कर्मयोग - कर्म के लिए कर्म

गीता– कर्मयोग अर्थात कर्म के लिए कर्म “गीता जैसा ग्रन्थ किसी को भी केवलमोक्ष की ही ओर कैसे ले जा सकता है ? आख़िर अर्जुन को युद्ध के लिये तैयार करनेवाली वाली गीता केवल मोक्ष की बात कैसे कर सकती है ? वास्तव में मूल गीता निवृत्तिप्रधान नहीं है | वह तो कर्म प्रधान है | गीता चिन्तन उन लोगों के लिये नहीं ह



जानिए भाग्य बड़ा या कर्म

<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <w:ValidateAgainstSchemas></w:Val



वैष्णव जन तो ते नर कहिये पीर पराई जान रे ( स्वच्छता अभियान )

वैष्णव जन तो ते नर कहिये पीरपराई जान रे (स्वच्छता अभियान ) डॉ शोभा भारद्वाज महात्मा गाँधी जी की 150 वींजयंती के अवसर पर सूर्या संस्थान नोएडा में आयोजित सर्वधर्म समभाव गोष्ठी के अवसरपर विभिन्न धर्म गुरु के भाव पूर्ण प्रवचनों को सुनने का अवसर मिला | सफाईकर्मचारियों द्वारा तैयार जलपान सबने गृहण किया



ये TV स्टार किड्स जिन्होंने कमाई में कई बॉलीवुड स्टार्स को पीछे छोड़ा , नंबर 3 को देख की कमाई जानकार उड़ जायेंगे होश

टीवी शोज़ मनोरंजन का सबसे बड़ा साधन है। डेली आने वाले टीवी सीरियल और शोज़ के बिना हम एंटरटेन नहीं हो पाते। ये टीवी सीरियल हमारे डेली रूटीन में शामिल है। हम अपने पसंदीदा टीवी शो देखने के लिए अपने सभी ज़रूरी काम वक़्त पर निपटा लेते हैं। ताकि हमारा कोई भी एपिसोड छूट न जाए। तो



कर्म

कर्म करो तो फल मिलता है आज नहीं तो कल मिलता है जितना गहरा अधिक कुआँ हो उतना मीठा जल मिलता है जीवन के हर कठिन प्रश्न काजीवन से ही हल मिलता है



आओ पितरों को याद करें :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सनातन धर्म में ऐसी मान्यता है कि मनुष्य जन्म लेने के बाद तीन प्रकार के ऋणों का ऋणी हो जाता है | ये तीन प्रकार के ऋण मनुष्य को उतारने ही पड़ते हैं जिन्हें देवऋण , ऋषिऋण एवं पितृऋण के नाम से जाना जाता है | सनातन धर्म की यह महानता रही है कि यदि मनुष्य के लिए कोई विधान बनाया है तो उससे निपटने या मुक्ति



कर्म-सन्यास योग

इच्छाएं ना हो तो जीवन ठहर जाएगा, इच्छाएं ही हो तो जीवन ज़हर हो जाएगा. कृष्ण ने कहा कि मैंने मन बनाया है जो इच्छाओं के पीछे भागता है, मैंने बुद्धि दी जो इन इच्छाओं पर नियंत्रण कर सके और शरीर या देह दी है, जो किर्यान्वित कर सके.



यदा यदा ही धर्मस्य

गीता में कृष्ण ने कहा कि हे भारत (अर्जुन) ! जब जब धर्म की हानि और अधर्म की वृद्धि होती है, तब- तब ही मैं व्यक्त रूप में प्रकट होता हूँ. लेकिन वही गीता में अर्जुन से कहा है कि मैं इस सृष्टि का प्रयोजक हूँ इसलिए कर्मो से नहीं बंधता. कर्म से वो बंधते



ईरान में आया तगड़ा भूकंप

ईरानी शहर कर्ममानह के पास 5.9 तीरवता का भूकंप आया है | तस्नीम समाचार एजेंसी ने रविवार को बताया की इसमें एक की मौत और 58 घायल हो गए है| तस्नीम के मुताबिक यह दुर्घटना, क



कर्म और त्याग

सनातन धर्म में कर्म और धर्म दोनों की ही व्याख्या की गई है , पर तथाकथित हिन्दू इन दोनों ही शब्दों का अर्थ अपनी सुविधा के अनुकूल प्रयोग करते रहे है. सनातन धर्म की सुंदरता इसमें है कि उसमे सभी विचार समा जाते है. यही कारण है कि लोग



