का



गुड्डन तुमसे ना हो पाएगा: अक्षत ने किया अंतरा को स्वीकार, क्या होगा गुड्डन का? | आई डब्लयू एम बज

ज़ी टीवी का लोकप्रिय शो गुड्डन तुमसे ना हो पायेगा (वेद राज की शून्य स्क्वायर) अपनी मनोरंजक कहानी के साथ दर्शकों का मनोरंजन करने में कोई कसर नहीं छोड़ रहा है। हाई वोल्टेज ड्रामा दर्शकों को चल रहे एपिसोड से रूबरू करा रहा है। प्लॉट के अनुसार, अंतरा (दलजीत कौर) ने अक्षत (निशा



ये रिश्ता क्या कहलाता है: कार्तिक के सामने नायरा और कायरव के सच का हुआ खुलासा | आई डब्लयू एम बज

स्टार प्लस का लोकप्रिय शो ये रिश्ता क्या कहलाता है निर्मित निर्देशक कुट अपने हालिया एपिसोड में ड्रामा और सस्पेंस का सही मिश्रण लेकर आ रहा है। कथानक के अनुसार, कार्तिक (मोहसिन खान) और वेदिका एग्जीबिशन में प्रवेश करते हैं। प्रदर्शनी के दौरान, एक आदमी एक बम लगाता है और सभी क



कसौटी ज़िन्दगी की: प्रेम और शक्ति के बीच चयन करेगी प्रेरणा | आई डब्लयू एम बज

बालाजी टेलीफिल्म्स द्वारा निर्मित लोकप्रिय स्टार प्लस शो कसौटी ज़िन्दगी की के अंत में शक्ति और प्रेम की लड़ाई दिखाई देगी। जी हां, मिस्टर बजाज (करण सिंह ग्रोवर) की एंट्री होने जा रही है। जैसा कि हम जानते हैं, प्रेरणा (एरिका फर्नांडीस) अनुराग के लिए अपने प्यार और बजाज के सा



हेज़ल कीच ने डिप्रेशन से लड़ने के बारे में एक शक्तिशाली संदेश साझा किया

2019, लेकिन मानसिक स्वास्थ्य (mental health) अभी भी भारत में एक संवेदनशील विषय है।हालाँकि, अभिनेत्री deepika padukone ने 2015 में अवसाद के साथ अपनी लड़ाई के बारे में बात करते हुए, कई मशहूर हस्तियोंने भारत



विशेषज्ञ की राय - इन 10 उपायों से करें बच्चों का वजन कम

विशेषज्ञ का



क्या आपके प्राइवेट पार्ट में भी है सूजन ? जानिए इसके 5 कारण

आजकल की बॉलीवुड फिल्मों में दर्शकों को हर तरह का खुलापन चाहिए लेकिन जब बात अपनी आती है तो लोग चुप्पी साध लेते हैं। फिर वो लड़के हों या लड़कियां कोई भी अपने बॉडी के किसी भी पार्ट्स की बात तो करता है लेकिन



गीतिका

मंच को प्रस्तुत गीतिका, मापनी- 2222 2222 2222, समान्त- अन, पदांत- में...... ॐ जय माँ शारदा!"गीतिका"बरसोगे घनश्याम कभी तुम मेरे वन मेंदिल दे बैठी श्याम सखा अब तेरे घन मेंबोले कोयल रोज तड़फती है क्यूँ राधाकह दो मेरे कान्ह जतन करते हो मन में।।उमड़ घुमड़ कर रोज बरसता है जब सावनमुरली की धुन चहक बजाते तुम मध



खाना खाने के बाद यह गलतियां पड़ जाती हैं सेहत पर भारी, ज़रूर पढ़ें

यह तो हम सभी जानते हैं कि स्वस्थ रहने के लिए हेल्दी फूड का सेवन करना बेहद जरूरी है। कई बार आपने फूड काॅम्बिनेशन के बारे में भी सुना होगा। अमूमन देखने में आता है कि लोग खाने में तो हेल्दी चीजों का तो सेवन करते हैं, लेकिन फिर भी उन्हें कई तरह की स्वास्थ्य समस्याएं होती हैं। इसके पीछे मुख्य कारण होता ह



जब आप थक गए हों, तब एक बढ़िया तरीका।

थकावट आपके जीवन में हर चीज को प्रभावित कर सकती है। मैं खुद को काम करने में कम सक्षम पाता हूं, जब मैं ईमेल और संदेशों से घिरा रहता हूं, तो स्वस्थ आदतों के साथ कम, जंक फूड खाने की अधिक संभावना और खराब मूड में होने से अभिभूत होता हूं।थके होने का हम पर इतना बड़ा प्रभाव हो सकता है। और बहुत से लोग बहुत लम



ग्राम देवता :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सृष्टि के प्रारम्भ में जब ईश्वर ने सृष्टि की रचना प्रारम्भ की तो अनेकों औषधियों , वनस्पतियों के साथ अनेकानेक जीव सृजित किये इन्हीं जीवों में मनुष्य भी था | देवता की कृपा से मनुष्य धरती पर आया | आदिकाल से ही देवता और मनुष्य का अटूट सम्बन्ध रहा है | पहले देवता ने मनुष्य की रचना की बाद में मनुष्य ने द



