Guru Purnima 2019 -गुरु मंत्र की महिमा

हर परम्परा का अपना एक गुरु मंत्र होता है और किसी भी मंत्र को गुप्त रूप से और मौखिक रूप से एक गुरु द्वारा संप्रेषित किया जाता है जो उस व्यक्ति के लिए एक गुरु-मंत्र बन जाता है, जिसके लिए इसका संचार किया जाता है



पवित्र मास कार्तिक ...

https://duniaabhiabhi.com/holy-month-karthik-the-perfect-occasion-for-merit/



जीवन का आनन्द अमृत

*🌹श्री राधे कृपा हि सर्वस्वम🌷* *जय श्रीमन्नारायण* *जय श्री राधे राधे* समस्त मित्रों को शरद पूर्णिमा की हार्दिक बधाई व शुभकामनाएं आज बड़ा ही पावन दिवस है भागवत जी के अनुसार आज के ही दिन भगवान श्री राधाबल्लभ सरकार ने रासलीला का आयोजन किया यह लीला आज के ही दिन हुई और कहते हैं इस दिन चंद्र देव ने



वैज्ञानिक पहलु शरद पूर्णिमा के ....

https://duniaabhiabhi.com/a-sensitive-mind-is-needed-for-literature/



जब शरद आए

ताल-तलैया खिलें कमल-कमलिनीमुदित मन किलोल करें हंस-हंसिनी!कुसुम-कुसुम मधुलोभी मधुकर मँडराए,सुमनों से सजे सृष्टि,जब शरद आए!!!गेंदा-गुलाब फूलें, चंपा-चमेली,मस्त पवन वृक्षों संग,करती अठखेली!वनदेवी रूप नए, क्षण-क्षण दिखलाए,सुमनों से सजे सृष्



इस शरद पूर्णिमा कीजिये यह उपाय ....

https://duniaabhiabhi.com/2121-2-do-this-remedy-for-chandradosh-on-this-sharad-purnima/



शरद पूर्णिमा

शरद पूर्णिमारविवार तेरह अक्तूबरको आश्विन मास की पूर्णिमा, जिसे शरद पूर्णिमा के नाम से जाना जाता है का मोहकपर्व है | और इसके साथ ही पन्द्रह दिनों बाद आने वाले दीपोत्सव की चहल पहल आरम्भहो जाएगी | आज अर्द्धरात्र्योत्तर 12:36 परपूर्णिमा तिथि आरम्भ होगी और कल अर्द्धरात्र्योत्तर 2:38 तकरहेगी | देश के अलग



श्रावणी पूर्णिमा पर सृजन

🌻🌺🌹💮🌸🌸🌸🌸💮🌹🌺🌻दुनिया की समस्त सरहदें मिट गर गुम हो जाती।मजहब-फीरकापरस्ती की दिवारें टूट ढ़ह जाती।।नफ़रत का फ़ितूर न होता, जंग का इल्म न होता।मुहब्बत का नजारा, इंसान इंसान का प्यारा होता।।इतिहास के पन्नों से खून रिस कर टप-टप पड़ता है।कहीं कंस कहीं रावण अट्टाहास कर ताण्डव करता है।।नित 'द्रो



मेरे जनक

गुरुर्ब्रह्मा गुरुर्विष्णुः गुरुर्देवो महेश्वरःगुरुर्साक्षाद्परब्रह्मतस्मै श्री गुरवे नमः |अज्ञानतिमिरान्धस्यज्ञानान्जन्शलाकयाचक्षुरुन्मीलितंयेन तस्मै श्री गुरवे नमः ||अखण्डमण्डलाकारंव्याप्तं येन चराचरम्तत्पदंदर्शितं येन तस्मै श्री गुरवे नमः |अनेकजन्मसम्प्राप्तमकर्मबन्धविदाहिनेआत्मज्ञानप्रदानेनतस्मै



गुरु पूर्णिमा

गुरु पूर्णिमा व्यासाय विष्णुरूपाय व्यासरूपाय विष्णवे।नमो वै ब्रह्मनिधये वासिष्ठाय नमो नम:॥ब्रह्मज्ञानके भण्डार, महर्षि वशिष्ठ के वंशज साक्षात भगवान विष्णु के स्वरूप महर्षि व्यास कोहम नमन करते हैं और उन्हीं के साथ भगवान विष्णु को भी नमन करते हैं जो महर्षिव्यास का ही रूप हैं |आज 25:49 (अर्द्धरात्र्योत



बुध का वृषभ में गोचर और बुद्ध पूर्णिमा

बुध कावृषभ में गोचरशनिवार 18 मई यानी वैशाख शुक्लपूर्णिमा को रात्रि 11:35 के लगभग बव करण और परिघ योग में बुध मेष राशि से वृषभराशि में प्रस्थान कर जाएगा | कल ही भगवान बुद्ध का जन्म दिवस बुद्ध पूर्णिमा भीहै | साथ ही कल यानी वैशाख शुक्ल पूर्णिमा को ही महात्माबुद्ध को ज्ञान की प्राप्ति हुई और इसी तिथि को



जानिए की क्या हैं माघ पूर्णिमा और माघ पूर्णिमा का महत्व..???

