पर्



गुरु पर्व - गुरु पूर्णिमा

अज्ञान्तिमिरान्धस्य ज्ञानांजनशलाकयाचक्षुरुन्मीलितं येन तस्मै श्री गुरवे नमःआजगुरु पूर्णिमा का पावन पर्व है | कल प्रातः 11:35 के लगभग पूर्णिमा तिथि का आगमन हुआथा | जो आज सवा दस बजे तक रहेगी | उदया तिथि होने के कारण गुरु पूजा का पर्व आज हीमनाया जाएगा | पूर्णिमा काव्रत क



उत्तराखंड की 5 सबसे सुंदर हिल स्टेशन।

यूं तो भारत के देवभूमि कहे जाने वाले राज्य उत्तराखंड में घूमने के लिए बहुत सी सुंदर जगह है। लेकिन आज हम आपको था की 5 ऐसी खास और स्वर्ग जैसी सुंदर जगहों के बारे में बताएंगे जहां आकर आपको मानसिक सुकून का अनुभव होगा। दूर तक फैले नरम घास के मैदान, उनके चारो और फैली विशाल हिमालय की बर्फीली चोटिया और उनकी



वृक्षों का आध्यात्मिक एवं वैज्ञानिक महत्व

वृक्षों का आध्यात्मिकएवं वैज्ञानिक दोनों ही दृष्टि से विशेष महत्व है ये जहां विभिन्न त्योहारोंतिथियों पर पूजे जाते हैं वहीं विज्ञानइनके फल, फूल, मूल एवं छाल का प्रयोग कर नित नए अनुसंधान करनेमें लगा हुआ है जिनसे की अनेक जानलेवाबीमारियों से हमारी रक्षा हो सके।मानव शरीर में शायद हीऐसा कोई रोग हो जिसक



विश्व पर्यावरण दिवस

हरे भरे पेड़ों पर ही तो पंछी गाते गान सुरीला जी हाँ,मिल जुलकर यदि वृक्षारोपण करते रहे तो पर्यावरण प्रदूषण की समस्या कोई समस्या नहींरह जाएगी... आइये मिलकर संकल्प लें कि हर वर्ष कम से कम एक वृक्ष अवश्य आरोपितकरेंगे और अकारण ही वृक्षों की कटाई न स्वयं करेंगे न किसी को करने देंगे... पर्यावरणदिवस सभी को व



वटसावित्री (बरगदही अमावस) :- आचार्य अर्जुन तिवारी

*आदिकाल से लेकर आज तक संसार में सबके हित की बात सोचने एवं पुरुष समाज के लिए समय-समय पर अनेकों व्रत एवं उपवास करके नारियों ने पुरुष समाज का हित ही साधा है | हमारे देश में नारियों का दिव्य इतिहास रहा है | समय-समय पर कभी भाई के लिए , कभी पति के लिए तो कभी पुत्र के लिए नारियाँ कठिन उपवास रखकर के उनके कल



एक आधुनिक पौराणिक कहानी

एक “आधुनिक” पौराणिक कहानीआप सभी नेपौराणिक कहानियों मेंपढ़ा हीहोगा किदेवताओं औरदानवों काबार बारयुद्ध होताथा, औरबार बारदेवता हारतेहुए, भगवान् (अर्थात भगवान् विष्णु ) के दरबारमें गुहारलगते थे–त्राहि माम,त्राहि माम.भगवान् फिरकिसी नएदेवी यादेवता कीरचना करकेदेवताओं कोशक्ति प्रदानकरते थे.देवता विजयीहोते थेऔ



आईयूआई उपचार क्या है और किन परिस्थितयों में इसका उपयोग किया जाता है !

इंट्रायूटेरिन इनसेमिनेशन को आर्टिफ़िशियल इन्सेमिनेशन भी कहते हैं। आईयूआई उपचार सस्ते उपचारों में से एक है।





दुनिया के सबसे खूबसूरत राष्ट्रीय उद्यानों में : दिनेश डाक्टर

क्रोएशिया में लैंड होने के बाद बहुत जगह एक बात बहुत सारे क्रोएशयन ने कई बार जो बड़े गर्व से दोहराई वो है यहां के पानी के बारे में उनका विश्वास । ' आप बोतल के पानी में पैसा खराब न करे ! हमारे हर नल का पानी किसी भी बोतल के पानी से ज्यादा अच्छा और शुद्ध है । क्योंकि मेरे अपने देश में बहुत सारी बीमारियों



शुक्राणु दान की प्रक्रिया क्या होती है?

शुक्राणु डोनेट की प्रक्रिया



नागरिकता संशोधन अधिनियम का विरोध कोरी रजनीति

नागरिकता संशोधन अधिनियम का विरोध कोरी राजनीतिडॉ शोभा भारद्वाज‘अनेक बुद्धिजीवी जिनमें मुस्लिम भी शामिल हैं ’नें मुस्लिन समाज को समझाने की कोशिश की है नागरिकता संशोधन विधेयक का किसी भी भारतीय की नागरिकता से कोई सम्बन्ध नहीं है फिर भी विरोध प्रदर्शन के बहाने तोड़फोड़ हिंसा क्यों ?मुस्लिम समाज कई राजनीतिक



बाल दिवस : बच्चों, तुम्हें गंदे स्पर्श, पकड़ और अश्लील इशारों को समझना होगा...

