1


देशप्रेम-राष्ट्रभक्ति-राष्ट्रवाद को ढूढ़ता मेरा प्यारा देश!

इस लेख का ‘‘शीर्षक’’ देख कर बहुत से लोगों को हैरानी अवश्य होगी और आश्चर्य होना भी चाहिये। पर बहुत से लोग इस पर आखें भी तरेर सकते है। यदि वास्तव में ऐसा हो सका तो, मेरे लेख लिखने का उद्देश्य भी सफल हो जायेगा। एक नागरिक, बल्कि यह कहना ज्यादा उचित होगा एक भारतीय पैदाईशी ही स्वभावगतः देशप्रेमी होता है।



दिल चाहे - शिखा

Dil chahe yu hi teri baaho mai rahena ,Dhadkan ki tarah dil mai basa lu tujko.Dil chahe yu hi teri palko pe rahena,Khwab ki tarah palko pe saja lu tujko.Dil chahe yu hi teri saanso mai rahena,Phoolo ki tarah saanso mai mila lu tujko.Dil chahe yu hi teri bagiya mai rahena,Khushbu ki tarah muj mai mi



पास मेरे बैठो ना तुम - शिखा

Paas mere baitho na tum,bahut si baate karni hai,dil ke halat batane hai,Kai sapne sajane hai.Kuchh teri sunni hai, Kuchh meri karni hai,Na sata tu muje itna ,Do pal to muskura aa.Sirf tujse muhobbat hai,fir kyu muje ajmate ho.Tuje hi yaad karti hu,Tujhi se pyar karti hu.Meri zindagi tujse hai,Meri



नफरत की लाठी तोड़ो - मेरे देश प्रेमियों - देश प्रेमी

नफरत की लाठी टोडो - मेरे देश प्रेमियो गीत देश प्रीमी (1 9 82) के गीत आनंद बक्षी द्वारा लिखे गए हैं, यह लक्ष्मीकांत और प्यारेलाल द्वारा रचित है और मोहम्मद रफी द्वारा गाया गया है।देश प्रेमी (Desh Premee )नफरत की लाठी तोड़ो मेरे देश प्रेमियों की लिरिक्स (Lyrics Of Nafrat Ki Laathi Todo )नफरत की लाठी



देश प्रेमी (Desh Premee )

'देश प्रीमी' एक 1982 हिंदी फिल्म है जिसमें अमिताभ बच्चन, हेमा मालिनी, अमजद खान, शर्मिला टैगोर, शम्मी कपूर, परवीन बाबी, उत्तम कुमार, प्रेमनाथ, परीक्षित साहनी, प्रेम चोपड़ा, केदार खान, जीवन, जगदीश राज, यूसुफ, सुधा चोपड़ा, मास्टर रवि, मास्टर बिट्टू, ज्योति बक्षी, नवीन निश्चोल, गुरबचन, चित्र, एम राजन, र



सच्चे प्रेमियों को समर्पित

तुम जिसे ठुकरा गयी, वो अब जग को रास आ रहा है,जो सुना तुमने नहीं वो धून ज़माना गा रहा है,तुमने बोला था न बरसेगी जहाँ एक बूँद भी कल,उस जमीं के नभ पे इक्छित काला बादल छा रहा है,रात के डर से अकेला तुमने छोड़ा था जिसे कल ,उसकी खातिर आज सजकर, सूर्य का रथ आ रहा है,काँच का टुकड़ा समझकर फेंक आई तुम जिसे थी,पैसो



मेरे इस दिल की चाहत - शिखा

Mere is dil ki chahat sanam kal bhi tum the or aaj bhi tum ho.Mere is dil ki tadap sanam kal bhi tum the or aaj bhi tum ho.Har lamha bekarar huyi rahi mai khud hi khud ko samjati rahi,Mere is dil ki dhadkan sanam kal bhi tum the or aaj bhi tum ho.Nahi janti aaj bhi mai ki



तुजसे ही इश्क़ करती है - शिखा

Aaj bhi teri ye diwani tujse hi ishq karti hai,Aaj bhi teri ek hansi se hi vo muskurati hai.Teri sirf ek mithi nazar or vo nikhar jaati hai,Pyar se hi tere vo jaise saj jaaya karti hai.Teri sirf ek chhuan or vo tadap jaati hai,Baaho mai simatne ko teri betab ho jaati hai.Teri sirf ek dilkash zappi



नया मुकाम दे दो - शिखा

आपके प्यार से जो संजोये है ख्वाब हमने ,उस ख्वाबो को अब नया आसमान दे दो .जीना है हर पल साथ आपके ये माना हमने ,मेरे इस ख्वाब को आज हक़ीक़त का रूप दे दो .बाते बहोत ही की यु दूर दूर रहकर हमने ,अब हाथो मै मेरे आप अपना हाथ दे दो .यु बातो से दिल अब बहलता नहीं है हमारा ,अपने गले से लगाकर शिखा को नया मुका





1
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x