हिन्दू धर्म में धार्मिक दृष्टि से माघ मास को विशेष स्थान प्राप्त है। भारतीय संवत्सर का ग्यारहवां चंद्रमास और दसवां सौरमास माघ कहलाता है।मघा नक्षत्र से युक्त होने के कारण इस महीने का नाम का माघ नाम पडा। ऐसी मान्यता है कि इस मास में शीतल जल में डुबकी लगाने वाले पापमुक्त होकर स्वर्ग लोक जाते हैं। ज्योत



पूर्णिमा व्रत

पूर्णिमा व्रत 2019कल सोमवार यानी 21 जनवरी को पौषी पूर्णिमा – पौष माह की पूर्णिमा है | जिनप्रदेशों में माह को अमान्त मानकर शुक्ल प्रतिपदा से माह का आरम्भ मानते हैं वहाँपूर्णिमा माह का पन्द्रहवाँ दिन होता है | जिन प्रदेशों में माह को पूर्णिमान्तमानकर कृष्ण प्रतिपदा से माह का आरम्भ माना जाता है वहाँ पू



कार्तिक पूर्णिमा

कार्तिकपूर्णिमाआज कार्तिक शुक्ल चतुर्दशी/पूर्णिमा है और कल गंगा स्नान की कार्तिक पूर्णिमा होगी | अपने बचपन और युवावस्था की कुछ स्मृतियाँ आज जागृत हो आईं | हमारे पितृ नगर नजीबाबाद से कुछ ही दूरी पर बिजनोर के पास नागलसोती गाँव –जहाँ हर वर्ष कार्तिक स्नान तथा गंगा दशहरा के अवसर पर पवित्र गंगा नदी में स



शरद पूर्णिमा की हार्दिक शुभकामनाएँ

शरद पूर्णिमाआश्विन मास की पूर्णिमा, जिसे शरदपूर्णिमा के नाम से जाना जाता है और जिसके साथ ही आरम्भ हो जाती है पन्द्रह दिनोंबाद आने वाले दीपोत्सव की चहल पहल | इसके अतिरिक्त देश के अलग अलग भागों में कोजागरीपूर्णिमा, नवान्न पूर्णिमा, कुमुद्वती तथा कुमार पूर्णिमा के नाम से भी इस पर्व कोजाना जाता है | आज



नमोऽस्तु गुरुसत्तायै, श्रद्धाप्रज्ञायुता च या

मातृवत्लालयित्री च, पितृवत् मार्गदर्शिका, नमोऽस्तुगुरुसत्तायै, श्रद्धाप्रज्ञायुता च या ||वास्तव में ऐसीश्रद्धा और प्रज्ञा से युत होती है गुरु की सत्ता – गुरु की प्रकृति – जो माता केसामान ममत्व का भाव रखती है तो पिता के सामान उचित मार्गदर्शन भी करती है | आज गुरु पूर्णिमा



गुरु पूर्णिमा का महत्व

आषाढ़ शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा को गुरु पूर्णिमा के रूप में पूरे देश में उत्साह के साथ मनाया जाता है| भारतव र्ष में कई विद्वान गुरु हुए हैं, जिन्होंने सनातन धर्म (हिन्दू धर्म) के चारों वेदों की व्याख्या की थी| कहते है जैसे सूर्य की गर्मी से तपती भूमि को



“वौठा मेला” (गुजरात का लोक पशु मेला)

मेले और त्यौहार भारतीय लोक संस्कृतिकी अनूठी पहचान रही है । ग्रामीण अंचलों में तो मेलों का पौराणिक और आर्थिकमहत्त्व कुछ अधिक ही होता है । गुजरात राज्य में आयोजित सबसे बड़े ग्रामीण मेलों मेंसे “वौठा मेले” की एक अनूठी ही पहचान है । इस मेले के बारे में सबसे महत्वपूर्ण तथ्ययह है कि यह गुजरात में एकमात्र



खगोलशास्त्र और ज्योतिष - भाग 5

यह लेख मेरे द्वारा कुछ WhatsApp समूहों पर १८ अगस्त २०१६ से २७ नवम्बर २०१६ तक सम्प्रेषित चर्चा का संकलन है. पाठकों की सुविधा के लिए इसे 6 खण्डों में प्रकाशित कर रहा हूँ.आज की चर्चा का विषय है चन्द्रमा की कलाएँ जिन्हें अंग्रेज़ी में phases of moon कहते हैं। आपमें स



आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x