1


मेरे रस-छंद तुम, अलंकार तुम्हीं हो

मेरे रस-छंद तुम, अलंकार तुम्हीं होजीवन नय्या के खेवनहार तुम्हीं हो,तुम्हीं गहना हो मेरा श्रृंगार तुम्हीं हो।मेरी तो पायल की झनकार तुम्ही हो,बिंदिया, चूड़ी, कंगना, हार तुम्हीं हो।प्रकृति का अनुपम उपहार तुम्ही हो,जीवन का सार, मेरा संसार तुम्ही हो।पिया तुम्हीं तो हो पावन बसंत मेरे,सावन का गीत और



काल विवश पति कहा न माना ( मंदोदरी )

काल विवश पति कहा न माना (मन्दोदरी ) डॉ शोभा भारद्वाज राम कथा के मंचन के बाद दशहरा के दिन हर वर्ष एक कतार में रावण के एक तरफमेघनाथ उसका महान शूरवीर प्रतापी पुत्र जिसने पुत्र का धर्म निभाते हुए पिता सेपूर्व युद्ध में शत्रू के हाथी मृत्यू का वरन किया दूसरी तरफ कुम्भकरण जिसने श्रीहरी की



हिंदुस्तान का इकलौता वि. वि. ई. पि पेड़

देश के एक जिम्मेदार नागरिक होने के नाते ,आपको पता होना चाहिए की आपके द्वारा दिया जाने वाले टैक्स या कर का पैसा कहाँ जा रहा हैं और जैसे कि हमारा लोकतंत्र पारदर्शिता को बढ़ावा देता है, यहां कुछ ऐसा है जो हम सबको को जान ना चाहिए| मध्य प्रदेश सरकर हर साल १२ लाख रूपये वि. व





1
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x