लोग क्या कहेंगे

लोग क्या कहेंगे ।वो 29 साल की है, कामयाब है, अपने पैरों पर खड़ी है, ज़िन्दगी अपने तरीके से जीती है, खुश है।फिर भी हर रोज़ माँ-बाप और रिश्तेदार उसे, "शादी की उम्र निकल रही है, अब तुझे कौन मिलेगा!"के ताने सुनाएंगे।क्योंकि बेटी की शादी नहीं हुई, तो लोग क्या कहेंगे?वो दोनों एक दूसरे से प्रेम करते हैं, शायद



अक्सर समझ नहीं पाते हैं लोग

अक्सर समझ नहीं पाते हैं लोग मन से मन की बातों को,शब्दों के जज्बातों को, सोचती जागती रातों को, अक्सर समझ नहीं पाते हैं लोग.......संबंधों की गहराई को, समय की दुहाई को, अपनों की अच्छाई को,अक्सर समझ नहीं पाते हैं लोग....... नेह से



वह कुछ लोग



सबलोग धरें हिय

सबलोग धरें हिय प्रेमसुधा, सबके हित में सब कर्म करें। सबकी मधुबानि सुहावनि हो, सबके उर से मधुभाव झरें। सबलोग प्रसन्न रहें जग में, बहु कष्ट सहें पर धीर धरें। नित नेह बढ़े हरि के पग में, प्रभु मंगलकोष अपार भरें।



फिर कब मिलोगी (Phir Kab Milogi )

"Phir Kab Milogi" is a 1974 hindi film which has Dilip Kumar, Biswajeet, Mala Sinha, David, Deven Verma, Bipin Gupta, Ansari, Vijaya Chaudhary, Abhi Bhattacharya, Sailesh Kumar, Naaz, Uma Dutt, Neelima, Shridhar, Parveen Paul, Sujata, Bishan Khanna and Vikram in lead roles. We have and one song ly



Google डूडल वैक्यूम क्लीनर के आविष्कारक ह्यूबर सेसिल बूथ मनाता है

Google अपने 147 वें जन्मदिन पर एक डूडल के साथ - वैक्यूम क्लीनर के आविष्कारक - ब्रिटिश इंजीनियर ह्यूबर सेसिल बूथ का जश्न मना रहा है।आज के गुडल डूडल का वीडियो दर्शाता है कि एक घर साफ करने के लिए वैक्यूम क्लीनर का उपयोग कैसे किया जाता है। सफाई प्रक्रिया की शक्ति घर के बाहर पार्क की गई मशीन के माध्यम से



सकारात्मक व नकारात्मक ---+ आचार्य अर्जुन तिवारी

!! भगवत्कृपा हि केवलम् !! *इस सृ्ष्टि में ईश्वर ने समस्त प्राणिमात्र को सारी ऊर्जायें समान रूप से प्रदान की हैं | सूर्य का प्रकाश , चन्द्रमा की शीतलता , नदियों का जल , हवा , प्राकृतिक सम्पदायें आदि समस्त प्राणिमात्र को समानरूप से मिल रही हैं | अनेक प्राकृतिक संसाधन मनुष्य को यहाँ प्राप्त हुए है



जाने भी दो यारों...

भारतीय सिनेमा जगत के सुनहरी पर्दे पर 1983 में एक सुपर स्टार्स फिल्म आई थी “जानेभी दो यारों" । एनएफ़डीसी द्वारा निर्मित इस फिल्म को ‘कुन्दन शाह’ द्वारा निर्देशितकिया गया है, जिसमें उस जमाने में व्याप्त भ्रष्टाचार सम्बन्धी बात किया गया है । मीडिया, राजनीति , उच्चाधिकारि



आवारगी भी कभी सोशलिस्ट हुआ करती थी...

