प्रश्नों पर प्रतिक्रिया दीजिये

रिटायर हो जाने या अधिक अवस्था हो जाने पर व्यक्ति अकेला हो जाता है, विशेष कर तब जब उसका जीवनसाथी सदगति को प्राप्त हो चुका हो। क्या आप ऐसे वरिष्ठ जनों के चेहरे पर मुस्कान नहीं देखना चाहते? यदि हां तो क्या आप इनके पुनर्विवाह के पक्षधर है?

मान-सम्मान, ज्ञान , चाहत , पैसा, शारीरिक साथ, के अलावा मानव अपने जीवन काल मे अपने परिवार या साथियों को और क्या दे सकता है?

कोई भी पोस्ट लिखने के बाद "प्रकाशित कीजिये" पे क्लिक करने के बाद "कृपया लिंक चेक करें" का आप्शन आता है . पोस्ट प्रकाशित नहीं होता. कृपया विस्तार से बताएं कि मैं पोस्ट को प्रकाशित कैसे करूँ? ???

दु:खद और निन्दनीय है परायी रचना को अपनी बता कर प्रकाशित करना : प्रसिद्ध कवि सुनील जोगी की रचना को ( स्रोत http://www.anubhuti-hindi.org/hasya/sunil_jogi/pyaare.htm) अपनी रचना बता कर वर्तिकाजी ने 16 जनवरी 2016 को शब्दनगरी में दिया है. कैसे आपने बिना जांचे प्रकाशित किया, या आगे क्या करेंगे हटाने के लिए?

मेरी प्रकाशित लगभग सभी रचनायें आसु होती हैं, अतयेव पुनर्अवलोकन से संशोधन का विकल्प नहीं मिलता?

केदारनाथ यात्रा कब शुरू होती है

मुकेश कुमार
डब्फबवफ्वफ 
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x