मंजिल

पर्दे भी डसने से लगते हैं।

पर्दे भीडसने से लगते हैं। घर सेनिकली औरत,कोहरे मे काम के लिए।खूब कसीऊनी कपड़ो से,लटका बैग कंधो मे।इधर कोई न, उधर कोई, लिए गीत अधरों मे।देखअंधेरा चरो-ओर ले, कदमो को रफ्तार मे।वहगलियारो मे, अपनेपगचिन्हों को छोडती।झोड़, नाली-नाले ककरीली पथरीली सड़कोमे।खेत, रेत,सबपार किया शमशान की मुडेरों से।वह निकलीकोहरे



satya Sayri

Mai ghar we nikala tha manzil ki tarafMai manzil se bhi dur chala aya huMai laut bhi jau waps to kya hasil haiMai sab kuch chhod kar mazbur chala aya huMuje lagat hai khusiyo ki talash me mai zannat se bahut dur chala aya hu.



मन की मंजिल ढूँढ लो …

सागर को बांध लो, नदियों को सींच दो, उड़ जाओ संग हवा के, मुड़ जाओ संग दिशा के, कुछ सपने बुन भी लो, मन की मंजिल ढूँढ लो ... क्योँ हो खोये? सोये-सोये? खुश होकर भी, लगते हो रोये-रोये! संदेशे सोच लो, अंदेशे छोड़ दो, उड़ जाओ संग हवा के, मुड़ जाओ संग दिशा के, कुछ सपने बुन भी लो, मन की मंजिल ढूँढ लो ...  ज़िन्दगी





1
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x