प्रकृति को समझने में चूक संकट की सबसे बडी वजह !

प्रकृति को समझने में चूक संकट की सबसे बडी वजह !अगर कोई यह दावा करें कि उसने प्रकृति को समझ लिया है तो इसपर आसानी से विश्‍वास नहीं किया जा सकता: वर्तमान समय में इस सत्‍यता को समझना काफी है कि जब यह कहा जाता है कि आज बारिश होगी या खबू गर्मी पडेगी तो उसका निष्‍कर्ष भी अक्‍सर उन भविष्‍यवाणियों की तरह हो



सफर यादों का

तेरा धरती से यूँ जाना, मेरा धरती में रह जाना ।अखरता है मुझे हर पल, तेरा मुझसे बिछुड़ जाना ।मेरी साँसों में तेरा नाम, मेरी धड़कन में तेरा नाम ।मेरे ख्वाबों में तू ही तू,



अपने पूर्वजों ,मृत्युलोक के प्राणियों की याद में मनाये जाने वाले पर्व

अपने पूर्वज ,मृत्यु लोक के प्राणियों की याद में मनाये जाने वाले पर्व डॉ शोभा भारद्वाज विश्व की लगभग सभी संस्कृतियों में जन्म मृत्यु आत्मा भूत प्रेत पूर्वजों आदि की मान्यता है। पश्चिमी देशों में ‘एक दिन’ का हैलोवीन एवं आल सेंट्स डे पर्व मनाया जाता है। एशिया में वर्ष का सातवाँ महीना, घोस्ट धरती पर



सीखा दो सबक इन गद्दारों को

मैं अबला नहीं, सबला बनना चाहती हूं; मैं आज बॉलीवुड में पनप रहे ,अपराधों का भंडाफोड़ करना चाहती हूं।बॉलीवुड पर कुछ गुंडों का, एकाधिकार मिटाना चाहती हूं।बॉलीवुड हमारी संस्कृति और राष्ट्रप्रेम ,युवा वर्ग की प्रगति का दुश्मन जो ठहरा;उसे सुधारने



रेत पे उकेरी आकृति

रेत पर उकेरी गई आकृति,मेरा वजूद इतना सा ही कुछ समय का; कलाकार ने उकेरा बड़ी शिद्दत से,चित्रण कर दिया अपनी भावनाओं का।मैं बनी इतनी सुन्दर कि, मुझे मिटाने के लिए खड़े तैयार है दुश्मन;चलती हवा और लहरें पानी की,कर



आरम्भ है यह अंत का

आरम्भ है यह अंत का -अंत की घड़ी है अब ना तुम्हारी ना ही हमारी सब की अंतिम कड़ी है अबजीने के ही नहीं ,मारने के भी अलग अलग ढंग है अब अंत की कड़ी है अब जीवन मरण की अंतिम कड़ी है अब आत्म दान का समय है यही है उचित ,सृष्टि चक्र थमने का समय यही सही यही उचित महा प्रस्थान का



ऋतु गायन

🌿🌿🌿ऋतु गान🌿🌿🌿🌾🌱🌲🌳🌴🌳🌲🌱🌾उमस भरी ग्रीष्मकालिन-उष्णतावातानुकूलित का आमंत्रण लाती है🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀बर्षा की टगर होठों पर टपकती बुँदों मेंमानो सावन के गीत सजनी गाती है🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺गीत शदर ऋतु की चाँदनी रात मेंअत्यंत प्रिय-आह्लादित कर देते हैं🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷शिशिर ऋतु अगन को आम



भारतीय संस्कृति, हिन्दी और भारत का बाल एवम् युवा वर्ग

<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedC



पैसो की कभी नहीं आएगी तंगी, करे ये छोटा सा उपाय Money Problem Solution

सभी का एक ही सपना होता है है की एक बड़ा सा घर हो, बड़ी सी गाड़ी हो, पैसो की कभी दिक्कत न हों। लेकिन ये सपना सभी का पूरा नहीं होता है। हर व्यक्ति जीवन में पैसे कमाने के लिए मेहनत करता है फिर भी पुरजोर मेहनत करने के बाद भी कुछ ही लोगो को सफलता मिलती है।आज हम आपको वास्तु के कुछ



मैं......... क्यों ?