चेतनाएं आवारा हो चली हैं,शब्द तो कंगाल हुए जाते हैं...लम्हों को इश्के-आफताब नसीब नहीं,खुशबु-ए-बज्म में वो जायका भी नहीं,मंटो मर गया तो तांगेवाला उदास हुआ,शहरों में अब ऐसे कोई वजहात् नहीं...!तकल्लुफ तलाक पा चुकी अख़लाक से,बेपर्दा तहजीब को यारों की कमी भी नहीं...।आवारगी भी कभी सोशलिस्ट हुआ करती थी,मनच



कि गुलशन का करोबार चले...

कुछ पता न चलेपर कारोबार चले,भरोसा न भी चले,जिंदगी चलती चले,चलन है, तो चले,रुकने से बेहतर, चले,न चले तो क्या चले,यूं ही बेइख्तियार चले,सांसें, पैर, अरमान चले,फिर, क्यूं न व्यापार चले,सामां है तो हर दुकां चले,हर जिद, अपनी चाल चले,अपनों से, गैर से, रार चले,इश्क है, न ह



तेरे मेरे सपने

रहे जुदा हो गई अब अजनबी हो जायेंगे .. तेरे मेरे सपने सनम अब तू ही बता कहा जायेंगे ...!! राह में कोई नहीं तेरे यादो के सिवा हमसफ़र ...तेरी याद अब ना आई तो शायद हम मर जाएंगे ...!!! दिवार ही दिवार खड़



बिछुडन ा

मिलकर बिछुड़ना लोगों का जिदंगी का दस्तूर बन गया , जिंदगी का वो हर एक पल जीवन का इतिहास बन गया , कारवां गुजर गया पढते पढ़ते इस इतिहास को , मालूम हु यी ना राज बिछुड़ने का , सिर्फ ये प्रकृति के बदलाव का बहाना बन गया ।। धन्यवाद



सफ़र और हमसफ़र : एक अनुभव

 अकसर अकेली सफ़र करतीलड़कियों की माँ को चिंताएं सताया करती हैं और खासकर ट्रेनों में . मेरी माँ केहिदयातानुसार दिल्ली से इटारसी की पूरे दिन की यात्रा वाली ट्रेन की टिकट कटवाईमैंने स्लीपर क्लास में . पर साथ में एक परिवार हैबताने पर निश्चिन्त सी हो गयीं थोड़ी .फिर भी इंस्ट्रक्शन मैन्युअल थमा ही दीउन्होंने



जब से मैंने गाँव क्या छोड़ा | मैं, लेखनी और जिंदगी

जब से मैंने गाँव क्या छोड़ा शहर में ठिकाना खोजा पता नहीं जब से मैंने गाँव क्या छोड़ा | मैं, लेखनी और जिंदगी



बिहार चुनाव परिणामों की समीक्षा

रविवार का दिन विश्व के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश के लिए एक महत्वपूर्ण दिन साबित हुआ व मौजूदा सरकार के या प्रधानमंत्री के सभी एकजुट विरोधियों को यह विश्वास हो गया कि नरेन्द्र मोदी अजेय नहीं है। मैं बिहार के जनादेश का सम्मान करता हूं व महा गठबंधन को शुभकामनाएं देता हूं।     परन्तु इन परिणामों की निष्प



बिहार चुनाव परिणामों की समीक्षा

रविवार का दिन विश्व के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश के लिए एक महत्वपूर्ण दिन साबित हुआ व मौजूदा सरकार के या प्रधानमंत्री के सभी एकजुट विरोधियों को यह विश्वास हो गया कि नरेन्द्र मोदी अजेय नहीं है। मैं बिहार के जनादेश का सम्मान करता हूं व महा गठबंधन को शुभकामनाएं देता हूं।     परन्तु इन परिणामों की निष्प



आज का विचार (२)

"सफल व्यक्ति अपने फ़ैसले से दुनिया बदल देते हैं और असफल व्यक्ति दुनिया के डर से अपने फ़ैसले बदल लेते हैं ।"



आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x