उपचार



बांझपन कौन सी विटामिन की कमी से होता है? जाने !

हम जानते हैं आजकल की जीवनशैली और खान-पान ने इनफर्टिलिटी की समस्या को और बढ़ा दिया है, जिसके कारण कई दंपत्ति संतान के सुख से वंचित रह जाते हैं। हालांकि जो महिलाएं माँ नहीं बन पाती हैं, उनके लिए आईवीएफ उपचार एक कारगर तकनीक साबित तो होती है लेकिन इसमें सफलता पाने के लिए भ



फिस्सर के लक्षण, कारण, निदान और इलाज

फिशर गुदा के अस्तर में एक छोटा सा कट या फाड़ है। मल त्याग के दौरान और बाद में फिशर से गंभीर दर्द और रक्तस्राव हो सकता है। कभी-कभी फिशर इतना गहरा होता है कि यह मांसपेशियों के नीचे के टिश्यू को उजागर करता है। एनालफिशर आमतौर पर गंभीर स्थिति नहीं होती है। यह किसी भी उम्र के लोगों को प्रभावित कर सकता है



आईयूआई उपचार क्या है और किन परिस्थितयों में इसका उपयोग किया जाता है !

इंट्रायूटेरिन इनसेमिनेशन को आर्टिफ़िशियल इन्सेमिनेशन भी कहते हैं। आईयूआई उपचार सस्ते उपचारों में से एक है। इंट्रायूटेरिन इनसेमिनेशन एक आर्टिफिशियल रिप्रोडक्टिव ट्रीटमेंट है, जिसमें ओव्यूलेशन के दौरान शुक्राणुओं को एक महिला के गर्भाशय या



टेस्ट ट्यूब बेबी और नॉर्मल शिशु में क्या फ़र्क है ?

बच्चे न होना (बांझपन) एक ऐसी समस्या है जो एक महिला को मानसिक रूप से परेशान कर देती है। बच्चे की चाहत और असफलताओं के दौर से गुज़रने पर एक महिला अंदर से कमजोर हो जाती है। ऐसे में निसंतान दंपत्ति के लिए ज़िंदगी में आशा की किरण है आईवीएफ तकनीक, जिसका आविष्कार लगभग चालीस वर



तनाव के लक्षण व् कारण

आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में तनाव एक आम समस्या बन चुका है। हर किसी के मन में कई तरह के विचार और चिंताएं चलती रहती हैं। कुछ चिंताएं ऐसी भी होती हैं जो हर किसी के साथ बांटी भी नहीं जा सकती हैं। ये चिंताएं परिवार को लेकर, आर्थिक तंगी को लेकर, स्वास्थ्य को लेकर या आपसी संब



आईवीएफ क्या है?

IVF की प्रक्रिया आईवीएफ प्रकिया में इन-विट्रो-फर्टिलाइज़ेशन, गर्भधारण की एक आर्टिफिशयल सहायक प्रजनन प्रक्रिया के नाम से जानी जाती है। आईवीएफ उपचार एक प्रकार की फर्टिलिटी प्रकिया है।जिन महिला,पुरूषों के जोडों को प्राकृतिक रूप से गर्भधारण करने में समस्या होती है,वो आईवीएफअर्थात् टेस्ट ट्यूब बेबी की



आईयूआई उपचार की जरूरत किन परिस्थितियों में पड़ती है?

आईयूआई, गर्भधारण के लिए की जाने वाली एक प्रक्रिया है जिसमें एक पतली और फ़्लेक्सिबल कैथेटर ट्यूब की मदद से स्पर्म को गर्भाशय के अंदर फर्टिलाइज़ेशन के लिए डाला जाता है। इसमें एक से दो मिनट का समय लगता है।वैसे मेल आईयूआई उपचार के लिए आईयूआई उपचार किया जाता है। मगर पुरुष बा



भारत में आईयूआई की लागत

विदेशों की तुलना में भारत में आईयूआई की लागत काफी कम है। भारत में एक चक्र के लिए iui लागत की शुरुआत अनुमानित रूप से करीब 3000 रुपये से होती है। आईयूआई उपचार के एक चक्र का ख़र्च 5000 से 10000 रूपए तक होता है जिसमें आईयूआई प्रक्रिया से पहले होने वाले अल्ट्रासाउंड, दवाईयाँ, इंजेक्शन आदि भी शामिल हैं। ले



थायराइड की समस्या के लिए अचूक आयुर्वेदिक उपाय

यदि परिवार में किसी को थायराइड की समस्या है तो दुसरो को होने की भी संभावना होती है। यह समस्या पुरुषों की अपेक्षा महिलाओं में ज्यादा देखने को मिलती है तथा इसकी वजह से अन्य समस्याएं होने का भी ख़तरा रहता है।



बिना दवा खाए आयुर्वेदिक उपायों से कम करें कोलेस्ट्रोल

आपने अनिल कपूर की फिल्म बधाई हो बधाई देखी है? इसमें अनिल कपूर का मोटापा इतना होता है कि दर्शकों की हंसी निकल जाती है। फिल्म में उनके दोस्त कहते रहते हैं कोलेस्ट्रोल कम कर लो लेकिन वे सुनते नहीं लेकिन जब प्यार होता है तो सबकुछ अपने आप ही कम हो जाता है। ये तो है जोक्स अ



