कविताएं

ख्वाहिशें

ज़िन्दगी का क्या, ज़िंदगीभर साथ नहीं देती,ख्वाहिशों का क्या, ख़त्म भी तो नहीं होती,जख्म हो तो मरहम भी मिल जाता है;दवा की जरुरत किसे है दुवा हो बस जो ख़त्म नहीं होती। Tejaswita Khidake: ख्वाहिश





1
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x