुछ इस तरह, लम्हा-लम्हा निभाई, टुकड़े-टुकड़े बटोरी ज़िन्दगी, तिनका-तिनका सजाई। गोल-गुलाबी-नाज़ुक शीशा, किरच-किरच यूं टूटा, तार-तार की खिसकन हमने, पलकों-पलक उठाई। थककर मीलों-कोसों पीछे,... छूट गई थी बोझिल, पाँव-पाँव वो चलकर मंज़िल, खुद पीछे-पीछे आई। क्या खोया क्या पाया सोचूँ,... मैं आँखें म





1
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x