जानलेवा है दिमागी बुखार ? जानिए इसके लक्षण और बचाव

बिहार के मुजफ्फरपुर में सैकडो़ं मौत हो गई और लोग प्रशासन को दोष दे रहे हैं लेकिन इस बात को नहीं समझ रहे कि ये चमकी बुखार हो किस वजह से रहा है. दूसरों को दोष देने से अच्छा है कि इसका उपचार बेहतर तरीके से कैसे हो इस बारे में सोचा जाए. चमकी एक तरह का दिमागी बुखार होता है



हड्डियों में दर्द- कारण, लक्षण, उपचार

हड्डियों में दर्द- कारण, लक्षण, उपचार हड्डियों में दर्द क्यों होता है नए जामने में लोगो को अपने लाइफस्टाइल और खानपान की वजह से बहुत सारी परेशानियों का सामना करना पड़ता है. लोगों को छोटी उम्र में ही कई बीमारियों का शिकार होना पड़ रहा हैं जैसे कि जोड़ों में दर्



अल्जाइमर- तथ्य, चरण, लक्षण, उपचार

अल्जाइमर एक प्रकार का पागलपन है जो स्मृति, सोच और व्यवहार के साथ समस्याओं का कारण बनता है। लक्षण आमतौर पर धीरे-धीरे विकसित होते हैं और समय के साथ खराब हो जाते हैं, दैनिक कार्यों में हस्तक्षेप करने के लिए पर्याप्त गंभीर हो जाते हैं। अल्जाइमर- तथ्य, चरण, लक्षण



मुंह के कैंसर के शुरुआती लक्षण, कारण और उपचार

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार दुनियाभर में हर साल करीब 70 लाख लोग तंबाकू और दूसके धूम्रपान उत्पादों से कैंसर ग्रसित हो जाते हैं. इस बीमारी का आखिरी परिणाम मौत होता है, ये जानते हुए भी लोग इसका सेवन करते हैं जो बहुत दुर्भाग्य की बात होती है. हर साल भारत में मुंह के कैंसर से हजारों जान जाती हैं और फ



बलगम वाली खांसी के कारण और देसी उपचार

बदलते मौसम की वजह से कई बार लोगों को खांसी का सामना करना पड़ता है लेकिन ये खांसी अलग-अलग तरीके की होती है. जिसमें सूखी खांसी और बलगम वाली खांसी शामिल होती है. सूखी खांसी में गले में दर्द होता है तो वहीं कफ यानी बलगम वाली खांसी से सांस लेने में परेशानी होने लगती है. ऐसे में लोग कफ सीरफ लेते हैं या फि



आलू के छिलकों को कूड़े में फेंकने की न करें भूल

आलू एक ऐसी सब्जी है, जो हर घर की किचन में आसानी से मिल जाती है। कभी परांठे बनाने से लेकर चिप्स, फ्रेंच फ्राइस, सब्जी व अन्य कई तरह के पकवान इसकी मदद से बनाए जाते हैं। आलू का सेवन तो आप कई रूपों में करते होंगे, लेकिन इसके छिलकों का आप क्या करते हैं? शायद कुछ भी नहीं, अमूमन घरों में इन छिलकों को बेकार



गर्मी में करें दही का सेवन, मिलेंगे यह जबरदस्त फायदे

जैसे ही मौसम बदलता है तो लोगों को अपनी डाइट पर भी ध्यान देना पड़ता है। कहा जाता है कि स्वस्थ रहने के लिए मौसमी फल व सब्जियों को आहार में शामिल करना चाहिए। लेकिन इसके अतिरिक्त भी कुछ चीजें सेहत के लिए लाभकारी होती हैं। चूंकि अब गर्मी का मौसम शुरू हो चुका है तो ऐसे में जरूरी है कि आपके आहार में शरीर को



कई समस्याओं को जड़ से खत्म करता है धनिया

धनिए का प्रयोग हर भारतीय रसोई में वर्षभर किया जाता है। कभी इसके पत्तों की मदद से भोजन का रंग-रूप निखारा जाता है तो कभी इसकी मदद से चटनी तैयार की जाती है। इस प्रकार कई रूपों में यह किचन में प्रयोग किया जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि यह महज स्वाद या भोजन को सुंदर बनाने के लिए ही नहीं है। इसके पौध



कई बीमारियों से राहत दिलाता है शहद

शहद एक ऐसी चीज है, जिसका प्रयोग किचन से लेकर काॅस्मेटिक्स तक किया जाता है। कुछ लोग तो सुबह की शुरूआत ही नींबू व शहद के पानी से करते हैं। वहीं स्किन को बेहतर बनाने के लिए भी शहद का प्रयोग किया जाता है। शहद के गुणों के बारे में जितना भी कहा जाए, कम ही है। यह एक प्राकृतिक और सेहत के लिए लाभकारी स्वीटनर



कमर दर्द को छूमंतर करते हैं यह तरीके

आज के समय में देर तक एक ही पोजिशन में बैठना या गलत तरीके से बैठना-सोना, खानपान पर सही तरह से ध्यान न देने, बढ़ता मोटापा और गलत फुटवियर के चयन के कारण अक्सर लोगों को कमरदर्द की शिकायत शुरू हो जाती है। आलम यह है कि आज सिर्फ वृद्ध व्यक्ति ही नहीं, बल्कि युवा व्यक्ति भी इस परेशानी से जूझते नजर आ रहे हैं।



आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x