त्यौहार

खुशहाली के लिए रंग का महत्व जानिए

जीवन में खुशहाली और तरक्की के लिए हमें रंगो के महत्व को जरूर जानना चाहिए. दोस्तों रंग का महत्व हमारे जीवन में बहुत मायने रखता है। होली के त्योहार पर पूरा देश इन रंगो में रँग जाता है। होली का त्योहार नजदीक आ रहा है। दोस्तों क्या आपने कभी सोचा है कि रंग का मह



साजन बेस परदेश

साजन बेस परदेश सूनी - सूनी लगे नाचे गायें घर चौबारे नगरी नगरी द्वारे द्वारे जहर लागे हंसी ठिठोली सून सून लागे होली !चारो और रंग बरसे है मेरा सूखा मन तरसे है खाली अबीर गुलाल झोली सूनी सूनी लागे होली | आँखे सबकी ,खुशियां वांचे पीली पीली सरसो नाचे रंगीले परिधान में टोली सूनी सूनी लागे होली | होड़ म



मकर संक्रान्ति :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*भारतीय मनीषियों ने मानवमात्र के जीवन में उमंग , उल्लास एवं उत्साह का अनवरत संचार बनाये रखने के लिए समय समय पर पर्वों एवं त्यौहारों का सृजन किया है | विभिन्न त्यौहारों के मध्य "मकर संक्रान्ति" के साथ मानव मात्र की अनुभूतियां गहराई से जुड़ी हैं | "मकर संक्रान्ति" सम्पूर्ण सृष्टि में जीवन का संचार करन



"ज़िंदगी का सबक सिखाता " - दिसम्बर और जनवरी का महीना

एक और साल अपने नियत अवधि को समाप्त कर जाने को है और एक नया साल दस्तक दे रहा है। बस, एक रात और कैलेंडर पर तारीखे बदल जायेगी। दिसम्बर और जनवरी महीने की कुछ अलग ही खासियत होती है। कहने को तो ये भी दो महीने ही तो है पर साल के सारे महीनो को बंधे रखते है। दोस



हमारे त्यौहार और हमारी मानसिकता

रहम करे अपनी प्रकृति और अपने बच्चो पर , आप से बिनम्र निवेदन है ना मनाया ऐसी दिवाली गैस चैंबर बन चुकी दिल्ली को क्या कोई सरकार ,कानून या धर्म बताएगा कि " हमे पटाखे जलने चाहिए या नहीं?" क्या हमारी बुद्धि और विवेक बिलकुल मर चुकी है ? क्या हममे सोचने- समझने की शक्ति ही नहीं बची जो हम सम



मुस्लिमों ने निकाला ‘तिरंगा ताजिया’, PAK को दिया मुंहतोड़ जवाब, भारत माता की जय के लगे नारे

राजधानी पटना सहित पूरे बिहार में हर्षोल्लास के साथ मोहर्रम मनाया जा रहा है। लोग एक से एक तजिया के साथ जुलूस निकाल रहे हैं। इधर GAYA जिले में तिरंगा ताजिया बनाया गया है जो सबके आकर्षण का केंद्र बना हुआ है । इसे आस-पास के सभी इलाकों में खूब सराहा गया। ताजिया बनाने वाले युवक



हरतालिका व्रत – तीज का महत्व

तीज का त्यौहार हिन्दुओ का एक पवित्र त्यौहार व पर्व है, इसको हरतालिका व्रत, तीजा या तीजा के नाम से भी जाना जाता हैं|तीज फेस्टिवल के व्रत को भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया को हस्त नक्षत्र के दिन मनाया जाता है| इस दिन स्त्रियाँ (कुवारी और सौभाग्यवती) भगवन गौरी-शंकर जी की पूजा करती हैं| हरितालिका त



कन्हैया के जन्मदिन पर हम विराजे है काशी के गोकुल धाम

https://akankshasrivastava33273411.wordpress.com/ नंद के घर आनंद भयो जय कन्हैयालाल की.... छैल छबीला,नटखट,माखनचोर, लड्डू गोपाल,गोविंदा,जितने भी नाम लिए जाए सब कम है। इनकी पहचान भले अलग अलग नामो से जरूर की जाए मगर अपने मोहने रूप श्याम सलौने सबको मंत्र मुग्ध कर लेते ह



रक्षाबंधन, 26-8-18राखी का त्यौहार प्रिय, प्रिय बहना का स्नेह।

रक्षाबंधन, 26-8-18 भाई-बहन के पवित्ररिश्ते को अपने आँचल में छूपाये हुए इस महान पर्व रक्षाबंधन के अनुपम अवसर पर आपसभी को दिल से बधाई व मंगलमयी शुभकामना,ॐ जय माँ शारदा.....!“चतुष्पदी” राखी का त्यौहारप्रिय, प्रिय बहना का स्नेह। पकड़ कलाई वीर की, बाँध रही शुभ नेह। थाली कंकू से भरी, सूत्र रंग आशीष- रक्षा



'अब तुम्‍हारे हवाले मटन साथ‍ियो'...देखें बकरीद पर शेयर हो रहे MEME

देशभर में बकरीद का जश्‍न मनाया जा रहा है. सोशल मीडिया पर भी लोग बकरीद और ईद-उल-अजहा से जुड़े बधाई संदेश शेयर कर रहे हैं. वहीं कई लोग कुबार्नी को लेकर फनी मीम भी शेयर कर रहे हैं.इन मीम में बकरों से जुड़े ज्‍यादातर फोटोज शेयर हो रहे हैं.