मेरे बच्चों,सचेत रहना... बस कल ही गुड़िया मुझसे यह सवाल पूछ रही थी, 'मम्मी यौन उत्पीड़न का मतलब क्या होता है?' मैने खुद को संयत करने की कोशिश की थी। मैं अपने चेहरे पर 'जोएल' (बेटा) की आंकती हुई नज़र को महसूस कर सकती थी। वह मेरे भीतर चलते द्



कैसे रुके वायु प्रदूषण :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*पंचतत्त्वों से बने मनुष्य को इस धरा धाम पर जीवन जीने के लिए मनुष्य को पंचतत्वों की आवश्यकता होती है | रहने के लिए धरती , ताप के लिए अग्नि , पीने के लिए पानी , सर ढकने के लिए आसमान , एवं जीवित रहने के लिए वायु की आवश्यकता होती है | मनुष्य प्रत्येक श्वांस में वायु ग्रहण करता है | श्वांस लेने के लिए



पवित्र मास कार्तिक ...

https://duniaabhiabhi.com/holy-month-karthik-the-perfect-occasion-for-merit/



विप्र धेनु सुर संत हित लीन मनुज अवतार

विप्र धेनु सुर संत हित लीन्ह मनुज अवतार डॉ शोभा भारद्वाज रावण के भय से सम्पूर्ण ब्रह्मांड थर्राने लगा दस सिर बीस भुजाओं एवं ब्रह्मा जी से अमरत्वका वरदान प्राप्त राक्षस राज रावण निर्भय निशंक विचर रहा था हरेक को युद्ध मेंललकारता |रावण का पुत्र मेघनाथमहत्वकांक्षी ,रावण के समान बलशाली पिताको समर्पित



समय गणना की वैदिक पद्धति

तिथि के लिए आकाश-दर्शन तथा वेधशाला का प्रयोग(वैदिक पञ्चाङ्गपद्धति में वेधशाला तथा दृक् गणना की उपयाेगिता)------------हरितालिका तृतीया (तीजा) पर्व सेप्टेम्बर १ तारिख (भाद्र १५ आदित्यवार) को अथवा २ तारिख (भाद्र १६ सोमवार) को मनाना चाहिए इस विषय में विज्ञों के बीच विवाद चल रहा है । इस प्रसङ्ग में वैदि



Archana Ki Rachna: Preview "देखो फिर आई दीपावली"

देखो फिर आई दीपावली, देखो फिर आई दीपावलीअन्धकार पर प्रकाश पर्व की दीपावली नयी उमीदों नयी खुशियों की दीपावली हमारी संस्कृति और धरोहर की पहचान दीपावली जिसे बना दिया हमने "दिवाली"जो कभी थी दीपों की आवलीजब श्री राम पधारे अयोघ्या नगरीलंका पर विजय पाने के बादउनके मार्ग में अँ



राधाष्टमी :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*संपूर्ण सृष्टि का सार प्रेम को कहा गया है | प्रेम क्या होता है ?? प्रेम में क्या प्राप्त होता है ?? यदि इसका दर्शन करना हो तो श्री राधारानी का जीवन चरित्र अवश्य देखना चाहिए | जिनके नाम के बिना भगवान कृष्ण का नाम अधूरा माना जाता है , जिनकी पूजा किए बिना भगवान श्री कृष्ण नहीं प्राप्त हो पाते हैं , ऐस



पर्यूषण पर्व - दशलाक्षण पर्व

पर्यूषण पर्व - दशलाक्षण पर्वमित्रों !भाद्रपद कृष्ण द्वादशी से भाद्रपद शुक्ल चतुर्थी तक चलने वाला श्वेताम्बर जैनसम्प्रदाय का अष्टदिवसीय पर्यूषण पर्व कल संपन्न हुआ है और आज यानी भाद्रपद शुक्लपञ्चमी से दिगंबर जैन सम्प्रदाय के दशदिवसीय पर्यूषण पर्व अर्थात क्षमावाणी पर्व औरदशलाक्षण पर्व का आरम्भ हो चुका



भाद्रपद शुक्ल पञ्चमी

भाद्रपद शुक्लपञ्चमीकल रविवार को भाद्रपद शुक्ल द्वितीया यानीहरतालिका तीज का व्रत है | उसके बाद सोमवार से श्री गणेश चतुर्थी से गणपति कीउपासना का दशदिवसीय पर्व आरम्भ हो जाएगा | मंगलवार को भाद्रपद शुक्ल पञ्चमी – जो किऋषि पंचमी के नाम से जानी जाती है | और मंगलवार से ही दिगम्बर जैन सम्प्रदाय कादशदिवसीय पर



आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x