1


किस ओर जा रहे हैं हम

सैफीना के बच्चे को जब मीडिया ने खाने-पीने से लेकर, उठने बैठने तक की बे-बुनियादी खबरों में बार-बार दिखाया तो ना जाने क्यों मुझे मरते बच्चों का चेहरा बार-बार याद आया। हां बच्चे ही तो थे, अपने थोड़ी थे, ना उस दोगली मीडिया के थे। ये बच्चे त



क्या कानून व्यवस्था ‘कांग्रेस’ व ‘भाजपा’ के लिये अलग-अलग है?

विगत दिवस मंदसौर में भाजपा नेता व प्रथम नागरिक नगर पालिका अध्यक्ष प्रहलाद बंधवार की सरे आम गोली मारकर हत्या कर दी गई। निश्चित रूप से यह एक बेहद दुखद घटना थी और पुलिस ने त्वरित कार्यवाही कर 24 घंटे के भीतर ही एक आरोपी को गिरफ्तार भी कर लिया। लेकिन मुख्यमंत्री कमलनाथ का उक्त घटना पर यह बयान कि यह भाजप



"छड़, व्यवस्था और छत"

"छड़, मकान और छत"ठिठुर रहा है देश, ठिठुर रहें हैं खेत, ठंड की चपेट में पशु-पंछी, नदी, तालाब और अब महासागर भी जमने लगे हैं अपने खारे पानी को उछालते हुए, लहरों को समेटते हुए। शायद यही कुदरत की शक्ति है जिसे इंसान मानता तो है पर गाँठता नहीं। आज वह बौना बना हुआ है और काँप रहा है अपनी अकड़ लिए पर झुकने को



2018 : भारत की ये 21 उब्लब्धियां जानकर होगा अपने भारतीय होने पर गर्व

साल 2018 अब चंद दिनों का मेहमान है लोग बेसब्री से 2019 का इंतज़ार कर रहे हैं। लेकिन 2018 में पीछे मुड़कर देखें तो भारत ने इस साल कई ऐसी उपलब्धियाँ हासिल की जिससे हर भारतीय का सर गर्व से ऊँचा हो गया। नोटबंदी और GST लागू होने के बावज़ूद भारत की इकॉनमी विश्व की सबसे तेज़ गति से बढ़ती इकॉनमी है। इसके साथ ही



बाल यौन शोषण: अपनों की दरिंदगी का शिकार होता बचपन - Child Abuse in Hindi

बाल यौन शोषण हमारे समाज की सबसे जटिल समस्याओं में से एक है।भारत में दिन पर दिन बाल यौन शोषण की समस्याएं तेज़ी से बढ़ती जा रहीं है। जिसके चलते न जाने कितने मासूम आज एक सुरक्षित समाज में साँस नहीं ले पा रहे।उनके मन में असुरक्षा का डर भर गया



शिक्षा के आँसू

अपनों से दो शब्द“जब अनैतिक शक्ति संस्था-प्रधान के सिंहासन में पदास्थापित हो जाती है तोव्यवस्थाएँ तो चरमराती ही हैं, नैतिक शक्ति को अवसर भी नहीं मिलता और इसकानंगा-नृत्य स



क्रिकेटर इमरान खान प्रधान मंत्री पद के करीब

क्रिकेटर इमरान खान प्रधान मंत्री के पद के करीब डॉ शोभा भारद्वाज 25 जुलाई के आम चुनावों की गहमागहमी रही मतदाताओं नें नेशनल असेम्बली एवं राज्य विधान सभाओं के लिए मतदान किया चुनाव नतीजे स्पष्ट करते हैं इमरान खान की पार्टी तह



नौकरी...

उन्होंने ताकीद की,बड़े गुस्से में कहा,देखो, इतना समझो,जो मुझे चाहिए,आदमी सौ टका हो,ठोका-बजाया हो,सिखाना न पड़े,आये और चल पड़े,काम बस काम करे...समय की न सोचे,घर को भूल आये,मल्टीटास्कर तो हो ही,ओवरवर्क को सलाम करे,प्रेशर हैंडल कर सके,पीपुल-फ्रेंडली तो हो ही,डेडलाईन की समझ



सामाजिक व्यवस्था बनाना ही सबसे बड़ी पूजा है - मलखानसिंह

वेद पुरानो के अध्यन से सिर्फ एक बात निकलकर आती है की जितने भी इस प्रथ्वी पर देव,महापुरुष अवतरित हुए उन सभी का उद्देश्य सामाजिक व्यवस्था बनाना था ! भगवान श्रीराम जी ने एक राजा के होने के बाबजूध पिता के वचन की खातिर राजमहल का त्याग कर वनवासी हो गए क्योकि कुल का यह स



बिहार के टॉपर

बिहार की बोर्ड की परीक्षा के टौपरोंपर मुझे कतई क्रोध नहीं आता । मुझे उनपर तरस आता है और उनसे सुहानुभूति महसूस होतीहै । उन्हें एक ऐसी गलती के लिए जेल तक जाना पड़ा जो लाखों नहीं तो हजारों छात्र पुलिस ,मीडिया प्रशासन की आंखोके सामने करते पाये गये थे ,परीक्षा में नकल और सारे देश ने उसेटी वी पर देखा था



व्यवस्था बदलों और देश बचाओ...

कुछ बदलाव की है जरूरत सम्पूर्ण व्यवस्था के लिए कार्यरत संगठन भारत स्वाभिमान दल द्वारा पाँच सूत्री माँगों को लेकर 11 जून 2017 को दिल्ली के जंतर मंतर से जन आंदोलन की शुरुआतसम्पूर्ण व्यवस्था परिवर्तन व राष्ट्रीय एकता के लिए आवश्यक है कि भारत स्वाभिमान दल की पाँच सूत्री



निजी नलकूप कनेक्शन में उपभोक्ता को एक बार में सारा सामान क्यों नहीं दिया जाता

ग्रामीण क्षेत्र से किसान ट्रांसफार्मर,पोल,तार,क्लैम्प आदि इस्टीमेट के अनुसार सामान लेने के लिए पूरे दिन बिजली विभाग के स्टोर पर लाइन लगाये खड़ा रहता है।फिर कभी पोल तो कभी ट्रांसफार्मर नहीं कहकर टरका दिया जाता है।बेचारा किसान दर दर की ठोकरें खाने को मजबूर है।पैसा जमा किये चार माह बीत गये,कनेक्शन चालू





1
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x