बकरीद को लेकर मोदी सरकार ने किया यह बड़ा फैसला,जिससे मुस्लिम हुए नाराज

इस्लाम धर्म में ईद सबसे बड़ा और पवित्र त्यौहार माना जाता है. इस त्यौहार को ईद-उल-फितर और ईद-उल-जुहा भी कहा जाता है. ईद के एक महीना पहले मुस्लिम लोग रोज़े रखते हैं.इस साल यानी 2018 में बकरीद 22 अगस्त को मनाई जा



बकरीद को लेकर योगी सरकार ने लिया बड़ा फैसला विपक्ष हैरान !!!

भारत के सबसे लोकप्रिय नेता और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ हमेशा कड़े फैसले लेने के लिए जाने जाते हैं, इसी बीच मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों को कानून व्यवस्था के संबंध में सतर्क रहने का निर्देश दिया है, क्योंकि बकरीद के एन मौके पर उत्तर प्रदेश में कोई अप्रिय घटना ना हो जाए,



राखी विशेष : इस दिन मनाया जाएगा रक्षाबंधन का त्‍योहार, जानिए शुभ मुहूर्त का समय

भाई-बहन के पवित्र रिश्ते का त्योहार रक्षाबंधन इस साल 26 अगस्त को मनाया जाना वाला है. श्रावण मास की पूर्णिमा को मनाया जाने वाला यह त्योहार हर भाई-बहन के लिए बेहद खास होता है. इस दिन बहन अपने छोटे और बड़े भाई की कलाई पर रक्षा सूत्र यानि की राखी बांधकर अपनी सुरक्षा का वचन मा



होली की कथा

हमारी पौराणिक कथाऐं कहती हैं होली की कथा निष्ठुर ,एक थे भक्त प्रह्लाद पिता जिनका हिरण्यकशिपु असुर। थी उनकी बुआ होलिका थी ममतामयी माता कयाधु ,दैत्य कुल में जन्मे चिरंजीवी प्रह्लाद साधु। ईश्वर भक्ति से हो जाय विचलित प्रह्लाद पिता ने किये नाना प्रकार के उपाय, हो जाय ज



बसंत पंचमी के शुभ अवसर पर

नमस्कार दोस्तों, !! बधाई हो !!बसंत पंचमी आई है ! आसमान में पतंगे छाई हैं !! मुबारक हो सब को यह त्यौहार ! मिले सभी को खुशियों का हार !! !! धन्यवाद !!



क्यों न दिवाली कुछ ऐसे मनायें

क्यों न दिवाली कुछ ऐसे मनायें दिवाली यानी रोशनी, मिठाईयाँ, खरीददारी , खुशियाँ और वो सबकुछ जो एक बच्चे से लेकर बड़ों तक के चेहरे पर मुस्कान लेकर आती है। प्यार और त्याग की मिट्टी से गूंथे अपने अपने घरौंदों को सजाना भाँति भाँति के पकवान बनाना नए कपड़े और पटाखों की खरीददारी



करवा चौथ

कार्तिक-कृष्णपक्ष चौथ का चाँद देखती हैं सुहागिनें आटा छलनी से.... उर्ध्व-क्षैतिज तारों के जाल से दिखता चाँद सुनाता है दो दिलों का अंतर्नाद। सुख-सौभाग्य की इच्छा का संकल्प होता नहीं जिसका विकल्प एक ही अक्स समाया रहता आँख से ह्रदय तक जीवनसाथी को समर्पित निर्जला व्रत चंद्रोदय तक। छलनी से छनकर आती



त्यौहार है रंगों का

आओ बैर मिटाये ... थोडा गुलाल लगाये ! में रंग दू तुझे लाल तू रंग दे मुझे गुलाल लाल पीला हरा गुलाबी जो चाहो ... बस प्यार से लगाये ! आओ बैर मिटायेअपनो को भिगाये ! नाचे ढोल बजाये बस खुशियां लुटाये ! ! जयति' रंग दो गुलाल गले मिलो लाओ बहार !!! त्यौहार है रंगों का द



आया राखी का त्यौहार - Aaya Rakhi ka Tyohaar - Rakshabandhan ke Tyohaar ko Samarpit Kavita | UV Associates

रक्षाबंधन के त्यौहार को समर्पित कविता ~ रंग बिरंग नग-मनके जड़ी,राखियां सजी छोटी-बड़ी,समेटे धागे में स्नेह अपार,आया राखी का त्यौहार ।।रक्षाबंधन की रौनक त्यौहार के कुछ दिन पहले ही से छाने लगती है. मेरी टेबल पर, राखियों का छोटा सा ढेर लगा है. सारे भाइयों के लिए उनकी पसंद के हिसाब से राखियां ले आई..



ना बुरा कोई है हर 'सदी' के लिए - Poem on Holi, Tyohar, Family, Friends in Hindi.

होली आयी इस बार कुछ खास दिया मिलन का अनूठा 'अहसास' झिझकते थे जिन्हें गले लगाने में दिखे उनके वही कोमल 'जज्बात' वो हमसे जाने कब से रूठे बैठे थे अकड़ में हम भी तनकर 'ऐंठे' थे गुजरे कैसे 'बिखरे' वो पल न पूछो डाली से टूटे पत्ते हों, अहसास वैसे थे बढ़ने लगी हद से जब उलझनें नीर भरकर आँखें लगी तड़पने छोड़ कर



आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x