भगवान शिव की कथाओं का अनसुना पहलु, दो नहीं बल्कि 6 पुत्रों के पिता थे शिव

आपने भगवान विष्णु के पुत्रों के नाम पढ़े होंगे। नहीं पढ़ें तो अब पढ़ लें- आनंद, कर्दम, श्रीद और चिक्लीत। विष्णु ने ब्रह्मा के पुत्र भृगु की पुत्री लक्ष्मी से विवाह किया था। शिव ने ब्रह्मा के पुत्र दक्ष की कन्या सती से विवाह किया था, लेकिन सती तो दक्ष के यज्ञ की आग में कूदकर भस्म हो गई थी। उनका तो को



ये हैं वो 7 भाग्यशाली राशियां जिन पर बरसेगी भगवान विष्णु की कृपा, होगी धन की बरसात, मिलेगी कामयाबी

ग्रहों की स्थिति कब बदल जाये कुछ कहा नहीं जा सकता, ज्योतिष की मानें तो रोज़ाना किसी न किसी ग्रह में परिवर्तन ज़रूर होता है जिसकी वजह से 12 रशियन प्रभावित होती हैं। तो आइये जानते हैं पं दयानन्द शास्त्री से कि किन-किन राशियों पर है भगवान विष्णु की असीम कृपा और साथ ही कैसा रहेगा आपका आज का दिन । वो 7 भा



आखिर क्यों लगाएं दौड़ते हुए घोड़ो की फोटो?? क्या है वास्तु अनुसार इसका लाभ(फायदा)..

प्रिय मित्रों/पाठकों, आज के प्रतिस्पर्धा के इस दौर में हर कोई सफलता पाना चाहता है, लेकिन मेहनत के बाद भी सफल नहीं हो पाता है। इसका ये अर्थ नहीं होता है कि उस व्यक्ति की मेहनत में किसी तरह की कमी है।जीवन में सफलता हासिल करने के लिए सबसे जरूरी होता है इंसान को ऊर्जावान होना. स्वस्थ होना।अगर आप ऊर्जा स



इन राशियों पर बरसेगी महालक्ष्मी की कृपा, बदलेगी किस्मत, खुलेगा खुशियों का पिटारा…

ग्रहों की स्थिति कब बदल जाये कुछ कहा नहीं जा सकता, ज्योतिष की मानें तो रोज़ाना किसी न किसी ग्रह में परिवर्तन ज़रूर होता है जिसकी वजह से 12 रशियन प्रभावित होती हैं। तो आइये जानते हैं पं दयानन्द शास्त्री से कि किन-किन राशियों पर है माँ लक्ष्मी की असीम कृपा और साथ ही कैसा रहेगा आपका आज का दिन । मेष (चू,



जानिए कौनसे ज्योतिषीय योग बनाते हैं आपको धनवान...

प्रिय मित्रों/पाठकों, यदि आप थोड़ा-बहुत ज्योतिष भी जानते हैं तो खुद देख लीजिए आपकी जन्म कुंडली में धनवान होने के योग, कितना पैसा है आपकी किस्मत में...जानिए ज्योतिषाचार्य पण्डित दयानन्द शास्त्री जी से जन्म कुण्डली के कुछ प्रमुख धनवान बनाने वाले योग को --- यदि लग्न से त



आज इन 7 राशियों पर है विघ्नहर्ता गणेश जी की असीम कृपा, खुलेंगें बंद किस्मत के ताले, होगी धन की बरसात

राशियाँ हर किसी की ज़िंदगी में एक विशेष महत्त्व रखती हैं।हर किसी की किस्मत राशियों से जुडी होती है। तो आइये जानते हैं पं. दयानन्द शास्त्री से कि किन-किन राशियों पर है विघ्नहर्ता गणेश जी की असीम कृपा और साथ ही कैसा रहेगा आपका आज का दिन । मेषपुराना रोग उभर सकता है। योजना फलीभूत होगी। कार्यस्थल पर परिवर



