क्या

अभिनेता नसीरूद्दीन शाह अपने देश में डरे हुये हैं

अभिनेता नसीरुद्दीन शाह अपने देश में डरे हुए हैं ?डॉ शोभा भारद्वाज वह आज के भारत में अपने बच्चों को लेकर बहुत डरे हुए हैं. ''मुझे इस बात का डर लगता है कि कहीं मेरेबच्चों को भीड़ ने घेर लिया और उनसे पूछा कि तुम हिंदू हो या मुसलमान? मेरे बच्चों के पास इसका कोई जवाब नहीं होगा. क्योंकि मैंने मेरेअनुसार अ



"मुक्तक" देखिए तो कैसे वो हालात बने हैं। क्या पटरियों पै सिर रख आघात बने हैं।

"मुक्तक" देखिए तो कैसे वो हालात बने हैं।क्या पटरियों पै सिर रख आघात बने हैं।रावण का जलाना भी नासूर बन गया-दृश्य आँखों में जख़्म जल प्रपात बने हैं।।-1देखन आए जो रावण सन्निपात बने हैं।कुलदीपक थे घर के अब रात बने हैं।त्योहारों में ये मातम सा क्यूँ हो गया-क्या रावण के मन के सौगात बने हैं।।-2महातम मिश्र,



स्वतंत्रता के 70 सालों के पश्चात भी क्या यही ‘‘परिपक्व’’ लोकतंत्र है?

पाँच राज्यों के चुनाव परिणाम आ गये हैं। चुनाव पूर्व का ‘‘ओपीनियन पोल’’ तुरन्त चुनाव बाद का ‘‘एक्जिट पोल’’ व अब ‘‘वास्तविक परिणाम’’ आपके सामने है। मैं यहाँ पर परिणामों का विश्लेषण नहीं कर रहा हूूंँ। ये सब ‘‘पोल’’ अनुमान के कितने नजदीक थे, सही थे, या आश्चर्य जनक थे, इस संबंध में भी कोई विशेष मूर्धन्य़



स्वतंत्रता के 70 सालों के पश्चात भी क्या यही ‘‘परिपक्व’’ लोकतंत्र है?

पाँच राज्यों के चुनाव परिणाम आ गये हैं। चुनाव पूर्व का ‘‘ओपीनियन पोल’’ तुरन्त चुनाव बाद का ‘‘एक्जिट पोल’’ व अब ‘‘वास्तविक परिणाम’’ आपके सामने है। मैं यहाँ पर पर



"गीतिका" छा रही कितनी बलाएँ क्या बताएँ साथियों द्वंद के बाजार में क्या क्या सुनाएँ साथियों

छन्द- सीता (मापनीयुक्त वर्णिक) वर्णिक मापनी - 2122 2122 2122 212 अथवा लगावली- गालगागा गालगागा गालगागा गालगा पारंपरिक सूत्र - राजभा ताराज मातारा यमाता राजभा (अर्थात र त म य र)"गीतिका" छा रही कैसी बलाएँ क्या बताएँ साथियोंद्वंद के बाजार मे



राहुल गांधी का ‘एप’ के माध्यम से मुख्यमंत्री चुनना! जनादेश का अपमान नहीं?

पाँच प्रदेशों में हुये विधानसभा चुनावों में तीन विधानसभाओं में कांग्रेस सरकारें बनने जा रही है। कांग्रेस पार्टी द्वारा तीन प्रदेशों में मुख्यमंत्री चुनने की प्रक्रिया की औपचारिकताओं की (औपचारिक) पूर्ती की जाकर विधायक दल द्वारा अंतिम निर्णय लेने का अधिकार परम्परा अनुसार हाई कमान अर्थात राहुल गांधी को



"छंद मुक्त गीतात्मक काव्य" जी करता है जाकर जी लू बोल सखी क्या यह विष पी लू

"छंद मुक्त गीतात्मक काव्य"जी करता है जाकर जी लूबोल सखी क्या यह विष पी लूहोठ गुलाबी अपना सी लूताल तलैया झील विहारकिस्मत का है घर परिवारसाजन से रूठा संवादआतंक अत्याचार व्यविचारहंस ढो रहा अपना भारकैसा- कैसा जग व्यवहारजी करता है जाकर जी लूबोल सखी क्या यह विष पी लूहोठ गुलाबी अपना सी लू।।सूखी खेती डूबे बा



"गज़ल" कहो जी आप से क्या वास्ता है सुनाओ क्या हुआ कुछ हादसा है

वज़्न-- 1222 1222 122 अर्कान-- मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन फ़ऊलुन, क़ाफ़िया— वास्ता (आ स्वर की बंदिश) रदीफ़ - है"गज़ल" कहो जी आप से क्या वास्ता हैसुनाओ क्या हुआ कुछ हादसा हैसमझ लेकर बता देना मुझे भीहुआ क्या बंद प्रचलित रास्ता है।।चले जा चुप भली चलती डगर येमना लेना नयन दिग फरिश्ता है



हमें लेखक क्यों बनना चाहिए? एक लेखक का भविष्य क्या होना चाहिए?

दोस्तों आज हर व्यक्ति पढ़-लिख कर नौकरी के क्षे़त्र में एकऊंचा औदा पाना चाहता है। कोई डॉक्टर बनना चाहता है, कोई पुलिस, कोई वकील तो कोई इंजीनियर। लेकिनएक लेखक के पहलू पर बहुत कम लोग ही ध्यान देते हैं। लेखक बनना एक गर्व की बात है। क्योंकि यह भी एक प्रकार की कला है जो हर क



प्यार क्या है?

