ट्रिप के दौरान ड्राइवर ने किया महिला से अभद्र व्यवहार, कहा- 'गाड़ी से उतर वरना फाड़ दूंगा तेरे कपड़े'

भारत में हर तरह की बातें होती हैं लेकिन महिलाओं को लेकर सुरक्षा का मामला बिल्कुल सीरियसली नहीं लिया जाता। यहां पर मां-बहन की गालियां देकर लोग इसमें अपनी वाहवाही समझते हैं जबकि वो लोग नहीं जानते हैं वे अपने ही घरवालों का समाज में मजाक बनवा रहे हैं। भारत की महिलाएं सुरक



लड़की

खेलती- हँसती मुस्कुराती हुई लड़की, बचपन खुशी से हाँ जीती हुई लड़की, घर में ही रहने की हिदायत मिली है, आने जाने की टोक सहती हुई लड़की। हर कदम पर ताना सुनती हुई लड़की,



गर्लफ्रेंड - बॉयफ्रेंड जोक्स इन हिंदी

लड़की : Activa क्यों ले रहे हो ? कोई स्टाइलिश सी bike लो नालड़का : वो क्या है ना नमकीन , पऊआ , सोडा लाने के लिए बाइक में डिक्की नहीं ना होती। …… तू ये सब पकड़ कर बैठेगी ?लड़की : Activa ले लो मैं भी चला लूंगी लड़का लड़की को अपनी कार में बिठा कर ले जा रहा था ,लड़की – हम कहाँ जा रहे है ?लड़का – लॉन्ग ड्राइव पे



एक अधूरी कहानी

https://shabd.in/post/id/ ek-adhuri-kahani



एक बेवफा को दिल का सहारा समझ लिया - अजीब लड़की

Ek Bewafa Ko Dil Ka Sahara Samajh Liya Lyrics of Ajeeb Ladki (1952) is penned by Shakeel Badayuni, it's composed by Ghulam Mohammad and sung by Lata Mangeshkar and Talat Mehmood.अजीब लड़की (Ajeeb Ladki )एक बेवफा को दिल का सहारा समझ लियापत्थर को हमने आँख का तारा समझ लियाएक बेवफा को दिल का सहारा समझ लि



छोडो छोडो जी पिया - अजीब लड़की

फिल्म अजीब लाडकी की छोडो छोडो जी पिया गीत लता मंगेशकर और तलत मेहमूद द्वारा गाया जाता है, इसका संगीत गुलाम मोहम्मद द्वारा रचित है और गीत शकील बदायुनी द्वारा लिखे गए हैं।अजीब लड़की (Ajeeb Ladki )छोडो छोडो जी पिया मेरा तोडो न जियाछोडो छोडो जी पिया मेरा तोडो न जियाहमें तुमसे गरज़कभी रूठे तुमतुम्हें जान गए



अजीब लड़की (Ajeeb Ladki )

'अजीब लाडकी' 1 9 52 की हिंदी फिल्म है जिसमें रेहमान, नसीम बनू, शशिकला, कूकू, आगा, जयंत और श्याम कुमार की प्रमुख भूमिकाएं हैं। हमारे पास 2 गाने के गीत और अजीब लाडकी के 2 वीडियो गाने हैं। गुलाम मोहम्मद ने अपना संगीत बना लिया है। लता मंगेशकर और तलत मेहमूद ने इन गीतों को गाया है जबकि शकील बदायुनी ने अपन



एक बूँद की कहानी है...

एक बून्द की कहानी है... एक बून्द की ज़ुबानी है .. इस रामझिम बारिश की हर एक बून्द की बस यही निशानी है ... गिरती है ज़मीन पर तोह एक तड़पती प्यास को बुझाती है... पड़ती है तन पर तोह ... एक ख़ुशी का एहसास जगाती है... केहती है सबसे की बेवजह न दूषित करो मुझे मेरी लीला भी न्यारी ह



भागी हुई लड़की

सुबहका समय था. राजू सोया पड़ा था कि तभी किसी नेउसे झकझोर कर उठाया. राजू आँखे मलते हुए उठ गया. सामने मामी खड़ी थीं. मामी ने हांफते हुए कहा,“तुम्हे पता है रात छबीली घूरे के साले के साथ भाग गयी.” राजू ने आँखे मिचमिचा कर देखा कि कहीं वो सपना तो नही देख रहा है. राजू मामी से बोला, “किसने बताया आपको?”मामी