नाम के पहले अक्षर से जाने अपने पार्टनर का स्वभाव, खुल जायेंगे कई राज़

बात अगर जीवनसाथी की होती है तो हर कोई इसे के कर अपने सपने सजाता है और ये चाह रखता है कि वो जैसा चाहता है उसका साथी वैसा ही हो न। इंसान कैसा है ये उसके स्वभाव पर निर्भर करता है और स्वाभाव के साथ दोनों के बीच सामंजस्य होना ही एक मजबूत रिश्ते की नींव होती है। जैसा कि हम सब जानते हैं राशिचक्र में कुल 12



ये हैं रामचरितमानस की सबसे चमत्कारी चौपाइयां, 21 दिन के जाप से दूर होंगे सारे संकट

जाने रामचरितमानस चौपाई के बारे में:रामायण का हिंदू धर्म में विशेष महत्व है। रामायण की किताब लगभग हर हिंदू घर में मिलती है। रामायण में हर एक किरदारों का अपना एक अलग महत्व है। रामायण के बारे में ज़्यादातर लोगों को टीवी, सीरियल या राम-लीला देखकर ही जानकारी मिली है। बहुत लोग किताब पढ़कर भी रामायण में निपु



शास्त्रों के मुताबिक हाथ से ये चीज़े गिरना देती हैं भविष्य में होने वाली अनहोनियों के अशुभ संकेत

सभी लोगों को खुशहाल जीवन पसंद है ऐसा कोई व्यक्ति होगा जो अपने जीवन में खुश रहना नहीं चाहता होगा लगभग सभी लोग चाहते हैं कि उनके जीवन में कभी भी कोई मुसीबत या कठिन परिस्थितियां ना आए व्यक्ति रोजाना अपना कोई ना कोई कार्य करता रहता है कभी-कभी ऐसा होता है कि व्यक्ति कोई का



5 शुभ काम करके कोई भी बन सकता है भाग्यशाली

दुनिया में ऐसाकौन व्यक्ति हैंजिसे किस्मत कासाथ नहीं चाहिए।किस्मत सात होंतो हर कार्यसहज रुप सेपूरा हो जाताहै। अन्यथा कितनाभी जतन करोकाम बनता हीनहीं है। हमसभी ने यहबहुधा सुना होगाकि हम मेहनततो बहुत करतेहैं परन्तु कोईकाम बनता हीनहीं या बनतेबनते काम रुकजाते हैं। कुछइसी तरह कीसमस्याओं से जुझरहे व्यक्तियो



घर में इस जगह न लगाए मृत लोगों की फोटो, वरना बढ़ सकता है दुर्भाग्य

हम सभी अपनेपूर्वजों को सम्मानदेते हैं, यहींहम सभी केसंस्कार है, औरभारतीय संस्कृति यह कहतीहैं कि पूर्वजोंको सम्मान देनेके लिए घरमें कई जगहोंपर पितरों कीफोटो लगाई जातीहै। इन फोटॊके माध्यम सेही हम सभीअपने मृत पूर्वजोंसे जुड़े रहतेहैं। यह मानाजाता है किघर में पूर्वजोंकी फोटो लगानेसे पूर्वजों काआशीर्वाद घ



देखें अपने हाथों की रेखाएं, जाने कैसा रहेगा जीवन चक्र

हमारी रेखाओं में हमारा भविष्य अंकित होता है। विशेष रुप से तीन रेखाएं जिसमें जीवन रेखा, मस्तिष्क रेखा और ह्र्दय रेखा प्रमुख है। आपके हाथ के अंगूठे के ठीक नीचे के भाग को शुक्र पर्वत कहा जाता है। इस पर्वत के पास से एक रेखा निकलती है जो जीवन रेखा कहलाती है। जीवन रेखा अनामिका अंगूली के नीचे के भाग को गुर



महात्मा गाँधी एवं लाल बहादुर शास्त्री “जन्म-जयंती”

