राख...

राख... कैसे रिश्ते ये... कैसे ये नाते है... अपना ही खून हमे कहा अपनाते है... प्यार कहो या कहो वफ़ा... सबकुछ तो सिर्फ बातें है... रिशतें कहो या कहो अपने... सबकुछ तो सिर्फ नाते है... बातें लोग भूल जाते है... नाते है टूट जाते है... कोनसी कसमें कोनसे वादें... यहां अपने पीछे छूट जाते है... कितना भी कहलो



कभी किया था अंबानी की शादी में काम ,आज हैं करोड़ो की संपत्ति की मालकिन

उतार चढ़ाव ज़िंदगी के सिक्के के दो पहलु हैं और हर किसी की ज़िंदगी में ये पहलु बहुत ही अहम् भूमिका निभाते हैं। आज हम बात कर रहे हैं बॉलीवुड की कंट्रोवर्सी क्वीन राखी सावंत की जो आज अपना 40वां जन्मदिन मना रही हैं। राखी पेशे से डांसर और अभिनेत्री हैं। लेकिन इससे ज़्यादा राखी अपने बेबाक बयानों के लिए जानी ज



रक्षाबंधन, 26-8-18राखी का त्यौहार प्रिय, प्रिय बहना का स्नेह।

रक्षाबंधन, 26-8-18 भाई-बहन के पवित्ररिश्ते को अपने आँचल में छूपाये हुए इस महान पर्व रक्षाबंधन के अनुपम अवसर पर आपसभी को दिल से बधाई व मंगलमयी शुभकामना,ॐ जय माँ शारदा.....!“चतुष्पदी” राखी का त्यौहारप्रिय, प्रिय बहना का स्नेह। पकड़ कलाई वीर की, बाँध रही शुभ नेह। थाली कंकू से भरी, सूत्र रंग आशीष- रक्षा



कौन है ये महिला, जो 24 साल से लगातार मोदी को बांध रही है राखी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को रक्षा बंधन पर आज उनकी मुंहबोली बहन कमर मोहसिन शेख ने राखी बांधी और उनके स्वास्थ्य तथा लंबी आयु की कामना की। सुश्री शेख सुबह प्रधानमंत्री आवास सात लोक कल्याण मार्ग पहुंची और प्रधानमंत्री को पूरे विधि विधान से राखी बांधी। बाद में उन्होंने संवादद



राखी विशेष : इस दिन मनाया जाएगा रक्षाबंधन का त्‍योहार, जानिए शुभ मुहूर्त का समय

भाई-बहन के पवित्र रिश्ते का त्योहार रक्षाबंधन इस साल 26 अगस्त को मनाया जाना वाला है. श्रावण मास की पूर्णिमा को मनाया जाने वाला यह त्योहार हर भाई-बहन के लिए बेहद खास होता है. इस दिन बहन अपने छोटे और बड़े भाई की कलाई पर रक्षा सूत्र यानि की राखी बांधकर अपनी सुरक्षा का वचन मा



खबर जीएसटी तीन

19:25 HRS IST राखी को जीएसटी से छूट, एथनॉल पर कर की दर कम करके 5 प्रतिशत की गयी: वित्त मंत्री



पावन पर्व राखी पर कता/मुक्तक

पावन पर्व राखी पर कता/मुक्तक सजा कर थाल में कंकू, बहन की आ गई राखीलगा कर भाल पर टीका, उभर कर छा गई पाखीसजे जब रेशमी धागे, सहज भैया कलाई मेंमहक माटी खिले नैना, तिलक लिपटा गई साखी।।-१मनोरम हो गए उपवन, रंग ले खिल गई कलियाँबहन को मिल गया बीरन, खुशी बटने लगी गलियाँबँधी महिमा



बेटी और बेटी (बुआ)

°°°°°°°°°°°°°°°°°°कल फोन आया था,एक बजे ट्रेन से आ रही है..! किसी को स्टेशन भेजने की बात चल ऱही थी ।सच भी था... आजरिया ससुराल से दूसरी बार दामाद जी के साथ.. आ रही हैं; घर केमाहौल में उत्साह सा महसूस हो रहा हैं ।इसी बीच .....एक तेज आवाज आती हैं ~"इतना सब देने की क्या ज



चेतावनी प्रकृति की:२०१३की उत्तराखण्ड आपदा के अनुभव ६

td p { margin-bottom: 0cm; direction: ltr; color: rgb(0, 0, 0); }td p.western { font-family: "Liberation Serif","Times New Roman",serif; font-size: 12pt; }td p.cjk { font-family: "Arial Unicode MS",sans-serif; font-size: 12pt; }td p



चेतावनी प्रकृति की: २०१३ की उत्तराखण्ड आपदा के अनुभव ४

td p { margin-bottom: 0cm; direction: ltr; color: rgb(0, 0, 0); }td p.western { font-family: "Liberation Serif","Times New Roman",serif; font-size: 12pt; }td p.cjk { font-family: "Arial Unicode MS",sans-serif; font-size: 12pt; }td p.ctl { font-family: "Lohit Marathi"; font-size: 12pt; }h3 { dire



रक्षा बंधन से जुड़े ये भावनात्मक प्रसंग

राखी का यह धागा विजयश्री के साथ वापस ले आएगा, इस विश्वास के साथ राजपूत जब लड़ाई पर जाते थे तब महिलाएं उनको माथे पर कुमकुम तिलक लगाने के साथ साथ हाथ में रेशमी धागा भी बांधती थी। राखी के साथ एक और ऐतिहासिक प्रसंग जुड़ा हुआ है। मुगल काल के दौर में जब मुगल बादशाह हुमायूँ चितौड़ पर आक्रमण करने बढ़ा तो रा



मदन मोहन सक्सेना की रचनाएँ : आ गया राखी का पर्ब

आ गया राखी का पर्बराखी का त्यौहार आ ही गया ,इस  त्यौहार को मनाने  के लिए या कहिये की मुनाफा कमाने के लिए समाज के सभी बर्गों ने कमर कस ली है। हिन्दुस्थान में राखी की परम्परा काफी पुरानी है . बदले दौर में जब सभी मूल्यों का हास हो रहा हो तो भला राखी का त्यौहार इससे अछुता कैस



समानता की मांग या इस आड़ में कुछ और?

यह बंधु कौन हैं मैं जानती नहीं और इन्होने जो लिखा है उसको पढ़ कर जानने की इच्छा रह भी नहीं गयी। बस ट्विटर पर यह दिखा और मन उद्वेलित हो उठा। क्या सच में यह स्त्रियॉं के लिए समानता की बात कर रहे हैं? क्या इन्हे यह लग रहा है कि राखी बांधने से एक लड़की तथा लड़के में असमानता हो गयी? इनको राखी जैसे पवित्र त्



आया राखी का त्यौहार - Aaya Rakhi ka Tyohaar - Rakshabandhan ke Tyohaar ko Samarpit Kavita | UV Associates

रक्षाबंधन के त्यौहार को समर्पित कविता ~ रंग बिरंग नग-मनके जड़ी,राखियां सजी छोटी-बड़ी,समेटे धागे में स्नेह अपार,आया राखी का त्यौहार ।।रक्षाबंधन की रौनक त्यौहार के कुछ दिन पहले ही से छाने लगती है. मेरी टेबल पर, राखियों का छोटा सा ढेर लगा है. सारे भाइयों के लिए उनकी पसंद के हिसाब से राखियां ले आई..



राखी





1
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x