ज़िन्दगी



आ गयी है ज़िंदगी

आ गयी है ज़िंदगीआ गयी है ज़िंदगी ऐसे पड़ाव पर कहना है अलविदा अपने आप से रिश्तों के तानेबानेलगने लगे हैं बेज़ार से मिलना है जिनसे आख़िरी बार हैं कुछ पास तो कुछ हैं, दूर होगी उनसे बातया मुलाक़ात मालूम नहीं थमने को हैं साँसेबस इंतेज़ार में आ गयी है ज़िंदगी ऐसे पड़ाव पर २८ नवंबर २०२०दिल्ली



चक्रव्यूह

सवालों और जवाबों के चक्रव्यूह में फँस गयी है ज़िंदगी कल क्या हुआ कल क्या होगा यह मेरा है, वो तेरा इन्ही, सवालों और जवाबों के चक्रव्यूह में फँस गयी है ज़िंदगी दुनिया क्या कहेगी यह सही वो ग़लत यह अच्छा वो बुरा इन्ही, सवालों और जवाबों के चक्रव्यूह में फँस गयी है ज़िंदगी २३ जनवरी २०२१जिनेवा



जज़्बात दिल के

"चलो हम भाग कर शादी कर लेते हैं , अगर मेरे पेरेंट्स को पता चला कि मैं तुमसे प्यार करती हू तो मेरे पेरेंट्स मेरी शादी कहीं और करा देंगे "रागनी सुमित को बोल रही थी ,सुमित और रागिनी दोनों कॉलेज फ्रेंड थे दोनों एक दूसरे से प्यार करते थे ,वैसे दोनों की कोई ज्यादा उम्र नहीं थी यही कोई 20 - 22 साल के थे वो



कुछ अनकही बातें

बड़ी उम्मेदे थी बड़े होने के। सोचा था ज़िन्दगी आसान हो जाएगी, चीज़ें समझ आने लगेंगी। पर क्या पता ये भी एक धोखा होगा। स्कूल ख़तम करके सब सही हो जाएगा। कॉलेज के तीन साल फिर तो और कुछ करना ही नहीं पड़ेगा। सब झूठ। फरेब हुआ है हमारे साथ। अब क्या करे। ये तो किसी ने बताया ही नहीं की ये सब तो बस तैयारी थी। असली ज



क़ुरबानी तो लगती है रोज़ अरमानो की,...

क़ुरबानी तो लगती है रोज़ अरमानो की,...क़ुरबानी तो लगती है रोज़ अरमानो की,सफ़र का क़ाफ़िला, कम या ज़्यादा,एहसासों का भी होता है बलिदान,सब काल्पनिक, रहती नहीं कोई मर्यादा,उसी दौर से, गुज़र रहें हैं सब हम,गुनाहों का कारवाँ, होता है मुकर्रम,रंग भी यहाँ, बेरंग भी यहाँ,चुनना है हमें, किसे भरें हम, कब और क



' लम्हा '

इतने लम्बे इंतजार के बाद पल भर के लिए खुशयां आई,पलक झपकते पल बीता और फिर किस्मत ने मेरी हंसी उडाई,किस्मत की बात करू तो किस्मत हँस पड़ती है ,हंसने की बात करू तो आखें छलक पड़ती है,बीतें लम्हों में जिंदगी बीतते है.कितनी पुरानी जिंदगी में हर पल नया पाते है,ख्यालो में जिंदगी को सिर्फ पाते है,इस तलाश में ना



Archana Ki Rachna: Preview " मैं बदनाम "

ऐसा क्या है जो तुम मुझसेकहने में डरते हो पर मेरे पीछे मेरी बातें करते हो मैं जो कह दूँ कुछ तुमसे तुम उसमें तीन से पांचगढ़ते होऔर उसे चटकारे ले करदूसरों से साँझा करते होमैं तो हूँ खुली किताबबेहद हिम्मती और बेबाक़रोज़ आईने में नज़रमिलाता हूँ अपने भीतर झाँक, फिरऐसा क्या है जो



नज़र कुछ कह ना सकी,...

नज़र कुछ कह ना सकी,...नज़र कुछ कह ना सकी, सितारों के बीच,चाँद जो अपने मुखड़े को, ली थी सींच,एक झलक, तो मिल ही गयी मुझे दूर,मानो जैसे, बन गयी, मेरे आँखों की नूर,कुछ गरम साँसे, छू कर निकल गयी पास,लगा ऐसे, तुम मेरी हो कितनी ख़ास,मूड के देखा, बैठी थी तुम, लिए आँखों में अंग्रा



Archana Ki Rachna: Preview "देखो फिर आई दीपावली"

देखो फिर आई दीपावली, देखो फिर आई दीपावलीअन्धकार पर प्रकाश पर्व की दीपावली नयी उमीदों नयी खुशियों की दीपावली हमारी संस्कृति और धरोहर की पहचान दीपावली जिसे बना दिया हमने "दिवाली"जो कभी थी दीपों की आवलीजब श्री राम पधारे अयोघ्या नगरीलंका पर विजय पाने के बादउनके मार्ग में अँ



कई किरदार, रोज़ हम जीते हैं

p.p1 {margin: 0.0px 0.0px 0.0px 0.0px; font: 21.0px 'Kohinoor Devanagari'; color: #454545}p.p2 {margin: 0.0px 0.0px 0.0px 0.0px; font: 21.0px '.SF UI Display'; color: #454545; min-height: 25.1px}p.p3 {margin: 0.0px 0.0px 0.0px 0.0px; font: 21.0px '.SF UI Display'; color:



ज़िंदगी ?

