कोई



देश में ‘‘लोकतंत्र‘‘ ‘‘खत्म’’ हो गया है! राहुल गांधी! सही!/?

महामहिम राष्ट्रपति को किसानों के मुद्दे पर भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के सांसदों द्वारा अपने नेता राहुल गांधी के नेतृत्व में विरोध मार्च कर ज्ञापन सौंपने की अनुमति देने के बजाए धारा 144 लागू किये जाने पर राहुल गांधी को यह कहना पड़ गया कि देश में ‘‘लोकतंत्र समाप्त‘‘ हो गया है। रात्रि की अंधकार की गहरा



कोई रोता है।

( 1)क्यों? मुझको ऐसा लगता है। दूर कहीं कोई रोता है।कौन है वो? मैं नही जानता। पर,मानो अपना लगता है।कहीं दूर कोई रोता है। मुझसे मेरा मन कहता है। ( 2)अक्सर अपनी तन्हाई में, ध्



कोई रोता है।

क्यों मुझको ऐसा लगता है?, दूर कहीं कोई रोता है।कौन है वो? ,मैं नही जानता, पर मुझको ऐसा लगता है,दूर कोई अपना रोता है। क्योंमुझको ऐसा लगता है?दूर कहीं कोई रोता है। 2पर्वत की हरी-भरी वादियाँ



अंतिम विदाई

बरसात का मौसम था | शाम से ही हल्की-हल्की बारिश होते - होते रात में कडकडाती बिजली के साथ किसी तूफानी घटना की ओर इशारा करने लगी । पत्नी तो मेरी बाहों में बंधते ही मेरे प्यार को रो



06 सितम्बर 2019

अनिर्णय और अत्यधिक सोच से बाहर निकलना।

में कुछ ऐसे लोगों के साथ काम कर रहा हूं जो बहुत बुद्धिमान, बहुत सक्षम और बहुत प्रतिभाशाली हैं – लेकिन वे अनिर्णय और विश्लेषण पक्षाघात में फंस जाते हैं।वास्तव में, अंतहीन विकल्पों में से उखाड़ फेंकना और खो जाना निष्क्रियता पैदा करके उनकी प्रभावशीलता और बुद्धिमत्ता को क



31 जुलाई 2019

स्व-देखभाल के सबसे उपेक्षित और शक्तिशाली अधिनियम।

हम में से बहुत से (सही-सही) अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखने, पूरे खाद्य पदार्थों को खाने और सक्रिय रहने की कोशिश करने पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं … हम ध्यान और वियोग के कुछ पल ले रहे हैं, उपकरणों से दूर।ये आत्म-देखभाल के अद्भुत कार्य हैं, और



07 फरवरी 2019

जाने देने का अभ्यास।

ऐसा समय होता हैं जब हमारा दिमाग किसी चीज से कसकर चिपक जाता है, और यह शायद ही कभी मददगार होता है:मैं सही हूं, दूसरा व्यक्ति गलत है। वह व्यक्ति अपना जीवन गलत तरीके से जी रहा है, उसे बदलना चाहिए।मेरी प्राथमिकता सबसे अच्छा तरीका है, अन्य गलत हैं। यही वह चीज है जो मैं चाहता हूं, मैं कुछ और नहीं चाहता।मुझ



16 जनवरी 2019

एक भिक्षु के रूप में शांत: कैसे उपेक्षा आपके विवेक को बचा सकती है। 

जो लोग नहीं जानते हैं, उनके लिए उपेक्षा या "समरूपता" मूल रूप से बौद्ध धर्म में चार "उदात्त दृष्टिकोण" में से एक हैं - जिन्हें "फोर इमैसुलेबल्स", या "चार उदात्त दृष्टिकोण" कहा जाता है। करुणा, प्यार, दयालुता, और सहानुभूति से खुशी।इसमें मैं हमेशा सफल नहीं होता (मुझे गुस्सा आता है या हर किसी की तरह चिढ़



"गज़ल" हाथ कोई हाथ में आ जाएगा मान लो जी साथियाँ भा जाएगा

बह्र 2122, 2122 212, काफ़िया, आ स्वर, रदीफ़- जाएगा"गज़ल" हाथ कोई हाथ में आ जाएगा मान लो जी साथियाँ भा जाएगालो लगा लो प्यार की है मेंहदी करतली में साहिबा छा जाएगा।।मत कहो की आईना देखा नहींनूर तिल का रंग बरपा जाएगा।।होठ पर कंपन उठे यदि जोर कीखिलखिला दो लालिमा भा जाएगा।।अधखुले है लब अभी तक आप केखोल दो मु



कैसे वो अपना बन बैठे - शिखा

Kaise vo apna ban baithe pata hi nahi chala tha,Kaise ruh mai bas gaye the pata hi nahi chala tha.Raat ko sapno mai hum unhe hi to dekha karte the, Kaise vo mujse door ho gaya pata hi nahi chala tha.Ek hum the jo baar baar ishq e izhar kiya karte the,Kaise vo inse anjaan bana raha pata hi nahi chal



चूड़ी जो खांकि हाथों में (Choodi Jo Khanki Haathon Mein )- प्यार कोई खेल नहीं

फिल्म प्यार कोई खेल नाहिन से चुडी जो खंकी हैथॉन मीन के गीत। फाल्गुनी पाठक ने इस गीत को अपनी सुंदर आवाज दी है। चुडी जो खंकी हैथॉन मी गीत ललित सेन द्वारा लिखे गए हैं। यह गीत ललित सेन की एक अद्भुत रचना है।प्यार कोई खेल नहीं (Pyaar Koi Khel Nahin )चूड़ी जो खांकि हाथों में (Choodi Jo Khanki Haathon Mein