एक आम लड़की -कविता

सपने बुनतीआसमान छूने केग़म में मुस्कुरातीएक आम लड़कीकुछ कहती कुछ सुनतीअपनों को खुश रखतीकभी सहम जाती तेज हवाओ सेकभी तूफ़ान से जूझतीएक आम लडकीदुनिया की भीड़ मेंअसहाय, लड़खडाई-सीउठकर गिरी, आन्सू छलकातीगिरकर उठी, ज्वाला बनतीएक आम लड़कीअमीरो जेसी शानदौलत नहीं चाहतीथोडा प्यार थोड



थोड़ा वर्डप्रेस चल रहा है |

आज कल थोड़ा वर्डप्रेस चल रहा है मेरी लिनक्स मशीन पर और हर बार की तरह मेने फिर से कुछ ट्वीक्स किये है| आशा करता हूँ की आपको मेरा डेस्कटॉप पसंद आएगा |



आखिर तुम्हारे पास... क्या है मेरे नाम का?

लोग पत्नी का मजाक उड़ाते है। बीवी केनाम पर कई MSG भेजते है उन सभी के लीये-------------- Please Read This....A Lady's Simple Questions & Surely It WillTouch A Man's heart... ------------------------ देह मेरी ,हल्दी तुम्हारे नाम की । हथे



लाल गुलाब कब्र में सोई अनजान लड़की के नाम

लाल गुलाब कब्र में सोयी अनजान लड़की के नाम डॉ शोभा भारद्वाज “यह प्यार था या खुदगर्जी जिसमें माँ बाबा का प्यार गौण हो गया |हर वैलेंटाइ



अगर भगवान तुम हमको, कही लड़की बना देते

अगर भगवान तुम हमको, कही लड़की बना देतेजहाँ वालों को हम अपने, इशारो पर नचा देते||पहनते पाव मे सेंडल, लगते आँख मे काजलबनाते राहगीरो को, नज़र के तीर से घायल ||मोहल्ले गली वाले, सभी नज़रे गरम करतेहमे कुछ देख कर जीते, हमे कुछ देख कर मरते||हमे जल्दी जगह बस मे, सिनेमा मे टिकट मिलतीकिसी की जान कसम से, हमारी



और खा तंबाखू



लड़की देखन आये लड़का वाले

लड़की देखन आय रहे, लड़का वाले लोग,दादी के पकवानों का, लगा रहे सब भोग.सबसे पहले केरी के, शरबत की तरावट,पनीर टिक्का चटपटा, दूर करे थकावट.फिर आया मशरूम संग, मटर भरा समोसाथोड़ी देर में दादी ने, परसा मद्रासी डोसा.पेट भरा पर जीभ तो, मांगे थोड़ा और,डिनर में व्यंजनों का, फिर चला इक दौर.भरवां भिंडी संग लगी, मिस्



मुझे कौन भेजेगा स्कूल ......... मै लड़की हूँ ना !

तीन दिन से छुट्टी पर चल रही है, काम नहीं करना तो मना कर दे, कोई जोर जबरदस्ती थोड़ी है. रोज कोई ना कोई बहाना लेकर भेज देती है अपनी बेटी को, उससे न सफाई ठीक से होती है और ना ही बर्तन साफ़ होते है. कपड़ों पर भी दाग यूँ के यूँ लगे रहते है .......... और उसमे इस बेचारी का दोष भी क्या है? इसकी उम्र भी तो नही



फिर भी जीना लड़की

बच भी जाओगी केरोसिन में छुआई जातीतीली की बदबूदार लपट से पर कैसे बच पाओगी ।पिता के माथे पर गहरा आई लकीरों के फंदे से या तुम्हें पैदा करने के अपराधबोध से ग्रस्त माँ की आँखों के अंधे कुएं से बिटिया,अब तो माँ की कोख भी महफूज़ नहीं रही तुम्हारे लिए जहाँ तैर लेती थी तुम नौ माह निर्द्वंद्व तुम्हें तलाशते गं



12 मई 2015

लडकी क्या है???

लडकी वह है जो किसी शादी मेँ जाने से पहले फेश वॉश फेश स्टिक कॉन्सलर आई शैडो मस्कारा लिपस्टिक लिप ग्लोज लिप पेन्सिल आई लाईनर फेश क्रीम फेश पाउडर काजल ब्लश ऑन नेल पॉलिश बॉडी स्प्रे परफ्यूम और साथ मेँ हील और एक अच्छा सा ड्रेस पहनने के बाद अपनी फ्रेँड से कहे "यार जल्दी जल्दी मेँ मैँने तो कुछ किया ही नहीँ



आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x