अगर जीवन बोझ लगने लगे तो क्या करना चाहिए ?



काश



कसौटी जिंदगी की में अनुराग-प्रेरणा का रिश्ता कोमोलिक के वित्तीय' पक्ष के कारण टूटेगा

कसौटी ज़िन्दगी की में हाई वोल्टेज ड्रामाअधिक जानकारी के लिए: https://hindi.iwmbuzz.com/television/spoiler/komolikas-financial-favour-to-break-anurag-prernas-relationship-in-kasautii-zindagii-kay/2019/02/19



ज़िंदगी न मिलेगी दोबारा - जावेद अख़्तर Poem in Hindi

ज़िंदगी न मिलेगी दोबारा - जावेद अख़्तर Poem in Hindi ज़िंदा हो तुम - जावेद अख़्तर दिलों में अपनी बेताबियाँ ले कर चल रहे हो तो ज़िंदा हो तुम नज़र में ख्वाबों की बिजलियाँ ले कर चल रहे हो तो ज़िंदा हो तुम हवा के झोंकों के जैसे आज़ाद रहना सीखो तुम एक दरिया के जैसे लहरों में बहना सीखो हर एक लम्हे से तुम मिलो खोल



मेरी ख़ुशी के लम्हे...

मेरी ख़ुशी के लम्हे इस कद्र छोटे हैं यारो;गुज़र जाते हैं मेरे मुस्कुराने से पहले ||READ MORE HERE!!!



सेनोरिटा (Senorita )- ज़िन्दगी न मिलेगी दोबारा

फिल्म जिंदगी ना मिलेगी डोबारा से सेनोरिता गीत फरहान अक्तर, ऋतिक रोशन, अभय देओल और मारिया डेल मार फर्नांडीज द्वारा गाया जाता है, इसका संगीत शंकर एहसान लॉय द्वारा रचित है और गीत जावेद अख्तर द्वारा लिखे गए हैं। शब्दनगरी पर हो रही चर्चाएं



दिल्ली दिल्ली (Delhi Delhi )- ज़िन्दगी ५०

दिल्ली दिल्ली गीत: यह रिया सेन, वीना मलिक, राजपाल यादव और राजन वर्मा अभिनीत जिंदगी 50-50 का उत्कृष्ट गीत है। दिल्ली दिल्ली देव नेगी द्वारा गाया जाता है।ज़िन्दगी ५०-५० (Zindagi 50-50 )दिल्ली दिल्ली (Delhi Delhi ) ज़िन्दगी ५०की लिरिक्स (Lyrics Of Delhi Delhi )दिल्ली दिल्लीदिल दे शेहर लगे साणु वि प्या



रब्बा (Rabba )- ज़िन्दगी ५०

फिल्म जिंदगी 50-50 - 2013 से रब्बा गीतों के साथ पढ़ें और गाएं जो रावत फतेह अली खान और रेखा भारद्वाज द्वारा गाया जाता है। आप जिंदगी 50-50 से अन्य गाने और गीत भी प्राप्त कर सकते हैं।ज़िन्दगी ५०-५० (Zindagi 50-50 )रब्बा (Rabba ) ज़िन्दगी ५०की लिरिक्स (Lyrics Of Rabba )सोचा न था मैंने कभीऐसा भी दिन आएग



तोह से नैना (Toh Se Naina )- ज़िन्दगी ५०

तोह से नैना गीत जिंदगी 50-50: तोह से नैना 2013 बॉलीवुड फिल्म जिंदगी 50-50 से एक सुंदर हिंदी गीत है। रेखा भारद्वाज ने इस गीत को गाया है।ज़िन्दगी ५०-५० (Zindagi 50-50 )तोह से नैना (Toh Se Naina ) ज़िन्दगी ५०की लिरिक्स (Lyrics Of Toh Se Naina )तोह से नैना लागे पियातोह से नैना लागे पियातोह से नैना लागे



ज़िन्दगी ५० ५० (Zindagi 50 50 )- ज़िन्दगी ५०

जिंदगी 50 50 जिंदगी 50-50 गीत: जिंदगी 50 50 2013 बॉलीवुड फिल्म जिंदगी 50-50 से एक सुंदर हिंदी गीत है। बप्पी लाहिरी, गुफी और अंतरा मित्र ने इस गीत को गाया है।ज़िन्दगी ५०-५० (Zindagi 50-50 )ज़िन्दगी ५० ५० (Zindagi 50 50 ) ज़िन्दगी ५०की लिरिक्स (Lyrics Of Zindagi 50 50 )एक छोड़ के दूजे को पकडेतीजा नाच न



आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x