प्यार दो दिलो के बीचका एक गहरा स्नेह है। जो किसी दूसरी चिजो मे ना मिले वो सुखद एहसास है। गंगा की तरह पवित्र, यमुना की तरह सुंदर और हिमालय की तरह विशाल है, जिसे तोड़ना साधारण मानव के बस की बात नही। कुदरत का दिया हुआ वोतोहफा है जिसमे खुदा



"मुक्त काव्य" जी करता है जाकर जी लू , बोल सखी क्या यह विष पी लू

"मुक्तकाव्य" जी करता है जाकर जीलूबोल सखी क्या यहविष पी लूहोठ गुलाबी अपना सीलूताल तलैया झीलविहारसुख संसार घरपरिवारसाजन से रूठा संवादआतंक अत्याचारव्यविचारहंस ढो रहा अपनाभारकैसा- कैसा जगव्यवहारहोठ गुलाबी अपना सीलूबोल सखी क्या यहविष पी लू॥ डूबी खेती डूबेबाँधझील बन गई जीवन साधसड़क पकड़ती जबरफ्तारहो जाता जी



जीवन

सांसो में आता जाता है स्पंदन बन चलता जाता है जीवन तू अंतर मैं मुस्काता है कभी अश्रु बन के जीता है कभी स्नेहमय बन जाता है जीवन तू मौन हो सब कुछ कह जाता है माँ की ममता बहन का प्यार और कभी प्रयसी की गुहार जीवन तू सब कह जाता है रेशम की झालर सा सहलात



मुझे तेरी नज़र ने (Mujhe Teri Nazar Ne )- वह तेरा क्या कहना

वू तेरा काय कहना से मुज तेरी नज़र ने गीत: इस गीत को सुनो जो अल्का याज्ञिक और उदित नारायण की शानदार आवाज़ में है। इस गीत का संगीत जतिन और ललित द्वारा बनाया गया है और मुमे तेरी नज़र ने गीत समीर द्वारा लिखे गए हैं।वह तेरा क्या कहना (Waah Tera Kya Kehna )मुझे तेरी नज़र ने (Mujhe Teri Nazar Ne ) की लिरि



वह तेरा क्या कहना (Waah Tera Kya Kehna )

"Waah Tera Kya Kehna" is a 2002 hindi film which has Govinda, Raveena Tandon, Preeti Jhangiani, Kader Khan, Shammi Kapoor, Mohnish Bahl, Shakti Kapoor, Rana Jung Bahadur, Navneet Nishan, Supriya Karnik, Aashish Vidyarthi, Anil Dhawan, Raju Shrivastava, Anju Mahendroo, Tej Sapru, Rakesh Bedi, Razzak



तेरी परछाइयाँ (Teri Parchhaiyan )- तेरा क्या होगा जोहनी

तेरी काय होगा जॉनी के तेरी पंचाईयन गीत: टेरी पचाईयायन 2011 बॉलीवुड फिल्म तेरा काय होगा जॉनी से एक सुंदर हिंदी गीत है। यह गीत अली आज़मत द्वारा रचित है। अली आज़मत ने इस गीत को गाया है। इसके गीत अली अज़मत द्वारा लिखे गए हैं।तेरा क्या होगा जोहनी (Tera Kya Hoga Johny )तेरी परछाइयाँ (Teri Parchhaiyan )



तेरा क्या होगा जोहनी (Tera Kya Hoga Johny )

"Tera Kya Hoga Johny" is a 2011 hindi film which has Neil Nitin Mukesh, Soha Ali Khan, Kay Kay Menon, Shahana Goswami, Karan Nath, Saurabh Shukla, Vijay Maurya, Virendra Saxena, Makrand Deshpande, Abhay Deol, Anurag Kashyap, Ashok Pandit, Shereveer Vakil and Razzak Khan in lead roles. We have and



“गज़ल”क्या बताऊँ क्यों नहीं सुनता हूँ मैं

क़ाफ़िया ज़िंदा आ स्वर रदीफ़ हूँ मैं वज़्न -२१२२ २१२२ २१२अरकान-फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन“गज़ल”क्या बताऊँ क्यों नहीं सुनता हूँ मैंहर घड़ी हैवान से लड़ता हूँ मैंदेख वह ले जा रहा है आदमीदौड़ कर रोको उसे कहता हूँ मैं।।फूलकर कुप्पा हुआ सहकार पाकब उठेंगे हाथ बस तकता हूँ मैं।।राम आए थे ब



चढ़ गयी मैनु ब्रांडी (Chadh Gayi Mainu Brandy )- रब्बा मैं क्या करूं

Chadh Gayi Mainu Brandy is a lovely song from Amrit Sagar's film Rabba Main Kya Karoon starring Arshad Warsi, Riya Sen, Akash Sagar and Paresh Rawal. Lyrics of Chadh Gayi Mainu Brandy is funny. This track is sung by Satyadev Singh and Akash Chopra superbly.रब्बा मैं क्या करूं (Rabba Main Kya Karoon



रब्बा मैं क्या करूं (Rabba Main Kya Karoon )

राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता 1 9 71 के साथ एक स्टर्लिंग पदार्पण करने के बाद, निर्देशक अमृत सागर चोपड़ा अपनी अगली फिल्म, रब्बा मुख्य काय करून के साथ अर्धद वारसी, परेश रावल, राज बब्बर, शक्ति कपूर अभिनीत और आकाश सागर चोपड़ा की शुरुआत में तैयार हैं। इस रोम-कॉम में सलीम-सुलेमान द्वारा संगीत है। फिल्म में, अ



आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x