मी



मोबाईल

पहले ज़रुरत थी आदमी को, केवल रोटी- कपड़ा - मकानआज लग रहा है यह नारा, कि ' मेरा मोबाईल महान 'क्रांति लाई है इसने, आया युग जानकारी काघर बैठे काम हो गए, नहीं इंतजार अब बारी काई - कॉमर्स से घर पहुंचते हैं छोटे - बड़े सामानआज लग रहा है यह नारा, कि ' मेरा मोबाईल महान 'बना यह घर का सदस्य, बसा यह सबके दिल म



शुक्र का मीन में गोचर

शुक्र का मीन राशि में गोचर रविवार 2 फरवरी, माघ शुक्ल नवमी को 26:18 (अर्द्धरात्र्योत्तर दो बजकरअठारह मिनट) के लगभग बालव करण और शुक्ल योग में समस्त सांसारिक सुख, समृद्धि, विवाह, परिवार सुख,कला, शिल्प, सौन्दर्य,बौद्धिकता, राजनीति तथा समाज में मानप्रतिष्ठा में वृद्धि आदि का कारक शुक्र अपने परम मित्र शनि



वसन्त पञ्चमी की हार्दिक शुभकामनाएँ

वसन्त पञ्चमी की हार्दिक शुभकामनाएँआया वसन्त, आया वसन्त, लो फिर से मदिराया वसन्त | वसुधा के कोने कोने में छाया वसन्त छाया वसन्त ||लो फिर से है आया वसन्त, लो फिर से मुस्कायावसन्त |हरियाली धरती को मदमस्त बनाता लो आया वसन्त ||और अंग अंग में मधु की मस्त बहारों सा छाया वसन्त |आया वसन्त, आया वसन्त, लो फिर



जिंदगी को सफल बनाने वाले स्वामी विवेकानंद के 25 सर्वश्रेष्ठ विचार

भारत में बहुत से ऐसे महापुरुष हुए जिनके बताए मार्ग पर चलकर हम सभी एक बेहतर जिंदगी को मुकाम दे सकते हैं। उनमें से एक स्वामी विवेकानंद जी थे जिन्होंने लोगों को हमेशा अच्छाई के रास्ते पर चलना सिखाया। उन्होंने लोगों को जिंदगी जीने का सही तरीका बताया और देख के लिए भी हमेशा



मीन राशि के लिए शनि का मकर में गोचर

शनि का मकर में गोचरमाघ मास की अमावस्या को यानी शुक्रवार 24 जनवरी 2020 को दिन में नौ बजकर अट्ठावन मिनट के लगभग अनुशासन और न्याय का कारक मानाजाने वाला ग्रह शनि तीन वर्षों से भी कुछ अधिक समय गुरु की धनु राशि में व्यतीतकरके चतुष्पद करण और वज्र योग में उत्तराषाढ़ नक्षत्र पर रहते हुए ही अपनी स्वयं कीराशि म



संघर्ष पथ

2012 से दो वर्ष पूर्व यानी 2017 तक हर साल, मैं किसी न किसी एग्जाम के फाइनल राउंड तक पहुंचता था और फिर बाहर हो जाता था। फाइनल लिस्ट में हमेशा कुछ नंबरों से रह जाता था, हर बार।जब मैं कोई एग्जाम पास नहीं कर पाया, मुझे लगा मैं हार गया हूं। कुंठित हो गया और कुछ समय पश्चात दुख और अवसाद से घिर गया। अवसाद च



तिल गुड़ खाइए मीठा - मीठा बोलिए - मकर संक्राति

हल्दी और कुमकुम का टीकालगाकर हो शुभारंभ.तिल और गुड़ की मिठास वाणी में जाए घुल.सुगंधित सुमन से सुवासित हो मनमंदिर.अनंत आकाश में अपना अस्तित्व दर्ज कराए रंगबिरंगी पतंग.धनु राशि से मकर में जब हो सूर्य का आगमन तब मानते सभी मिल जुलकर मैत्री और स



प्याज पर हाय -हाय क्यों ?

प्याज पर हाय हाय क्यो ? डॉ शोभा भारद्वाज आजकल सेलिब्रिटी प्याज के टौप्स दिखा रहीं हैं पहनते हैं या नही पता नहीं हाँसोशल मीडिया में चर्चित होने का तरीका अवश्य है |हमारे यहाँ एक एनआरआई परिचितमहिला आईं उनका यूएस में अपना रेस्टोरेंट था जिसमें भारतीय व्यंजन बनाये जाते है



भविष्य की आवाज।

भविष्य की आवाज।जुबा चुप ही सही सत्य बोलताहैं, गरीब ही अमीरी को जानता हैं।लम्हे कितने भी दुख भरे होजीवन की राह मे, चलते रहो मंजिल की तरफ। जिसे मजदूर अपनी जरूरत समझताहैं, अमीर उसे अपना सौक समझता हैं।मोटा दाना खाने वाले को दिमागसे मोटा कहते हैं,चना खाकर घोड़ा दौड़ता हैं।मक



दिसंबर की 1 तारीख़ को है विवाह पंचमी, क्या है इस दिन की विशेषता

इस वर्ष विवाह पंचमी (Vivah Panchami)1 दिसम्बर को है और इस दिन को हिन्दू धर्म में त्यौहार के रूप में बहुत धूम-धाम से मनाया जाता है। दरअसल, आज के दिन भगवान राम (Ram) और सीता (Sita) माता का विवाह सम्पन्न हुआ था। हिन्दू पंचांग के अनुसार, मार्गशीर्ष के महीने में शुक्ल पक्ष के पांचवें दिन विवाह पंचमी मनाई