शंघाई सहयोग संगठन 2019

शंघाई सहयोग संगठन 2019 डॉ शोभा भारद्वाज श्री नरेंद्र मोदी दुबारा भारत के प्रधानमंत्री बनने के बाद शंघाई सहयोग संगठन की दो दिन चलने वाली समिट में हिस्सालेने के लिए किर्गिस्तान के बिश्केक गये यहाँ मोदी जी ने चीन के राष्ट्राध्यक्षजिनपिंग से द्विपक्षीय वार्ता कर उन्हें भारत दौरे के लिए आमंत



पर्यावरण अधिकारी

प्रकृति की, स्तब्धकारी ख़ामोशी की, गहन व्याख्या करते-करते, पुरखा-पुरखिन भी निढाल हो गये, सागर, नदियाँ, झरने, पर्वत-पहाड़, पोखर-ताल, जीवधारी, हरियाली, झाड़-झँखाड़,क्या मानव के मातहत निहाल हो गये?नहीं!... कदापि नहीं!!औद्योगिक क्राँति, पूँजी का ध्रुवीकरण, बेचारा सहमा सकुचाया मा



शिकायत

उनको शिकायत उनकी ख़ुशी में हम नाचते नहीं है, छीन खुशियां हमारी पूंछते है हम खुश क्यूँ नहीं है. पासबाँ को शिकायत ,बुलबुल नाचती नहीं है, कैद कर पिंजरे में पूछें तू खुश क्यूँ नहीं है. हाले मुल्क ये है कि जुबां को आज़ादी नहीं है, हाकिम



रूठ लो...

कुछ रास्तों की अपनी जुबां होती है,कोई मोड़ चीखता है,किसी कदम पर आह होती है…पूछे ज़माना कि इतने ज़माने क्या करते रहे?ज़हरीले कुओं को राख से भरते रहे,फर्ज़ी फकीरों के पैरों में पड़ते रहे,गुजारिशों का ब्याज जमा करते रहे,हारे वज़ीरों से लड़ते रहे…और …खुद की ईजाद बीमारियों में खुद ही मरते रहे!रास्तों से अब बैर ह



बुध का कर्क में गोचर

बुध का कर्क में गोचर कल यानी शुक्रवार, 21जून, आषाढ़ कृष्ण चतुर्थी को बव करण और वैधृति योग में 26:27(अर्द्धरात्र्योत्तर दो बजकर सत्ताईस मिनट) के लगभग बुध अपनी स्वयं की राशि मिथुनको छोड़कर चन्द्रमा की कर्क राशि में प्रस्थान कर जाएँगे | इस प्रस्थान के समय बुध पुनर्वसुनक्षत्र पर होगा तथा गुरु की दृष्टि भी



जब क्रिकेट से मिलने बाकी खेल आए…

एक दिन सब खेल क्रिकेट से मिलने आए,मानो जैसे दशकों का गुस्सा समेट कर लाए।क्रिकेट ने मुस्कुराकर सबको बिठाया,भूखे खेलों को पाँच सितारा खाना खिलाया।बड़ी दुविधा में खेल खुस-पुस कर बोले… हम अदनों से इतनी बड़ी हस्ती का मान कैसे डोले?आँखों की शिकायत मुँह से कैसे बोलें?कैसे डालें क्रिकेट पर इल्ज़ामों के घेरे?अप



मुक्त काव्य

"मुक्त काव्य"न बैठ के लिखा, न सोच के लिखातुझे देखा तो रहा न गया और खत लिखाजब लिखने लगा तो पढ़ना मुश्किल हो गयाअब पढ़ने लगा हूँ तो लिखना मुश्किल हैअजीब है री तू भी पलपल सरकती जिंदगीतुझे पाने के लिए अर्थहीन शब्दों में क्या क्या न लिखा।।कभी रार लिखा तो कभी प्यार लिख बैठाकभी मन ही मन में तेरा श्रृंगार लिख



गीतिका

प्रस्तुत गीतिका, मापनी-2212 122 2212 122, समांत- अना, स्वर, पदांत- कठिन लगा था..... ॐ जय माँ शारदा!"गीतिका"अंजान रास्तों पर चलना कठिन लगा थाथे सब नए मुसाफिर मिलना कठिन लगा थासबके निगाह में थी अपनों की सुध विचरतीघर से बिछड़ के जीवन कितना कठिन लगा था।।आसान कब था रहना परदेश का ठिकानारातें गुजारी गिन दि



International days की सीक्रेट जानकारी हिंदी में

ये जानकारी सभी को जाननी चाहिए दोस्तो क्या आपको मालूम है कि हर महीने International days पड़ते है। हमे जानकारी न होने के कारण हम इन important days को सेलिब्रेट नही कर पाते हैं। हमे तो इनके बारे में दूसरे दिन मालूम पड़ता है जब तक ये दिवस निकल चुके होते हैं। ये हमारे राष्



वो दिन और मन

वो दिन मन की उलझनों का दिन उमंगे जो सुप्त पड़ी थी मानो इसी की राह थी अब ना था बांध का रुकना असंभव -सा था सीमाओं का बंधना क्षण ही में टूटने का भय और कुछ पा जाने का लय मन को अनुनादित सा करता विचारो का जखीरा उठता उठता आंधी -सा हवा का झोका प



आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x