काव्ज

1


धूप छाँव और प्रभु कृपा

■□■धूप छाँव और प्रभु कृपा■□■☆★☆★☆★☆★☆धूप का प्रचण्ड तापदेह जला भी सकती है।भादो मास में धूप दिख आह्लादित करती है।।छाया तले आ पथिक को शितलता मिलती है।छाया पड़ती दुख की तो ये आँखें झड़ती हैं।।प्रभूवर! कई भक्त तुम्हें पाने हेतु लालायित रहते हैं।जप-तप-कीर्तन और सारी रात जागरण करते हैं।।योगी बन 'विहंगमयोग'





1
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x