अनुभव

भारत देश में क्यों अंग्रेजी बोलने वालो को पढ़ा लिखा समझने का ट्रेंड है?

मै अपना एक अनुभव बाटना चाहूंगी,एक लिखित परीक्षा में मैंने अच्छा स्थान प्राप्त किया लेकिन साक्षात्कार में सिर्फ इसलिए नहीं लिया गया क्योकि मेरी अंग्रेजी दुसरो से कम अच्छी थी मैंने सवाल किया कि हिंदी से क्या परेशानी हैं तो उत्तर ये मिला कि अंग्रेजी बोलने से एजुकेसन का



Sketches from Life: विपासना शिविर में दूसरा दिन

घंटी की आवाज़ से पता लगा की सुबह के चार बज गए हैं और अब उठ जाना ही ठीक है. अगर बिस्तर छोड़ कर लाइट नहीं जलाई तो दरवाज़े के बाहर घंटी बजाने वाला सेवादार घंटी बजाना बन्द नहीं करेगा. इसके बाद साढ़े चार बजे घंटी फिर बजेगी और कहेगी 'पधारो मैडिटेशन ह



‘प्रेम’ और उसका अनुभव

कबीरा मन निर्मलभया जैसे गंगा नीरपीछे-पीछे हरिफ़िरे कहत कबीर कबीर||यदि मनुष्य कामन निर्मल हो जता है तो उसमे पवित्र प्रेम उपजता है वो प्रेम जिसके वशीभूत होकर स्वयंईश्वर भी अपने प्रेमी के पीछे दौड़ने के लिए विवश हो जाते है| ये गोपियों कानिस्वार्थ, निर्मल प्रेम ही था जिनकी याद में बैठकर द्वारिकाधीश अपने म



मानवाधिकार अध्ययन की प्रमाणिकता

पिछले दिनों मानवाधिकार सम्बन्धी एक सेमिनार में हिस्सा लिया. कुछ अच्छे वक्तत्ता भी सुनने को मिले किन्तु कुछ शोध पत्रों में व्यवहारिकता की कमी लगी. उसी के बारे लिख रहा हूँ. मैंने कई लोगों को उन विचारकों के बारे में शोधपत्र पढ़ते देखा जिनका सीधा सम्बन्ध परम्परागत जीवन शैली से रहा है और मानवतावाद या मा





1
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x