मैं......... क्यों ?हम सबमें कहीं सशक्त है ‘मैं’,कहीं छिपी है, तो कहीं विकराल है। मूल्यों और भावनाओं को तोड़ती ,असंतुष्ट , स्वार्थी और संवेदनहीन बनाती ‘मैं ‘रिश्तों में फैलती, संक्रमण की तरह ,अहसासों को लगती दीमक की तरह , मय में अंधा, मर्यादाओं को लाँघ रहा है। खोकर इ



आलोक कौशिक की कुछ साहित्यिक कृतियां

👇 'आलोक कौशिक' की कुछ साहित्यिक कृतियों को इस लिंक पर Click करके पढ़ें:- 👇Some Literary Works Of Alok Kaushik



हम एवं हमारी संस्कृति :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*हमारा देश भारत आदिकाल से सनातन संस्कृति का वाहक रहा है | परिवर्तन सृष्टि का नियम रहा है इसी परिवर्तन के चलते हमारे देश में समय-समय पर भिन्न - भिन्न संस्कृतियों की स्थापना हुई एवं सनातन धर्म से विलग होकर के अनेक धर्म एवं संप्रदाय के लोगों ने अपनी - अपनी संस्कृति की स्थापना की | आज हमारे देश के प्रत्



हमारी संस्कृति ही हमारी धरोहर :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*संपूर्ण विश्व में विविधता में एकता यदि कहीं देखने को मिलती है तो वह हमारा देश भारत है जहां विभिन्न धर्म जाति वर्ण के लोग एक साथ रहते हैं | हमारा देश एकमात्र ऐसा देश है जहां भिन्न-भिन्न जातियों के वंशज एक साथ रहते हैं और इन सब की मूल धरोहर है इनकी संस्कृति , सभ्



पहचानें अपनी संस्कृति :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*आदिकाल से ही हमारे देश भारत को पुण्यभूमि कहा जाता रहा है | आध्यात्मिकता के उच्चशिखर को इस देश ने छुआ है तो उसका एक प्रमुख कारण यह रहा है कि यहाँ समय - समय पर महापुरुषों ने जन्म लेकर मानवता की स्थापना करने का प्रयास किया है | आदिकाल से लेकर अब तक आध्यात्मिकता एवं मानव धर्म एवं समसरता का उदाहरण प्रस्



कृति की तरह बनें महाराष्ट्रीयन ब्राईड

पानीपत के लिए कृति सेनन ने मराठी स्टाईल अपनायाहै, इस फिल्म में वो दुल्हन के रुप में भी नज़र आई है।इस फिल्म सेपहले बाजीराव मस्तानी में प्रियंका चोपड़ा और मनीकर्णिका में कंगना ने झांसी की रानी में रॉयल ब्राईड लुकअपनाया था। जिसकी काफी तारीफ हुई थी। अब कृति की खूबसूरती में चा



अपनी गौरवशाली संस्कृति को पहचानें :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस समस्त सृष्टि में हमारा देश भारत अपने गौरवशाली संस्कृति एवं सभ्यता के लिए संपूर्ण विश्व में जाना जाता था | अनेक ऋषि - महर्षियों ने इसी पुण्य भूमि भारत में जन्म लेकर के मानव मात्र के कल्याण के लिए अनेकों प्रकार की मान्यताओं एवं परंपराओं का सृजन किया | संस्कृति एवं सभ्यता का प्रसार हमारे देश भारत स



संस्कृति का सच और अश्लीलता पर हल्ला

(जो देश चांदतारों, मंगल पर पहुंच कर इठला रहे हैं,विज्ञान के नए-नए आविष्कार कर देश के लिए खुशियां समेट रहे हैं,उन की तुलना में हम कहां हैं ? पढ़ कर आप कीआंखें खुली की खुली रह जाएंगी ।)अधिकतरभारतीय जानते ही नहीं कि, संस्कृति है क्या ? जिसे वे अपनी संस्कृति बता रहेहैं, क



वृषभ(Taurus) राशि को इन तीन राशि से है खतरा - हो सकता है बड़ा नुकसान

वृषभ राशि वाले जातको के लिए कोनसी राशि के जातक मित्र है और कोनसी राशि के जातक शत्रु ,यह जानना बहुत जरुरी है| यदि आपकी राशि वृषभ है तो आपको किन राशि वालो से मित्रता करनी चाहिए और किन राशि वालो से दूर रहना चाहिए | यह भी वृषभ राशि वालो के लिए



Guru Purnima 2019 -गुरु मंत्र की महिमा

हर परम्परा का अपना एक गुरु मंत्र होता है और किसी भी मंत्र को गुप्त रूप से और मौखिक रूप से एक गुरु द्वारा संप्रेषित किया जाता है जो उस व्यक्ति के लिए एक गुरु-मंत्र बन जाता है, जिसके लिए इसका संचार किया जाता है



कुछ यूं होती है जापानी शैली में बनी हिंदी कविता

<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedContent> <w:AlwaysShowPlaceh



आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x