लडके लड़किया दोस्त नहीं by नीतेश शाक्य

लडके लड़कियां प्रेमी प्रेमिका बन सकते दोस्त नहीं प्रेम बासना कर सकते स्नेह नहीं, लड़कियां कहती एक या उससे अधिक दोस्त है, मेरे अनुभव के अनुसार यह बात अपने परिवार वालों से झूठ बोलती है| जबकि यह सच है कि हमने लडके लड़कियों पर मनोविज्ञानिकी अध्ययन किया उससे यह बात बिल्कुल हकीकत सिद्ध होती | हमारे लेख पड़ने



गोपाष्टमी

गोपाष्टमीकार्तिक शुक्लअष्टमी गोपाष्टमी के नाम से जानी जाती है | कल अर्द्धरात्र्योत्तर दो बजकर छप्पन मिनट से अष्टमीतिथि है जो कल सूर्योदय से पूर्व चार बजकर छप्पन मिनट तक रहेगी | यह पर्व विशेषरूप से मथुरा वृन्दावन और बृज के क्षेत्रों में मनाया जाने वाला पर्व है | इसीप्रकार का पर्व महाराष्ट्र और उसके आ



बीत रहा दशक

एक दशक बीतने वाला है, बहुत कुछ बदल गया है, बदल रहा है। अगले दशक में जाने से पहले एक नजर देख ले। ये दशक बेटियों की दहशत और आदमी की वहशीपन की आबादगी का रहा। 16की निर्भया और दुधमुंही बच्चियों के जिस्म को नोचने का रहा। नोटों से गांधी गायब नहीं हुआ, बस ये शुक्र रहा। नोट गायब करने की साजिशों का रहा। कितन



जानिए भाग्य बड़ा या कर्म

<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <w:ValidateAgainstSchemas></w:Val



लक्ष्मी पूजन का मुहूर्त

लक्ष्मीपूजन का मुहूर्तजैसा कि सभी जानते हैं कि दीपावली बुराई, असत्य, अज्ञान, निराशा, निरुत्साह, क्रोध, घृणा तथा अन्य भी अनेक प्रकार के दुर्भावोंरूपी अन्धकार पर सत्कर्म, सत्य, ज्ञान,आशा तथा अन्य अनेकों सद्भावों रूपी प्रकाश की विजय का पर्व है और इस दीपमालिका केप्रमुख दीप हैं सत्कर्म, सत्य, ज्ञान, आशा,



CA इंटरमीडिएट कोर्स की पूरी जानकारी

CA इंटरमीडिएट कोर्स की पूरी जानकारी CA इंटरमीडिएट कोर्स CA कोर्स के दूसरे चरण की परीक्षा होती है | CA कोर्स में फाउंडेशन की परीक्षा पास करने के बाद आप CA इंटरमीडिएट की परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन करवा सकते है | CA इंटरमीडिएट की परीक्षा फाउंडेशन की तुलना में थोड़ी कठिन होती है | और इसे पास करने के लिए



कश्मीर में बिक रहे ‘I luv Burhan Wani’, ‘Mere Jaan Imran Khan’ लिखे सेब, क्या ये है आतंकियों की चाल?

भारत में हर जगह की कोई ना कोई चीज फेमस है और अगर कोई उस जगह जाता है तो लोग बोलते हैं वहां का ये प्रसिद्ध चीज जरूर लाना। इसी तरह से कश्मीर का सेब पूरे एशिया में फेमस है और सभी जानते हैं कश्मीर में सेब के हजारों बगान है और पूरे भारत में सेब कश्मीर से ही सप्लाई होते हैं। खासकर जम्मू की बाजारों में सेब



महर्षि बाल्मीकि की जयंती के शुभ अवसर पर महर्षि बाल्मीकि द्वारा रचित रामायण की भूमिका

‘महर्षि बाल्मीकि’ द्वारा रचित रामायण की भूमिका डॉ शोभा भारद्वाज महाराज जनक की पुत्री अयोध्या के राजाधिराज श्री राम की गर्भवतीभार्या सीता निशब्द गंगा को प्रणाम कर उनमें प्रवेश कर गई | सीता को भगवती गंगामें ही अपना सुरक्षित घर नजर आया| उन्हें ऐसा लग रहा था जैसे भागीरथी उन्हें बुला रही हों |भगवती गंग



Archana Ki Rachna: Preview "मनमर्ज़ियाँ"

चलो थोड़ी मनमर्ज़ियाँ करते हैं पंख लगा कही उड़ आते हैंयूँ तो ज़रूरतें रास्ता रोके रखेंगी हमेशापर उन ज़रूरतों को पीछे छोड़थोड़ा चादर के बाहर पैर फैलाते हैंपंख लगा कही उड़ आते हैंये जो शर्मों हया का बंधनबेड़ियाँ बन रोक लेता हैमेरी परवाज़ों कोचलो उसे सागर में कही डूबा आते हैंपंख लगा



शरद पूर्णिमा

शरद पूर्णिमारविवार तेरह अक्तूबरको आश्विन मास की पूर्णिमा, जिसे शरद पूर्णिमा के नाम से जाना जाता है का मोहकपर्व है | और इसके साथ ही पन्द्रह दिनों बाद आने वाले दीपोत्सव की चहल पहल आरम्भहो जाएगी | आज अर्द्धरात्र्योत्तर 12:36 परपूर्णिमा तिथि आरम्भ होगी और कल अर्द्धरात्र्योत्तर 2:38 तकरहेगी | देश के अलग



आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x