चाँद सा लल्ला (Chaand Sa Lalla )- प्यार कोई खेल नहीं

प्यार कोई खेल नाहिन से चंद सा लल्ला के गीत: यह सुदेश भोंसले द्वारा जतिन और ललित द्वारा अच्छी तरह से तैयार संगीत के साथ एक बहुत अच्छा गाया गया गीत है। चंद सा लल्ला गीत सुड्री अहमद मीनाई द्वारा खूबसूरती से लिखा गया है।प्यार कोई खेल नहीं (Pyaar Koi Khel Nahin )चाँद सा लल्ला (Chaand Sa Lalla ) की लिरि



प्यार कोई खेल नहीं (Pyaar Koi Khel Nahin )

'प्यार कोई खेल नाहिन' 1 999 की हिंदी फिल्म है जिसमें सनी देओल, महिमा चौधरी, अपूर्व अग्निहोत्री, आलोक नाथ, कुलभूषण खरबंद, मोहिनी बहल, रीमा लगू, बिंदू, असिफ शेख, दलित ताहिल, राकेश बेदी, डॉली बिंद्रा, तबासम, शामा देशपांडे, दीना पाठक, नवनीत निशन, साहिल और शोमा आनंद प्रमुख भूमिकाओं में। हमारे पास 3 गाने



मत हो उदास - कोई मेरे दिल से पूछे

कोई हो दिल से पूचे से मैट हो उदास गीत: इस गीत को सुनें जो शान और पामेला जैन की शानदार आवाज़ में है। इस गीत का संगीत राजेश रोशन द्वारा किया जाता है और मैट हो उदास गीत सूर्य भानु गुप्ता द्वारा लिखे गए हैं।कोई मेरे दिल से पूछे (Koi Mere Dil Se Poochhe )मत हो उदास की लिरिक्स (Lyrics Of Mat Ho Udaas )



कोई मेरे दिल से पूछे (Koi Mere Dil Se Poochhe )

"Koi Mere Dil Se Poochhe" is a 2002 hindi film which has Jaya Bachchan, Jaspal Bhatti, Rajpal Yadav, Sanjay Kapoor, Aftab Shivdasani, Anupam Kher and Esha Deol in lead roles. We have and one song lyrics of Koi Mere Dil Se Poochhe. Rajesh Roshan has composed its music. Shaan and Pamela Jain have su



आदत हो चुकी है तेरी - कोई आप सा

फिल्म आओ सा सा से आदत हो चुकी है तेरी गीत शान और सुनिधि चौहान द्वारा गाया जाता है। इसका संगीत हिमेश रेशमिया द्वारा रचित है और गीत समीर द्वारा लिखे गए हैं।कोई आप सा (Koi Aap Sa )आदत हो चुकी है तेरी की लिरिक्स (Lyrics Of Aadat Ho Chuki Hai Teri )लेट्स डांस!रब्बा मेरे रब्बा.. [आदत आदत ो..]रब्बा मेरे



सीने में दिल - कोई आप सा (२००५)

फिल्म आप से सा से सेन मी दिल गीत अल्का याज्ञिक और उदित नारायण द्वारा गाया जाता है, इसका संगीत हिमेश रेशमिया द्वारा रचित है और गीत समीर द्वारा लिखे गए हैं।कोई आप सा (Koi Aap Sa )सीने में दिल (२००५)की लिरिक्स (Lyrics Of Seene Mein Dil )सीने में दिलसीने में दिलसीने में दिलओ दिल-ो-जाना तेरी तमन्ना ह



बाँध मेरे पैरों में पायलिया - कोई आप सा

Baandh Mere Pairon Mein Payaliya Lyrics of Koi Aap Sa (2005) is penned by Sameer, it's composed by Himesh Reshammiya and sung by Sunidhi Chauhan and Sonu Nigam.कोई आप सा (Koi Aap Sa )बाँध मेरे पैरों में पायलिया की लिरिक्स (Lyrics Of Baandh Mere Pairon Mein Payaliya )चूड़ी पहन केदिल मेरा दिल दोल रह



कोई आप सा - टाइटल सांग (२००५)

कोई आप सा सा फिल्म से कोई आप सा गीत अल्का याज्ञिक और सोनू निगम द्वारा गाया जाता है, इसका संगीत हिमेश रेशमिया द्वारा रचित है और गीत समीर द्वारा लिखे गए हैं।कोई आप सा (Koi Aap Sa ) टाइटल सांग (२००५)की लिरिक्स (Lyrics Of Koi Aap Sa )आप जो पास आये मेरेआप से जो हुयी दोस्तीख्वाब जागने लगादिल को लगने लग



कभी न सुकून आया - कोई आप सा

कही ना सुकून आया गीत मूवी कोई आप सा। गीत अल्का याज्ञिक और उदित नारायण द्वारा गाया जाता है। इसकी संगीत रचना हिमेश रेशमिया द्वारा बनाई गई है, जबकि कही ना सुकून आया के गीत समीर द्वारा लिखे गए हैं।कोई आप सा (Koi Aap Sa )कभी न सुकून आया की लिरिक्स (Lyrics Of Kabhi Na Sukoon Aaya )जाने है कितना बेचैन म



आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x