“विश्व पर्यटन दिवस‌” (27 सितम्बर)

आजकल के समय में हर व्यक्ति किसी नाकिसी परेशानी से घिरा हुआ है, पैसे और चकाचौंध के बीच ऐसा लगता है मानोखुशी तो कहीं गुम हो गई है । इन सबके बावजूद हर व्यक्ति को अपने जीवन में कुछ समयऐसा जरूर निकालना चाहिए जिससे वो दूसरे देश या जगह का पर्यटन करे और खुशियों को फिर से गले



“विश्व पर्यावरण दिवस ” एवं हमरी नैतिक जिम्मेदारी

<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <w:ValidateAgainstSchemas></w:ValidateAgainstSchemas> <w:Sav



भारत की ये 6 जगह हैं जहाँ आप कम पैसे में घूम सकते हैं

अगर आपका घूमने का मन है, लेकिन जेब में पैसे कम हैं तो परेशान होने की ज़रुरत नहीं है. आज हम आपको भारत की ऐसी जगहों के बारे में बताने जा रहे हैं जहां घूमने के लिए आपको अपनी जेब पर ज्यादा बोझ नहीं डालना होगा... 1. ऋषिकेश: उत्तराखंड का ऋषिकेश हिमालय की तलहटी में मौजूद हैं. यहा



यात्रा

वसंत आ रही है, नए साल में आप सोचते हैं कि खेलने के लिए कहाँजाएंगे? प्रेमपूर्ण और गुलाबी के जयपुर, जोधपुर या सुनहरा रेगिस्तान के राजस्थान, गार्डन शहर के रूप में बैंगलोर। ज़ाहिर है, सुंदर भारतीय के अलावा, बाहर की दुनिया फिर मजेदार और रंगीन है। जैसे: चार महान प्राचीन सभ्यताओंके चीन, मिस्र, बाबुल।वे भार



यात्रा और यात्री

साँस चलती है तुझेचलना पड़ेगा ही मुसाफिर! चल रहा है तारकों कादल गगन में गीत गाता,चल रहा आकाश भी हैशून्य में भ्रमता-भ्रमाता,पाँव के नीचे पड़ीअचला नहीं, यह चंचला है,एक कण भी, एक क्षण भीएक थल पर टिक न पाता,शक्तियाँ गति की तुझेसब ओर से घेरे हु‌ए है;स्थान से अपने तुझेटलना पड़ेगा ही, मुसाफिर!साँस चलती है त



मेरी देवप्रयाग यात्रा

12 साल बाद लगने वाले मौरी मेले में मुझे पांडव के साथ देवप्रयाग गंगा स्नान जाने का मौका मिला, मैंने 7 दिसम्बर मेले के उद्घाटन दिन ही तय कर दिया था कि जब पांच पांडव १३ अप्रैल को बिखोती मे गंगा स्नान को देवप्रयाग संगम में जायेंगे तो मै भी पैदल यात्रा कर के उनके साथ स्नान के जाऊंगा।दिसम्बर के बाद वक



संपूर्ण पर्यटन का सर्वोत्कृष्ट संसार है उत्तराखंड

आगामी विश्व पर्यटन दिवस (२७ सितम्बर, २०१५) के उपलक्ष्य में आज बात करते हैं भारत के पर्यटन प्रदेश एवं देवभूमि की प्रतिष्ठा रखने वाले उत्तराखंड की, जहां की आर्थिकी मुख्यतः पर्यटन पर ही निर्भर है.......... प्राकृतिक पर्यटन के परंपरागत प्रतिमान :नैनीताल, भोवाली, रामगढ, मुक्तेश्वर, भीमताल, रानीखेत, कौसान



एक अरब पर्यटक...एक अरब अवसर : बुर्कीना-फासो (विश्व पर्यटन दिवस पर विशेष)

संयुक्त राष्ट्र विश्व पर्यटन संगठन द्वारा हर वर्ष २७ सितम्बर को विश्व पर्यटन दिवस का आयोजन होता है, एक नई थीम या प्रसंग के टैगलाइन से, जिसकी मेज़बानी अलग-अलग देश में होती है. इस बार विश्व पर्यटन दिवस (२७ सितम्बर, २०१५ ) की थीम है- एक अरब पर्यटक . . . एक अरब अवसर, जिसका प्रायोजक देश है – बुर्किना-फासो





1
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x