आज (2 अक्‍टूबर) को राष्‍ट्रपिता महात्‍मा गांधी औरपूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्‍त्री की जयंती है । 2अक्‍टूबर 1869 को गुजरात के पोरबंदर में जन्‍मे मोहनदासकरमचंद गांधी आगे चलकर भारतवासियों के लिए ‘बापू’ बन गए । वहीं ठीक 35 साल बाद, मुगलसराय में शास्‍त्री ने जन्‍म लि



खगोलशास्त्र और ज्योतिष - भाग 6

यह लेख मेरे द्वारा कुछ WhatsApp समूहों पर १८ अगस्त २०१६ से २७ नवम्बर २०१६ तक सम्प्रेषित चर्चा का संकलन है. पाठकों की सुविधा के लिए इसे 6 खण्डों में प्रकाशित कर रहा हूँ.दो सप्ताह पूर्व की चर्चा में मैंने तिथिपत्र का संक्षिप्त उल्लेख किया था जिस पर कुछ टिप्पणियाँ भी प्राप्त हुईं थीं। उन टिप्पणियों का



खगोलशास्त्र और ज्योतिष - भाग 5

यह लेख मेरे द्वारा कुछ WhatsApp समूहों पर १८ अगस्त २०१६ से २७ नवम्बर २०१६ तक सम्प्रेषित चर्चा का संकलन है. पाठकों की सुविधा के लिए इसे 6 खण्डों में प्रकाशित कर रहा हूँ.आज की चर्चा का विषय है चन्द्रमा की कलाएँ जिन्हें अंग्रेज़ी में phases of moon कहते हैं। आपमें स



खगोलशास्त्र और ज्योतिष - भाग 4

यह लेख मेरे द्वारा कुछ WhatsApp समूहों पर १८ अगस्त २०१६ से २७ नवम्बर २०१६ तक सम्प्रेषित चर्चा का संकलन है. पाठकों की सुविधा के लिए इसे 6 खण्डों में प्रकाशित कर रहा हूँ. विषय



खगोलशास्त्र और ज्योतिष- भाग 3

यह लेख मेरे द्वारा कुछ WhatsApp समूहों पर १८ अगस्त २०१६ से २७ नवम्बर २०१६ तक सम्प्रेषित चर्चा का संकलन है. पाठकों की सुविधा के लिए इसे 6 खण्डों में प्रकाशित कर रहा हूँ.आज की चर्चा के दो उद्देश्य हैं- एक पिछले सप्ताह की चर्चा को आगे बढ़ाना और दूसरा पिछले सप्ताह की च



खगोलशास्त्र और गणित ज्योतिष - भाग 2

यह लेख मेरे द्वारा कुछ WhatsApp समूहों पर १८ अगस्त २०१६ से २७ नवम्बर २०१६ तक सम्प्रेषित चर्चा का संकलन है. पाठकों की सुविधा के लिए इसे कई खण्डों में प्रकाशित कर रहा हूँ.कल की चर्चा में कुछ बातें छूट गयीं थीं ।कल मैंने कहा था कि ज्योतिष में नव ग्रहों की स्थिति को १२ रा



"फेंगशुई" ( चीन का एक अदृश्य "हथियार" …एक कटु सत्य !!! )

<!--[if gte mso 9]><xml><w:WordDocument><w:BrowserLevel>MicrosoftInternetExplorer4</w:BrowserLevel><w:DisplayHorizontalDrawingGridEvery>0</w:DisplayHorizontalDrawingGridEvery><w:DisplayVerticalDrawingGridEvery>2</w:DisplayVerticalDrawingGridEvery><w:DocumentKind>DocumentNotSpecified</w:DocumentKind>



खगोलशास्त्र और गणित ज्योतिष - भाग 1

यह लेख मेरे द्वारा कुछ WhatsApp समूहों पर १८ अगस्त २०१६ से २७ नवम्बर २०१६ तक सम्प्रेषित चर्चा का संकलन है. पाठकों की सुविधा के लिए इसे 6 खण्डों में प्रकाशित कर रहा हूँ.हम सब ने कभी न कभी आकाश में विचरण करते ग्रहों और नक्षत्रों का अवलोकन किया है। इस अवलोकन से हम सब के मानस में भिन्न



आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x