दिल दिया है जां भी देंगे - कर्मा

Dil Diya Hai Jaan Bhi Denge lyrics of Karma (1986): This is a lovely song from Karma starring Dilip Kumar, Anil Kapoor, Poonam Dhillon and Sridevi. It is sung by Kavita Krishnamurthy and Dilip Kumar and composed by Laxmikant and Pyarelal.कर्मा (Karma )दिल दिया है जां भी देंगे की लिरिक्स (Lyrics Of



कर्मा (Karma )

'कर्म' 1 9 86 की हिंदी फिल्म है जिसमें दिलीप कुमार, अनिल कपूर, पूनम ढिल्लों, श्रीदेवी, जैकी श्रॉफ, नसीरुद्दीन शाह, अनुपम खेर, शक्ति कपूर, दारा सिंह रंधवा, टॉम आल्टर, बीना, बिंदू, दान धनोआ, मुकरी, जुगल हंसराज, सतीश कौल, न्यूटन, विजू खोटे, विनोद नागपाल, शशि पुरी, शरत सक्सेना, शम्मी, सीएस दुबे, सुभाष घ



क्यों होता है रेल के अंतिम डिब्बे पर X का निशान, वजह बड़ी ही दिलचस्प

अगर आपने गौर किया हो तो हर ट्रेन के आखिरी डिब्बे पर एक निशान देखा होगा। यह निशान 'x' का है, लेकिन क्या आप जानते है कि यह निशान क्यों होता है और इसका मतलब क्या है? नियमानुसार यह निशान हर ट्रेन की आखरी बोगी पर होना अनिवार्य है।लास्ट बोगी पर बना यह 'X' का निशान पीले रंग और स



हिन्दी पुस्तिका " रेलपथ गाइड"

<span lang="HI" style="font-size: 12.0pt;line-height:115%;font-family:&quot;Utsaah&quot;,&quot;sans-serif&quot;">नमस्कार मित्रों, <



लेख--- देश में असुरक्षित होता बचपन

आज समाज की स्थिति में असामाजिक तत्वों का समावेश अधिक होता जा रहा है, फिर हम नए भारत का निर्माण किसके लिए कर रहें हैं? जब देश के वर्तमान ही भविष्य के लिए सुरक्षित नहीं, फ़िर क्या बात की जाए? किस संस्कृति और आचरण को महत्व दिया जाए? इस बाज़ार में सब नंगे नजऱ आ रहें हैं। आज समाज को हवशीपने का जो ज्वार लगा



कानून पर कामुकता हावी

१६ दिसंबर २०१२ ,दामिनी गैंगरेप कांड ने हिला दिया था सियासत और समाज को ,चारो तरफ चीत्कार मची थी एक युवती के साथ हुई दरिंदगी को लेकर ,आंदोलन हुए ,सरकार पलटी , दुष्कर्म सम्बन्धी कानून में बदलाव हुए लगा अब इस



दुष्कर्म व् प्रकृति विरुद्ध अपराध-भारत रूस से आगे

11 महीने पहले रूस ने महिलाओं को दुष्कर्म करने वाले को निजी प्रतिरक्षा में मारने की अनुमति दी और जिससे वहां यह आशा की गयी कि यह कानून वहां पुरुषों और लड़कों को भी निजी प्रतिरक्षा में उनके साथ ऐसा करने वालों को मृत्यु दंड देने की अनुमति देग



"शून्य" 'आत्म विचारों का दैनिक संग्रह' "दिवास्वप्न"

"दिवास्वप्न" मैं सदैव विचार करता, कि ये दिवास्वप्न है क्या बला ? किन्तु जीवन के आज तक के अनुभव मुझे ये बताने लगे हैं कि हमारा कर्महीन होकर,अत्यधिक पाने की कल्पना का दूसरा नाम 'दिवास्वप्न' है।''एकलव्य"



"मौका" शब्द रोचक प्रयोग

आज सुबह एक पुराने सहकर्मी से टेलीफोनिक वार्ता हुई उसने अभी - अभी नौकरी से इस्तीफा दिया है।वार्ता के बाद "मौका" शब्द रोचक प्रयोग प्राइवेट कंपनी के द्वारा कैसे किया जाता है पता चलाअगर आप के पास किसी बड़े क्लाइंट का प्रोजेक्ट है और आप जॉब छोड़ र



कलमवार से :: बैंककर्मियों के लिए नोटबंदी बना 'पाइल्स', दर्द किसे बताएं-

भाई नोटबंदी के 50 दिन बीत गए हैं, हाँ भाई उससे भी ज्यादा दिन हो गए हैं पर अभी तक पिछऊटा का घाव बन गया है. यह बात बड़े बिजसनेस को नहीं समझ आएगी काहे की उनके काम तो ऊपर से ही हो जाता है, चाहे वेस्टर्न कमोड की तरह. लाइन में लगाने की और कुछ जर



आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x