|



मेहनत का ईनाम

" मेहनत इतनी ख़ामोशी से करो की सफलता शोर मचा दे | " ये लाइन उन पे बहुत सही लगती हैं जो मेहनत करना जानते है ना की उन पे जो मेहनत न करके v सिर्फ बातें बनाना जानते हैं | हमारे घर काकी आती थी खाना



दोस्त इतने जरुरी क्यों होते हैं |

इंसान इस दुनिया में ईश्वर का बनाया बहुत खूबसूरत तोहफा हैं जो की अपने माता पिता की बदौलत इस दुनिया में कदम रखता हैं | माता पिता अपनी ख़ुशियों को भूला कर अपनी औलाद को सब खुशियाँ प्रदान करता हैं | लेकिन इतना करने के बाद भी उस इंसान को कोई ऐसा चाहिये होता हैं इस से वह इंसान वो हर बात बता सके जो



संकळप

आज हम ऐसे समाज में रह रहे है , जहां हम ये नही कह सकते की ये काम मुझे से नहीं हो पायेगा | सिर्फ हम लोगो लोगों को एक संकल्प लेके चलना पङेगा की कुछ भी हो जाये हम रुकेंगे नहीं | कोई भी काम बिना संकळप के पूरा नही हो सकता चाहे काम



लाल गुलाब कब्र में सोई अनजान लड़की के नाम

लाल गुलाब कब्र में सोयी अनजान लड़की के नाम डॉ शोभा भारद्वाज “यह प्यार था या खुदगर्जी जिसमें माँ बाबा का प्यार गौण हो गया |हर वैलेंटाइ



पाकिस्तानी कलाकारों पर बैन भावनात्मक मुद्दा

पाकिस्तानी कलाकारों पर बैन भावनात्मक मुद्दा डॉ शोभा भारद्वाज आजकल पाकिस्तानी कलाकारों पर बैन का मुद्दा गरमाया हुआ है|अनेक पाकिस्तानी कलाकार भारत में आकर चैनलों (जिन



70वें स्वतन्त्रता दिवस की ‘नई सुबह’ लाल किले से पाकिस्तान के खिलाफ मोदी जी की हुंकार (बलूचिस्तान ) पार्ट 1

70वें स्वतन्त्रता दिवस की ‘नई सुबह’ लाल किले से पाकिस्तान के खिलाफ मोदी जी की हुंकार (बलूचिस्तान ) डॉ शोभा भारद्वाज 3 जून 1947 भारत के विभाजन प्लान के अनुसार हिंदुस्तान और पाकिस्तान दो राष्ट्रों का नि



हर चुनौती में एक बड़ा अवसर छिपा होता है

 बहुत पुरानी बात है की किसी राज्य में एक राजा हुआ करता था| राजा ने एक बार अपने राज्य के लोगों की परीक्षा लेनी चाही| एक दिन उसने क्या किया कि सुबह सुबह जाकर रास्ते में एक बड़ा सा पत्थर रखवा दिया| अब तो सड़क से जो कोई भी निकलता उसे बड़ी परेशानी हो रही थी लेकिन कोई भी पत्थर हटाने की कोशिश नहीं कर रहा थ



हर चुनौती में एक बड़ा अवसर छिपा होता है

 बहुत पुरानी बात है की किसी राज्य में एक राजा हुआ करता था| राजा ने एक बार अपने राज्य के लोगों की परीक्षा लेनी चाही| एक दिन उसने क्या किया कि सुबह सुबह जाकर रास्ते में एक बड़ा सा पत्थर रखवा दिया| अब तो सड़क से जो कोई भी निकलता उसे बड़ी परेशानी हो रही थी लेकिन कोई भी पत्थर हटाने की कोशिश नहीं कर रहा थ



हर चुनौती में एक बड़ा अवसर छिपा होता है .......

 बहुत पुरानी बात है की किसी राज्य में एक राजा हुआ करता था| राजा ने एक बार अपने राज्य के लोगों की परीक्षा लेनी चाही| एक दिन उसने क्या किया कि सुबह सुबह जाकर रास्ते में एक बड़ा सा पत्थर रखवा दिया| अब तो सड़क से जो कोई भी निकलता उसे बड़ी परेशानी हो रही थी लेकिन कोई भी पत्थर हटाने की कोशिश नहीं कर रहा थ



सब अपना अपना कहते हैं

सब अपना अपना कहते हैं ,कहते हैं गैरों में क्या रखा है|जब दिल से दिल मिलते नहीं,फिर पैरों में क्या रखा है||



आशादीप

दूर तक फैली हुई ,दुनिया को रौशन कर दिया ,ज़िन्दगी में ज़िन्दगी का,रंग फिर से भर दिया |थर-थराते थे जो बरसों से ,बहुत बेचैन थे ,प्यार ने आकर के उन अधरों,को चुम्मन कर दिया |फूल-कलियों और गलियों में नए एहसास हों,सोचकर हमने यही ,पतझड़ को सावन कर दिया |अब मनाओ शौक से ,हर रोज दीवाली यहाँ ,योग कर संसार के



आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x