तलाश

तलाश

कतरन बनी जिन्दगी में भीड में अजनबियों के बीच अपने आप को खोजती टूटे सपनों को लडी को बिखरे रिश्तों को जोडने की जद्दोजहद आदर्शों, आस्थाओं को स्थापित करने का रास्ता खोजते मंजिलों पाने को घिसी पिटी, ढर्रे की रोजमर्रा की जिंदगी में विसंगतियों को संवेदनहीनता को उजागर कर एक नए उजाले को मिलना महज संयोग नहीं



लाख दुनिया कहे (Laakh Duniya Kahe )- तलाश

तालाश (2012) के लाख डुनिया काहे गीत: यह आमिर खान, रानी मुखर्जी, करीना कपूर और नवाजुद्दीन सिद्दीकी अभिनीत तालाश का एक प्यारा गीत है। यह राम संपथ द्वारा गाया जाता है और राम संपथ द्वारा रचित किया जाता है।तलाश (Talaash )लाख दुनिया कहे (Laakh Duniya Kahe ) की लिरिक्स (Lyrics Of Laakh Duniya Kahe )लाख



होना है क्या (Hona Hai Kya )- तलाश

होला है कया गीत तलाश: होना है कया 2012 बॉलीवुड फिल्म तालाश से एक सुंदर हिंदी गीत है। यह गीत राम संपथ द्वारा रचित है। राम संपथ ने इस गीत को गाया है। इसके गीत जावेद अख्तर द्वारा लिखे गए हैं।तलाश (Talaash )होना है क्या (Hona Hai Kya ) की लिरिक्स (Lyrics Of Hona Hai Kya )न मैं जानू



जिया लगे न (Jiya Lage Na )- तलाश

जिया लेज ना गीत तलाश: जिया लेज ना 2012 बॉलीवुड फिल्म तालाश से एक सुंदर हिंदी गीत है। यह गीत राम संपथ द्वारा रचित है। सोना महापात्रा और रविंद्र उपाध्याय ने इस गीत को गाया है। इसके गीत जावेद अख्तर द्वारा लिखे गए हैं।तलाश (Talaash )जिया लगे न (Jiya Lage Na ) की लिरिक्स (Lyrics Of Jiya Lage Na )मैं त



जी ले ज़रा (Jee Le Zara )- तलाश सांग

फिल्म तालाश से जी ली ज़ारा गीत राम संपथ द्वारा रचित एक दुखद गीत है। विशाल दादानी ने इसे उत्कृष्टता से गाया है और जावेद अख्तर ने अपने गीत लिखे हैं। इस गीत में अमीर खान और रानी मुखर्जी को दिखाया गया है।तलाश (Talaash )जी ले ज़रा (Jee Le Zara ) सांग की लिरिक्स (Lyrics Of Jee Le Zara )मैं हूँ गुमसुम त



तलाश (Talaash )

'तालाश - द उत्तर लिज़ इन' एक 2012 बॉलीवुड थ्रिलर फिल्म रीमा कागी द्वारा निर्देशित है। वह अपने दोस्त जोया अख्तर के साथ फिल्म के सह-लेखक भी हैं। राम संपथ ने फिल्म के संगीत की रचना की है। आमिर खान, रानी मुखर्जी और करीना कपूर की फिल्म तालाश मुख्य रूप से मुंबई, पांडिचेरी और लंदन में शूट की गई हैं।इस फिल्



दूसरो की तलाश में

जब भी भटकता हूँ किसी की तलाश मेंथक कर पहुच जाता हूँ तुम्हारे पास मेंतुम भी भटकती हो किसी की तलाश मेंठहर जाती हो आकर के मेरे पास मेंहर दिन भटकते रहे चाहे इस दुनियाँ मेंमिलते रहे आपस में दूसरो की तलाश में ||



अपनों की तलाश Update Your Browser | Facebook

अस्सलामु अलैकुम / नमस्ते हमने अभी एक पेज बनाया है। जिसका नाम है अपनों की तलाश आइस पेज का मकसद है। उन बच्चों को उनके घर तक पहुचाना जो कही भटक जाते है खो जाते है गुम हो जाते है। में चाहता हु हम सब भी एक कोशिश करें। में इसी लिए पेज बनाया हु हु। जो भी मित्र उसमे जुड़ना चाहते है। वो सब आये ख़ुशी होगी।





1
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x