क्यों बेअसर हो जाते है मोटिवेशनल विचार कुछ वक्त बाद ?

<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedC



हिंदी भाषा का दबदबा कहां तक?

क्या हिंदी भाषा वैश्विक भाषा है या ये केवल भारत तक ही सिमित है?



गिद्ध

गिद्ध ये नाम सुनते ही वह पक्षी स्मरण होआता है,जो मृत प्राणियों को अपना आहारबनाता है।पर अब सुना है कि गिद्धों की संख्या कम हो गई है या यूं कहें कि आदमी मेंगिद्ध की प्रवृति ने जन्म ले लिया है,जो जिंदाइंसानों को भी अपना शिकार बना लेती है।शायद यही कारण है कि गिद्ध अब नहीं



थोड़ा नए ख़याल



जीवन के अध्याय पढ़कर देखें अच्छा लगेगा

जीवन के अध्याय जिन्दगी में हर पल एक नई चुनौतियों को लेकर आता हैं,जो असमान संघर्षो से भरा होता हैं.इस पल को सामने पाकर कोई सोचने लगता हैं कि शायद मेरे जीवन में नया चमत्कार होने वाला हैं.अर्थात् सभी के मन में चमत्कार की आशा पैदा होने लगती हैं.चुनौतियां जो इंसानी जीवन क



बल बुद्धि निधान राम को समर्पित वीर हनुमान

बल बुद्धि निधान राम को समर्पित वीर हनुमान ( साहित्यक लेख ) डॉ शोभा भारद्वाज अनेक बाधाओं को पार कर श्री हनुमान लंकापहुंचे लेकिन नगर में प्रवेश कैसे करें ?वह एक ऊँचे घने वृक्ष की छाया में घुटनोंके बल बैठे थे उन्होंने हाथ जोड़ कर कहा मेरा श्री राम में अटूट विश्वास है वहीमुझे मार्ग दिखलायेंगे |साम



मैं का भाव

अपनापन, भाईचारा'मैं' के भाव ने सब को माराइस में अपनेपन की छाँव नहीं'मैं' हूँ, 'हम' का भाव नहीं 'मैं' में स्वार्थ हरा-भरा लालच में लिपटा, अपने निमित्त 'मैं' से आपस का भाईचारा मराऊपर उठने की मनसा'हम' का मनोभाव नहीं 'मैं' के उद्धार करण मेंऔरों की बड़ती से मन झुलसा



22 मार्च 2019

थकावट, अकेलापन और तनाव से निपटने के लिए एक सरल विधि।

“मुझे पता चला कि जब मैंने अपने विचारों पर विश्वास किया था, तो मुझे पीड़ा हुई, लेकिन जब मैंने उन पर विश्वास नहीं किया, तो मुझे पीड़ा नहीं हुई, और यह कि यह हर इंसान के लिए सच है। स्वतंत्रता उतनी ही सरल है। मुझे अपने भीतर एक खुशी मिली जो कभी गायब नहीं हुई, एक पल के लिए भी नहीं। वह आनंद सभी में है, हमेश



आशा और सफलता

जीवन में सफलता प्राप्त करनी है तो सोच सकारात्मक बनाए रखने के साथ ही मन मेंआशा को जगाए रखना आवश्यक है | सकारात्मक सोच और आशावान व्यक्ति से किसी भी प्रकारकी निराशा और चिन्ता कोसों दूर भागते हैं जिसके कारण उसका मन और शरीर दोनों स्वस्थबने रहते हैं और वह अपनी सफलता के लिए उचित दिशा में प्रयास कर पाता है…



11 जनवरी 2019

खुशी के तीन राज़।

हम सभी जानते हैं कि पैसा खुशी नहीं खरीद सकता है ... लेकिन कई बार हम ऐसा कार्य करते हैं जैसे कि हम थोड़े अधिक पैसे के साथ खुश हैं। हम अमीर बनने के लिए इच्छुक हैं (जब हम जानते हैं कि अमीर खुश नहीं हैं या तो); हमें उस नवीनतम गैजेट या शैली को प्राप्त करने के लिए प्रशिक्षित किया जाता है। हम अधिक पैसा कमा



संस्कारहीनता :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*पूर्वकाल में यदि मनुष्य सर्वश्रेष्ठ बना तो उसमें मनुष्य के संस्कारों की महत्वपूर्ण भूमिका थी | संस्कार ही मनुष्य को पूर्ण करते हुए पात्रता प्रदान करते हैं और संस्कृति समाज को पूर्ण करती है | संस्कारों से मनुष्य के आचरण कार्य करते हैं | किसी भी मनुष्य के चरित्र निर्माण में धर्म , संस्कार और संस्कृति



मिरर इमेज वर्ड्स

At Gandhi Polytechnic, Alumini Function Signing Autographs. Check the Speed -Mirror Writing in English Language - YouTube



भगवान शिव

महादेव को शब्दों में बांधना असंभव है फिर भी मैंने एक प्रयत्न किया है कि मैं जगत के स्वामी देवाधिदेव महादेव को अपनी कविता के माध्यम से आप सबके समझ उनके स्वरूप का वर्णन करने का प्रयत्न करूँ।हर हर महादेव



नक्षत्र - एक विश्लेषण

शतभिषजज्योतिष मेंमुहूर्त गणना, प्रश्न तथा अन्य भी आवश्यक ज्योतिषीय गणनाओं के लिए प्रयुक्त किये जानेवाले पञ्चांग के आवश्यक अंग नक्षत्रों के नामों की व्युत्पत्ति और उनके अर्थ तथापर्यायवाची शब्दों के विषय में हम बात कर रहे हैं | इस क्रम में अब तक अश्विनी, भरणी, कृत्तिका, रोहिणी, मृगशिर, आर्द्रा, पुनर्व



साथी...

“हमेशा मेरी ख़ुशी में ही साथ रहते हो दुख में क्यों नहीं?" "दुख में भी साथ रहता हूँ ना, तुम्हारे दुखों को खुशियों में बदल देता हूँ…तो तुम्हे पता नहीं चलता।”#ज़हन



आज का ज्ञान

जरा रूप को, आशा धैर्य को, मृत्यु प्राण को, क्रोध श्री को, काम लज्जा को हरता है पर अभिमान सब को हरता है - विदुर नीति अभिमान नरक कामूल है - महाभारत कोयल दिव्याआमरस पीकर भी अभिमान नहीं करती, लेकिन मेढक कीचर का पानी पीकर भी टर्राने लगताहै - प्रसंग रत्नावली कबीरा जरब नकीजिये कबुहूँ न हासिये कोए अबहूँ नाव



आज का ज्ञान

जैसा देश तैसाभेष - कहावत माता, पिता, गुरु, स्वामी, भ्राता, पुत्र और मित्र का कभी क्षण भर के लिए विरोध या अपकार नहीं करना चाहिए -शुक्रनीति मनुष्य जिससमय पशु तुल्य आचरण करता है, उस समय वह पशुओं से भी नीचे गिर जाता है -टैगोर शास्त्र पढ़करभी लोग मूर्ख होते हैं किन्तु जो उसके अनुसार आचरण करता है वोही वस्



नक्षत्र - एक विश्लेषण

धनिष्ठाज्योतिष में मुहूर्त गणना, प्रश्न तथाअन्य भी आवश्यक ज्योतिषीय गणनाओं के लिए प्रयुक्त किये जाने वाले पञ्चांग केआवश्यक अंग नक्षत्रों के नामों की व्युत्पत्ति और उनके अर्थ तथा पर्यायवाची शब्दोंके विषय में हम बात कर रहे हैं | इस क्रम में अब तक अश्विनी, भरणी, कृत्तिका, रोहिणी, मृगशिर, आर्द्रा, पुनर्



आज का सुविचार

आत्म विश्वास आत्मविश्वाससफलता का मुख्य रहष्य है - एमर्सन यहआत्मविश्वास रखो को तुम पृथ्वी के सबसे आवश्यक मनुष्य हो - गोर्की जिसमेआत्मविश्वास नहीं उसमे अन्य चीजों के प्रति विश्वास कैसे उत्पन्न हो सकता ही -विवेकानंद आत्मविश्वास, आत्मज्ञान और आत्मसंयम केवल यही तीन जीवन को परम शांति सम्पन्न बना देते हैं



आज का सुविचार

अज्ञान अज्ञान जैसाशत्रु दूसरा नहीं - चाणक्य अपने शत्रु सेप्रेम करो, जो तुम्हे सताए उसके लिए प्रार्थना करो - ईसा अज्ञानी होनामनुष्य का असाधारण अधिकार नहीं है बल्कि स्वयं को अज्ञानी जानना ही उसकाविशेषाधिकार है - राधाकृष्णन अशिक्षित रहनेसे पैदा ना होना अच्छा है क्योंकि अज्ञान ही सब विपत्ति का मूल है अज



आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x